इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

शनिवार, 19 दिसंबर 2009

रूस में दिखी उडनतशतरी : अबे ब्लोग्गिंग भी करती है क्या




खबर :- रूस में देखी गई उडनतशतरी

नज़र :- अबे रूसियों .....तुम लोगों का यार जब से स्टेट छोटा हुआ है न ..तभी से इत्ती सी बात भी तुम लोगों के लिए खबर बन जाती है यार कमाल है । बताओ हमारे यहां तो बच्चे बच्चे ने उडनतशतरी को देखा है ....अबे हमारी वाली उडनतशतरी तो ब्लोग्गिंग भी करती है .....और बीडी पी के उसके कवर पर इत्ते धांसू धांसू गज़ल लिखती है कि ....चचा गालिब होते ..तो कबके बोतल छोड के बीडी शुरू कर देते । तुम लोगों ने कोई प्लेट श्लेट थाली वैगेरह भटकते हुए देख ली होगी तो इतराने लगे । हमारी वाली को देखो गश खा के न गिर गए तो कहना ...हमारी वाली है एक दम क्यूट सी गोलमोल ....ऐसा लगता है गुलाब जामुन ....खुद अपने इंसानी वर्जन में खूब सारा मीठा रस लेकर हमारी प्लेट में चली आई है और हम गडप गडप खाए जा रहे हैं स्वाद से । अब बताओ थी क्या ऐसी उडनतशतरी ........???????? नहीं न ...॥
_____________________________________________________________________

खबर :-कसाब अपने बयान से पलटा

नज़र :- हाय राम इत्ती घनघोर फ़ैसिलिटी के बाद भी पलट गया । मुआं, नासपीटा ,मान ही लेता चुप करके तो हम कौन सा उसे फ़ांसी पे चढा रहे थे । और फ़िर हमने कौन सा उसके कहने से सीधा सीधा मान लेना था ....हमारे पास अपनी सी बी आई टाईप की एक धुंआधार पुलिस है जो बिना कहा मनवा लेती है और जब मान लो तो उसे बिना किया भी साबित कर सकती है । यार तुम कह रहे हो तुमने पुलिस की पिटाई के डर से ऐसा कहा था ....। यार ये तो एक दम फ़ाऊल है भाई .....हम तो सुन रहे थे पुलिस तुम्हें शाही कबाब वैगेरह उडा रहे थे ..और माशा अल्लाह तरह तरह की फ़रमाईशें भी पूरी हो रही थी । फ़िर भी
अच्छा सिला नहीं दिया तूने मेरे प्यार का ,
थोडा सा तो रखता मान हमारे लाड का ॥

तुमने यार एकदम पाकिस्तानी टाईप हरकत की है , जाओ अब हमारा देश और हमारे नेता , तुम कसाबों के वादों पर कभी भी यकीन नहीं करेंगे ।.....
_____________________________________________________________________________


खबर :- ममता ने खोली लालू की पोल

नज़र :- आखिरकार खोल ही दी आपने भी ममता बेन । चलो आखिर रेल मंत्री बनने का असली उद्देश्य तो सार्थक हो गया ...अब खुशी खुशी आप रेलवे पर ध्यान दे सकती हो ....वो दुरंतो चलाने वाली थी न । एक तो ये लालू जी भी न पता नहीं कितने पोल गाड दिये ..और कहां कहां पर ....जिसको देखो उखाडने में लग जाता है , खोलने में भिड जाता है । अब तो पोल पे टंगी हुई लालटेन का घासलेट भी खत्म हो गया है ....होता भी कैसे नहीं ...खुदे लेट के सारा घास-चारा ...चर गए । वैसे खोला का पोल में ममता बेन ने .......आयं का कहे का .......रेल मंत्री के रूप में लालू जी बहुते झूठ बोले गलतबयानी किए । हा हा हा ......लो ई कौन पोल थी भाई ......ई तो सब खुली खुलाई बात थी .....ई मंत्री लोग जो भी बोलता है......सब गलतबयानी ही तो ........फ़िर ......

