इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

गुरुवार, 15 अप्रैल 2010

भारत ने कबड्डी विश्व कप जीता , IPL की चीयर गर्ल्स ने दावत दी


खबर :-भारत ने कबड्डी विश्व कप जीता

नज़र:-अच्छा अबे ये कब हो गया यार । बताओ भला विश्व कप जीत लाए और यहां रत्ती भर भी हलचल नहीं , कोई स्वागत सत्कार नहीं । जब पुरस्कार , सम्मान राशि की भी कोई बात नहीं है तो फ़िर उन्हें विज्ञापन कौन देने की सोचेगा । बताओ भला ये भी कोई खेल है , विश्व कप भी जीत लाए तो भी धेले भर की पूछ नहीं । अच्छा क्या कहा .....ऐसा नहीं है । उनका भी स्वागत करने की पूरी योजना बनाई गई है । IPL की एक चीयर गर्ल ने अपने एक दिन के मैच में मिली फ़ीस से ही पूरी टीम को शानदार जलसा दावत देने की सोची है । सुना है कि सभी चीयर गर्ल्स ने ये पेशकश की है कि वे अपने अपने गुल्लक को फ़ोड के उसमें से जो भी चिल्लर चुनमुच निकलेगा उसीसे , कबड्डी टीम के लिए घर बार, कार सबका इंतज़ाम करवा लेंगे । ये सब देखते हुए बहुत से कबड्डी खिलाडियों ने अगले साल IPL में चीयर गर्ल्स बनना ही बढिया औपश्न समझा है । ये भी ठीक है ...यार कबड्डी के विश्व कप जीतेने से तो अच्छा ही है
_____________________________________________________
खबर : सानिया शोएब की शादी संपन्न


नज़र :- नहीं ईईईईईईईईई........कह दो ये नहीं हो सकता । मेरा मतलब इत्ती जल्दी क्या जरूरत थी । अभी तो सप्ताह भर की एक्सक्लुसिव खबरें बनी पडी थीं । अभी तो इस रिश्ते से भारत पाकिस्तान के रिश्तों में शुरू होने वाले नए अध्याय पर जाने कितनी बडी राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय बहस होनी थी । सत्यानाश हो , मीडिया के इतने जी तोड प्रयासों के बावजूद , इतनी मेहनत के बावजूद भी , सानिया ने दुनिया की परवाह नहीं की । चटपट सब कुछ कर धर लिया । जे तो गल्त बात है जी एकदम गल्त है जे .......है कि नहीं
_______________________________________________________
खबर :- प्रधानमंत्री साधेंगे पाकिस्तान पर निशाना 


नज़र :- वाह इसे कहते हैं बोल्ड एंड ब्लोड ,प्रधानमंत्री । देखा मैं न कहता था कि प्रधानमंत्री सब कुछ पूछ कर नहीं करते कहते हैं । वैसे निशाना साधेंगे मतलब नहीं समझे ,कहीं कौमनवेल्थ गेम्स में तो हिस्सा नहीं लेने वाले हैं । नहीं नहीं उनका कहना है कि बिना पाकिस्तान की मंशा समझे वो कोई बात नहीं करेंगे । हें हें हें , अबे इसे ही कहते हैं क्या निशाना साधना । लो कल्लो बात ये निशाना तो आजादी के बाद से अब तक सारे ही नेता  मंत्री  साधते रहे हैं । खाली बंदूक ढन ढन । यार तुम मंत्री लोगों से अच्छा देश का सिर्फ़ एक संतरी है , उसने जिस दिन कह दिया न कि साधेंगे निशाना तो साध दिया उस
___________________________________________________________
खबर :-सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों में घटिया दवाओं की आपूर्ति 


नज़र :- ये क्या खबर हुई यार ,मतलब, पब्लिक को काहे क्न्फ़्यूज़ किया जा रहा है भाई । या घटिया कह लो या सरकारी कहो  एक ही बात को दो बार अलग अलग कह के क्यों कंन्फ़यूज़ किया आयं । अब सरकारी स्वास्थ्य केंद्र होगा तो घटिया ही होगा और जब घटिया होगा तो दवाई मिल ही रही है ये बडी बात है , उसमें भी क्या ये बताना पडेगा कि घटिया है , पब्लिक भी बौरा गई है सचमुच ही बडा विश करने लगी है शाहरूख खान के कहने पर । सरकार का अपना ही स्वास्थ्य इतना खराब चल रहा है ऐसे में उसके स्वास्थ केंद्रों में क्या आपको फ़ोर्टिस और अपोलो वाली फ़ैसिलिटी चाहिए जी बताईए तो भला ॥
__________________________________________________________________
खबर :- खाप पंचायतों को मिले लोक अदालत का दर्ज़ा 


नज़र :- हा हा हा ये खूब कही , अदालत जिन पंचों को उनके अभूतपूर्व फ़ैसलों के कारण फ़ांसी की सज़ा सुना रही है , उन्हें भी लोक अदालत का दर्ज़ा चाहिए । ओह अच्छा अच्छा इसलिए चाहिए होगी कि इसके बाद जो ये गोत्र मूल , प्रेम विवाह , जैसे गंभीर ...अति गंभीर , और सबसे जरूरी मुद्दों पर लंबित करोडों वादों के निपटारे के लिए ये खाप महापंचायतें ..ओह माफ़ी ..मेरा मतलब ये लोक अदालतें ..जल्दी से ..बल्कि एक ही दिन में निपटा सकें । मुकदमा तो मुकदमा वे तो सारा मामला ही एक दिन में सुलटा लेते हैं , सीधा दोनों युगलों को फ़ांसी पर टांगने का हुक्म दे कर । इतनी बढिया और त्वरित न्याय व्यवस्था के लिए तो इन्हें ये अधिकार मिलना ही चाहिए । पर पहले खुद बेचारे अपनी सज़ा से बच तो जाएं ॥
_________________________________________________________

11 टिप्‍पणियां:

  1. आप तो खबरों की खबर निकालने में माहिर हैं....बहुत बढ़िया.. :):)

    उत्तर देंहटाएं
  2. नहीं ईईईईईईईईई........
    ये कौन सी कसक बोल रही है.
    बहुत बढिया

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया! ये काम करने का कभी कभी अपना भी मन करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. द्विवेदी जी ,सर,
    इनमें से कौन सा काम करने का मन करता है ये तो आपने बताया ही नहीं , कबड्डी कप जीतने का या सानिया से ...., या कि पाकिस्तान पर निशाना साधने का ????

    उत्तर देंहटाएं
  5. अबे ... वाला बिंदास अंदाज़ गुदगुदा जाता है

    वैसे इस बार खबरें ही अच्छी नहीं थीं तो उनकी खबर कैसे अच्छे से कैसे ली जाती!

    उत्तर देंहटाएं
  6. द्विवेदी जी शायद खबरों की खबर लेने वाले काम की बात कर रहे :-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. .... शानदार झन्नाटेदार-फ़र्राटेदार खबरें !!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपने सही खबरों की बढिया खबर ली मनोज जी।

    उत्तर देंहटाएं
  9. ये सब देखते हुए बहुत से कबड्डी खिलाडियों ने अगले साल IPL में चीयर गर्ल्स बनना ही बढिया औपश्न समझा है
    अब सरकारी स्वास्थ्य केंद्र होगा तो घटिया ही होगा और जब घटिया होगा तो दवाई मिल ही रही है ये बडी बात है


    Phir se bahut achche.

    उत्तर देंहटाएं

हमने तो खबर ले ली ..अब आपने जो नज़र डाली है..उसकी भी तो खबर किजीये हमें...

Google+ Followers