____________________________________________________________________


खबर :- भाजपा के सारथी बने रहेंगे आडवाणी

नज़र :- हां भई ...आखिर उनका रथ ड्राईविंग लाईसेंस लाईफ़ टाईम तक का बना है और उन्होंने कौन सा रथ को ब्लू लाईन बस की तरह चलाना है ....एक्सीडेंत भी कितना कम करते हैं बताईये और स्टौप पर भी बराबर ब्रेक मारते हैं ...अरे इत्ता बढिया रथ ड्राईवर अगर महाभारत के टाईम पे पांडवों को मिला होता तो वे तो हस्तिनापुर तो हस्तिनापुर .......लंका भी जीत लेते । लो तो इसमें कौन आश्चर्य की बात है ....आखिर धर्म वाले रथ पे निकलते तो इत्ता तो खींच ही ले जाते न । क्या कहा ...नहीं जाते ..मतलब वे जबसे ड्राईवर बने हैं रथ पंक्चर हो गया ....जब ठीक से चलता ही नहीं तो एक्सीडेंट क्या खाक करेगा ...सारी सवारियां भी धीरे धीरे उतर के जा रही हैं । अब न चलता इनसे रथ वथ ............।
_______________________________________________________________________________

खबर :- अल्पसंख्यकों को १५ फ़ीसदी आरक्षण देने की सिफ़ारिश

नज़र :- कितने सिफ़ारिशी टाईप के नेता हो यार तुम लोग जब देखो सिफ़ारिश ......जब देखो सिफ़ारिश ......मगर एक बात बताओ ....ये अल्पसंख्यक हैं कौन ......देखो अपना वही पुराना रटा रटाया राग मत गाना यार । तुम लोगों का डाटा भी एक दम पुराने विंडोस की तरह आके रुक गया है ...अबे भैया नया लेटेस्ट वर्जन अपडेट करो ....तब पता चलेगा कि अब तो ...;.बाबा लोग भी ...बहुसंख्यक हो गए हैं .....यार बाबा क्या ये जो कसाब , अफ़जल जैसे ....लोग थे जो पहले गिनेचुने थे ...सुना है कि अब वे भी थोक के भाव पनप गए हैं ......वो भी नहीं रहे अल्पसंख्यक ...। अबे तो बचा कौन ...इस आरक्षण के झुनझुने को बजाने और सुनने के लिए ......। इससे अच्छा तो तुम लोग यार नौकरी वौकरी का कुछ जुगाड कर देते ....अल्पसंख्यक और बहुसंख्यक ...सब ट्राई मार लेते ॥
______________________________________________________________________________


खबर :- उत्तर प्रदेश में खतरे में बुजुर्गों की पेंशन

नज़र :- लो यहां बुजुर्ग खुद ही खतरे में पडे हुए हैं .......और चाहे उत्तम प्रदेश हो या ....कौनो और प्रदेश .....बुजुर्गों की हालत तो एक ही है भाई । फ़िर उत्तर प्रदेश मे तो जो भी बचा हुआ है थोडा बहुत बजट ...ऊ में या तो बहिन जी का हैप्पी बर्थ डे मनाया जाता है .....या फ़िर बहिन जी का हथिया सब का खुराक चलता होगा । अब ई के बाद जो बचता होगा ऊ में तनख्वाह ही मिल जाए तो गनीमत है ....पेंशन का कौन पूछे । हमको तो लगता है कि कहीं किसी दिन बहिन जी ई न कह दें कि जाओ बुजुर्ग सब को एक एक ठो हाथी दे दो । ऊ पर बैठ कर जब ऊ लोग सवारी करेंगे तो प्रदेश का छवि एकदम विदेश टाईप हो जाएगा ।
_______________________________________________________________________________


मंगलवार, 15 दिसंबर 2009

इटली में एक आदमी ने प्रधानमंत्री को पीटा ,बताओ लोकतंत्र हमारा मजबूत है , कैसे जी


खबर :- इटली में एक आदमी ने प्रधानमंत्री को पीटा

नज़र :- बताओ यार ! एक हम हैं खामख्वाह का हल्ला मचाते रहते हैं कि लोकतंत्र मजबूत है हमारा । बाहर वाले कभी प्रधानमंत्री पीट मारते हैं तो कभी राष्ट्रपति को जूता ठोंक देते हैं । हम बस वोट वोट खेल कर ही रह जाते हैं । कायदे से होना तो ये चाहिए कि हमें भी समय समय पर कम से कम एक आध छोटे मोटे एम एल ए , एम पी तो पीटते ही रहने चाहिए । देखिए इसके भी दो वाजिब कारण तो हैं ही हमारे पास । एक तो ये कि हमारे वाले मंत्री नेता , इटली अमरीका वालों से कहीं ज्यादा डिसर्व करते हैं ये पीटमपीट अवार्ड । दूसरा ये कि हम मारे न मारे, वे बेचारे खुद तो एक दूसरे के सेवा करते ही रहते हैं जब तब । तो ऐसे में आपको ये नहीं लगता कि हमें भी पूरी दुनिया को दिखा देना चाहिए कि लोकतंत्र में हमारा विश्वास सिर्फ़ थ्योरिटकली ही नहीं है ....तो बंधुओं आईये हम ये शपथ लें कि मौका मिलते ही ................हां .....पक्का पक्का ॥
_______________________________________________________________________________

खबर :- हिंदुस्तान में तालिबान

नज़र :- ओह ! हाय ! आखिरकार अब जाके ये सपना सच हुआ । चलो देर आयद दुरुस्त आयद । तालिबानी भी आखिरकार आ ही गए । चलिए अब उनके लिए हम नई झुग्ग्यों का निर्माण करें ताकि उसमें रहने के बाद थोडे दिन में उनके नए वोटर कार्ड बनवा दिए जाएं और फ़िर वे भी हमारे बांग्लादेशी मेहमानों की तरह यहां के पक्के , हमसे भी पक्के , नागरिक हो जाएं । यार कम से कम तब जब वे किसी बम विस्फ़ोट में पकडे जाएंगे तो .......कसाब वाला स्पेशल ट्रीटमेंट तो नहीं मिलेगा न । वैसे कुछ पता चला कि आए क्या करने हैं .....। ....क्या कह रहे हो सच्ची .....लो कल्लो बात सुना ..कह रहे हैं आजकल भारत में सबको औन डिमांड राज्य मिल रहा है तो ..उन्होंने सोचा लगे हाथ अपने लिए भी एक छोटा मोटा तालिबान मांग ही लें । ये तो यार नेक ख्याल है ...दे दो भाई दे दो ॥

_______________________________________________________________________________

खबर :- दिल्ली में सडक पर पैग पीना पडेगा पांच हजार का

नज़र :- अच्छा , यार ये फ़ैसिलिटी नई शुरू की है क्या ...?मगर सुना है सडक पर रिक्शे /ठेली/ रेहडी वाले बेचारे गरीब अद्धा/पव्वा मार के लोट मारते हैं उनसे भैया ....पांच हजार तो दूर ...पांच रुपये भी निकल आए न तो समझना ...लौटरी निकल आई तुम्हारी । अबे भले लोगों जुर्माना भी लगाया तो कितना पांच हजार और लगाया भी तो किस पर सडक वालों पे । यार तुम्हारी अक्ल पे न तरस आता है बस । सुनो हमारी मानो तो जुर्माना लगाओ पचास हजार और किन पे ...क्यों मजाक करते हो .....अब सफ़ेद कोठियों और फ़ार्म हाऊसों का नाम भी क्या मुझी से बुलवाओगे ..। देखो भैय्या फ़ायदा ही फ़ायदा है इसमें ..मानो या न मानो ॥

_____________________________________________________________________________

खबर :- महंगाई ने बढाई केंद्र की परेशानी

नज़र :- क्यों भाई ! केंद्र की भी कोई लुगाई है का ...? ऊ का भी कौनो किचन है का ....? अबे केंद्र को कौन सा टमाटर, प्याज, आलू खरीदना पडता है॥ अरे छोडो छोडो काहे की चिंता जी .....उ को कौन अपने मेहमान को चाय पिलानी पडती है कि चीनी का भाव पता चलेगा ॥ और ई कईसे संभव है कि केंद्र महंगाई भी खुदे बढाए......और ऊके बढने पर उ की परेशानी भी बढ जाए....। फ़िर कुअन अभी इलेक्शन होने जा रहा है जी .....तो काहे टेंशनियाते हैं जी ......आप तो बस जय हो ...जय हो गाईये......एक दम टैण टैणेन ....की धुन में

_______________________________________________________________________________

खबर :- मुफ़्त होगा गरीबों का इलाज

नज़र :- क्या कहा ....फ़िर से कहना ! यार अभी अभी तो कहा है कि चुनाव का मौसम अभी नहीं आया है तो फ़िर ये चुनावी वादों टाईप की घोषणा काहे भाई । धीरे बोलो यार !कहीं ऐसा न हो ई खबर सुन के कौनो गरीब बीमार मारे खुशी के ही चल बसे । मुफ़्त होगा गरीबों का ईलाज । बताओ यार ये तो कुल मिला के ही एक्सक्लुसिव खबर है ।गरीब का इलाज होगा ...यही क्या कम बडी खबर है .....मुफ़्त होगा ..ये सोने पे सुहागा मगर सच कहूं तो बस यहीं से यार तुम लोगों की इंटेशन पर शक होना शुरू हो जाता है । इलाज होगा तक तो ठीक है ..क्योंकि कई बार ईनाम विनाम और धर्म कर्म के चक्कर में तो कई बार मुफ़्त या कम दामों पर सरकारी जमीन झटकने के चक्कर में आप लोग कर लेते हो गरीब का भी इलाज ....मगर मुफ़्त ....चलो देखते हैं ...का होता है ।
______________________________________________________________________________

खबर :- आखिर कितने दिन तक लटकेगा सेतु समुद्रम मामला :सुप्रीम कोर्ट

नज़र :- लिजीये अभी तो झूला डला ही है अभी तो देखते जाईये कितना लटकता है । अजी सर इत्ते प्यार से इत्ता लंबा रस्सा डाला है तो लटकेगा ही न । अभी तो इसी के सहारे कुछ दिन चलेगी दुकान । देखिए न राम जन्मभूमि वाला चैप्टर भी ठंडा सा हो गया । इतने सालों बाद आयोग की रपट भी आई तो ...उसमें भी कुछ ऐसा हाथ नहीं लगा कि अगले चुनाव की नैय्या उसी के सहारे पार हो पाती । अब गोधरा शोधरा भी रोज रोज कहां होता है । फ़िर ले दे के यही तो बचा है ..लटकाने और लटकने वाला मुद्दा । फ़िर सर पुल का मामला है तो थोडा बहुत लटकेगा ही न । आप टेंशन न ल्यो सब आपे ठीक हो जाएगा जी ..मी लार्ड ॥

_______________________________________________________________________________

खबर :- सात दिन में आसाराम बापू आश्रम को खाली करनी होगी सरकारी जमीन

नज़र :- अरे क्यों भाई , ऐसा क्या हो गया । यार इस देश में तो संतों का तो किसी को ध्यान ही नहीं है । बताओ भला कित्ती टाईप टाईप की सेवा की इत्ते दिनों से । प्रवचन तो प्रवचन , शैम्पू ,तेल, अगरबत्ती जैसे हर्बल प्रोडक्ट तक बेचे अपने स्पेशल सेल स्कीम द्वारा जन कल्याण हेतु । फ़िर आश्रम मे वो स्पेशल वाली भक्ति अलग ..और उसका ये सिला मिला । एक तो पकड लिया , बदनाम हुए सो अलग अब रही सही कसर भी पूरी कर दी जमीन से बेदखल करके । बाबा ओ बाबा ...अरे रामदेव जी से मुखातिब हैं यार ....आपही कुछ करो ..यार अमरीका वाले आश्रम में ..पार्टनरशिप हो जाए क्या

_______________________________________________________________________________

रविवार, 29 नवंबर 2009

ऑन्लाइन कैट से हुई किरकिरी : रामप्यारी होती तो नहीं होती न


खबर :- औन लाईन कैट से हुई किरकिरी

नज़र :- लो जी अब तक हम समझ रहे थे कि औन लाईन चैट से ही किरकिरी होती है ...अब तो मुंआ औन लाईन कैट से भी किरकिरी ही हो गई ....देखिये तो ॥क्या खाक मैनेजर बनाएंगे जिनकी परीक्षा ही नहीं ले पाए....सुना कई जगह तकनीकी खराबी हो गई.....सर्वर खराब हो गए.....अबे कैसी औन लाईन कैट थी बे तुम्हारे पास ...ताऊ की औन लाईन कैट ....अरे अपनी सयानी बिल्लन ....रामप्यारी को ले जाते ॥फ़िर देखते कैसे झटपट हो जाता सब कुछ ....यकीन नहीं होता ....अबे उसकी पहेली ने टीप के सारे रिकार्ड ध्वस्त कर डाले हैं .....कोई सर्वर खराब नहीं .....तुममें अक्ल होती तब ....
__________________________________________________________________

खबर :- नेताओं को मारने की हिदायत दी थी लश्कर ने

नज़र :- हैं क्या कह रहे हो ....सच में ......या ये लश्कर वाले कब से ऐसा सोचने लगे ...उन्हें इतनी चिंता कब से होने लगी हमारे भले की ...जो ऐसी हिदायत देने लगे .....और यार हिदायत तो ठीक से दिया करो ॥पिछली बार पता नहीं कैसी खराब हिदायत दी ...गधे कहीं के सब के सब संसद के बाहर ही पकडे गए...एक नेता नहीं मारा इन्होंने .... तो भैया ज्यादा सोच विचार मत करो ...हम तो कहते हैं ...कल्लो ये काम फ़टाफ़ट .....और हां सुनो ...जितने ज्यादा मार सको ॥उतना अच्छा ......नहीं यार इतना इंन्वेस्टमेंट करते हो आप लोग ॥उसका कुछ तो रिटर्न आये ...बडा सा ॥हैं .......तो हम खुश हों लें कुछ दिन ....कि देर सवेर आप इस पर ध्यान दोगे सीरीयसली
__________________________________________________________________

खबर :- दोषियों को मिले ऐसी सजा जो नजीर बन जाए .....शशि थरूर ....

नज़र :- अमां ...भैय्ये ....ये तुम्हारा नाम थरूर नहीं ॥बल्कि ...जरूर होना चाहिए था ....यार तुम मानते ही नहीं ....बोलोगे जरूर .......दोषियों को .....यार यही तो रोना है.....पहली बात तो ये कि दोषी ...है यही साबित कैसे हो कि दोषी कौन है .....अब आपको साबित किया किसी ने दोषी .....और मान लो रो पीट के साबित कर भी दिया तो उससे होगा का ....अरे अपील शपील खाली क्रिकेट में ही थोडे होता है ....भैय्या .....इंहा के कानून में भी होता है ...और का खूबे जोरदार होता है ...समझिये कि सजा के बदले मजा ही मजा होता है ...अब आप उसको नजीर बनाईये कि ...वजीर कुछो फ़र्क नहीं पडता है ॥ __________________________________________________________________ खबर :- पद सात, और आवेदन आए तेरह सौ ॥

नज़र :- हांय़ .....इत्ता गजब .....ये कै गुना हो गया भाई ....अबे पद काहे का निकाल दिया ...डायरेक्ट मंत्री शंत्री तो नहीं न बना रहे हो भैया ....बता दो टाईम से ....का होगा ॥यही न कि ....तेरह सौ एक हो जाएगा .....॥ का कहे हिंदी लेक्चरर का पद है हिमाचल विश्वविद्यालय में ......। अरे सच्ची ....वाह जी वाह ...और यहां ढोल बज रहा है कि हिंदी कमजोर हो रही है .....भैया कमजोरी मा ई हालात है .....तो जब मजबू्त हुई जाएगी तब का होगा जी ....हमको तो लगता है .......सात पद के लिए....कुल सात हजार आवेदन आ जाएंगे ॥ यूनिवर्सिटी वालों .....का करोगे ....अब ॥यार का किया जाए.....ई कसूर किसी का नहीं .....नसीब नसीब की बात है ...बताओ ई देश में शिक्षा का ई हाल है तौबा तौबा ...॥
__________________________________________________________________ खबर :- बाल आयोग ने भेजा सरकार को नोटिस

नजर :- ओह ये तो बडा ही भारी काम किया आयोग ने ......आज तक कभी ऐसा नहीं हुआ ....हाय राम अब सरकार क्या करेगी ....यार कहीं ऐसा हो कि सरकार इन नोटिस का नोटिस लेकर शर्म के मारे ....अपनी लुटिया ही डुबो दे ....या फ़िर कहीं गुस्से में कोई बडा क्रांतिकारी कदम उठा ले ..... क्या कहा सरकार ऐसा कुछ नहीं करेगी ॥पहले भी कभी सरकार ने ऐसे नोटिसों पर कोई ध्यान नहीं दिया है ....अच्छा फ़िर ...आयोग ने नोटिस काहे का भेजा है ओह
ओह अच्छा अच्छा...आयोग नोटिस भेज कर अपनी परंपरा निभा रहा है ....और सरकार उस पर बिल्कुल भी ध्यान न देकर अपनी परंपरा .....। तो हे देशवासियों हमारा ये नैतिक, सामाजिक, पारंपरिक, और जितने भी इक टाईप का कर्तव्य है ....वो बनता है कि हम इन दोनों को अपनी अपनी परंपरा निभाने दें । ...
___________________________________________________________________

खबर :- ब्रिटेन में बनी सबसे असरदार बीयर ॥

नज़र :- लो जी कल्लो बात....यार ये अपने दीपक (दीपक मशाल ) को क्या जल्दी थी इतनी आने की ...थोडे दिन रुक कर आते छोटे मियां तो ...उस असरदार का असर यहां तक देखने को मिल जाता ॥ वैसे हमें पूरी से भी ज्यादा (चलो खस्ता कचौडी कह लेते हैं ....)उम्मीद है कि इस खबर पर अपने उडन जी की नजर जरूर पडी होगी ......आखिर उनकी भी कुछ मजबूरियां हैं ....और मजबूरी तो मजबूरी होती है ...है कि नहीं ......अरे कहिए न ...॥

______________________________________________________________________

जाईये बकिया खबर सब बाद में ......

गुरुवार, 26 नवंबर 2009

भारत दुनिया की उभरती ताकत : बस कसाब का कुछ नहीं कर पाया

खबर :- चीन पर मनमोहन सख्त ......

नज़र :- सर जी, चीन पर तो आप सख्त नरम होते रहना ॥ और वो तो आप सालों साल होते भी रहे हो उससे हमें क्या ॥ हमें तो ये बताओ महाराज कि चीनी के बारे में आप क्या सोच रहे हो जी ..?
वे नाटे कद के होते हैं ......उनकी शक्लें एक सी होती हैं ....और....

अरे रुको सर, संता बंता डौट कौम , ...यार मैं चीनी यानि शक्कर की बात कर रहा हूं । अमां क्या भाव चढाएं हैं उसके । कम्बख्त इतनी सख्त हो गई है कि खरीदते खरीदते तो हमही घुल जाते हैं । उपर से सुना है कि गन्ना किसानों को कुछ दे ही नहीं रहे हो .....आखिर ये माजरा क्या है भाई....बस जय हो ..जय हो ...गाते रहें क्या ....
______________________________________________________

खबर :- मांगे नहीं मानी तो होगा आंदोलन ...

नज़र :- क्या मतलब, मान लो मांगे मान ली तो क्या नहीं होगा आंदोलन ...? अबे पगला गए हो का ......देश आजाद है भाई...और इसी बात के लिए तो आजाद है जी ..मेरा मतलब आजादी का सबसे सच्चा मतलब तो इन्हीं लोगों ने समझा है । मांगो वांगो की कंडीशन छोडो ..डायरेक्ट आंदोलन छेडो, जुलूस निकालो, सडकों पर उतर जाओ, बस ट्रेन फ़ूंको ....। मगर यार ये सब ...आप लोग .गरीबी, अशिक्षा,बेरोजगारी ,कुपोषण भुखमरी जैसी फ़ालतू बातों के लिए अपना टाईम खोटी मत करना यार प्लीज ....बांकी सब चीजों के लिए करो ...

________________________________________________________
खबर :-भारत दुनिया की उभरती ताकत ....

नज़र :- देखा मान गए न ...अबे उभरती ताकत है ...कोई मामूली बात नहीं है ये ..मगर यार ओबामा..तुमने वो फ़्रैंडशिप वगैरह तो चीन के साथ दिखाई है ...और फ़िर मुझे एक डाऊट भी है ..जो बंदे सीधे आके दनदनाते हुए ..हमारे किसी शहर में घुस कर सैकडों लोगों को मार देते हैं ...उन्हें हम सालों साल बिठा के दामाद की तरह खिलाते पिलाते हैं ...जबकि तुम लोगों ने तो शंका समाधान में ही ईराक और अफ़गानिस्तान की बैंड बजा दी .....। चल बे ओबामे फ़ट्टे पे चढा रहा है न ....असल में तो हमारी सरकार एक नंबर की फ़ट्टू और डरपोक है ..और वे बेवकूफ़ जिन्होंने उसे जिंदा छोडा..वहीं लगा देनी थी आग उसके मुंह में ..। खैर भाई तुम्हें तो इसलिये भी उभरती ताकत लगता होगी क्योंकि सारी दुकानदारी भारत के भरोसे ही चलने जो है ..।
________________________________________________________

खबर :-आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम में युवाओं को मौका दिया जाएगा ..।

नज़र :- अबे क्या खाक दोगे मौका तुम अपने युवाओं को वे ससुरे तो सब के सब भारतीयों से लडने भिडने में लगे हैं ..तुम्हारे पास कोई काम धाम तो बचा नहीं है और फ़िर क्रिकेट टीम में तुम्हारी बदकिस्मती से सिर्फ़ ग्यारह खिलाडी ही होते हैं ..तो बांकी बचे हुए जो युवा है ..वे पता नहीं कौन सी खुन्नस में टुन्न होकर पीट पाट कर रहे हैं हमारे बच्चों के साथ ...अबे तुम लोगों को शर्म भी नहीं आती ..हम लोग अतिथि देवो भव: जपते रहते हैं और तुम ...छि छि छि ..॥

_______________________________________________________

खबर :- शुरू से ही चूजी रहा हूं ..तुषार कपूर ..॥

नज़र :- ओहो ..तो ये है आपके सुपरस्टार बनने का राज । हमें लगा कि जीतू पुत्र और एकू अनुज (एकता कपूर जी और कौन ) होने के अलावा आपका नैसर्गिक सौंदर्य तथा अप्रतिम प्रतिभा ही वो लजवाब गुण हैं जिन्होंने आपको इतना बडा स्टारडम दिला दिया । वैसे अभी एक दो पिक्चर तो और करेंगे न ..या सीरियल वैगेरह में ही .......ओह कैसे बताएंगे ..चूजी हैं आप तो ॥

________________________________________________________

खबर :- आरक्षण समाप्त करना संभव नहीं ..राहुल गांधी ....

नज़र :- श्श्श.....धीरे बोलो सर आरक्षण को हटाने लदाने की बातें करना अब इस देश में एक अपराध है ..और राजनेताओं के लिये तो किसी भी तरह अभिशाप से कम नहीं ..क्या पता उसका क्या कैसा मतलब निकाला जाए।
फ़िर आरक्षण से तो देश में कितना क्रांतिकारी बदलाव आ गया है ..बस्तर के आदिवासी हों या गोंड के आदिवासी ..बिहार के किसी छोटे से कस्बे के बहुत नीची जाते वाले गरीब मजदूर ..आखिर उनके लिये ये किसी वरदान से कम थोडी है ....क्या कहा ...उन्हें तो मालूम भी नहीं है ..वे तो आज भी रोटी के जुगाड में ही जी मर रहे हैं ...अबे तो क्या खाक होगा ये आरक्षण ले के ॥

बस जी रात बहुते हो गया है आज तो एतने पढिये ..बकिया समाचार कल ..


....

रविवार, 8 नवंबर 2009

महिला हाकी टीम की दोहरी कामयाबी : तो क्या हुआ , ये खबर क्रिकेट में भारत की हार से बडी तो नहीं .



खबर :- महिला हाकी टीम की दोहरी कामयाबी...

नज़र :- लो तो क्या हुआ ..देखिये जी दोहरी हो ,तिहरी हो ..या पचासवी कामयाबी , ...ये क्रिकेट टीम की हार से बडी खबर तो नहीं है न , ये तो आप मानते हैं न ।आप कहेंगे हुंह ...अब तो ये भी कोई खबर नहीं कि भारत की टीम हार रही है ...वो तो रोजे हार रहे है जी ...। देखिये देखिये ..ई मामला में हम आपका साथ नहीं देंगे ..क्रिकेट के मामले में हम सेंटी और बहुते टची हैं जी । अब चाहे पूरा सीरीज हार जाएं ..मुदा खबर तो इहे रहेगा जब तकले ..एको मैच रहेगा तब तक..। और फ़िर महिला खेल और खिलाडी कब से खबर बन गये भैया इस देश में । जब क्रिकेटिया जनून में भी महिला क्रिकेट का कौनो पोजीशन नहीं है ..तो ई तो हकिया था ...हकिया का तो पहिले से ही हालत .....राष्ट्रीय टाईप से खराब है न जी । ..हां महिला खिलाडी का खबर तो एके पोजीशन में हो सकता है ..। अब देखिये न अभी अपनी ..उडनपरी जी ..माने पी टी उषा जी ने खबरों में स्थान पाया था न ....तो काहे गम करते हैं ॥

_____________________________________________________________________

खबर :- मिशेल ओबामा करेंगी रिएल्टी शो ..

नज़र :- हां ..हां ..बताईये न कौन सा करेंगी ...॥ अपने लिये पति चुनेंगी ...या बच्चे पालने हैं दूसरों के ...वैसे डांस और गाने का भी बहुते शो है ..हम लोगन के पास ...मुदा आपका वाला सुर और स्टेप्स कौनो समझ नहीं पाएगा ..और फ़िर जल्दीए बाहर हो गए तो ..आप अमरीका लोग कहियेगा कि ठीक से सम्मान नहीं किए ।अरे हां बिग बौस भी तो है ....लेकिन ऊ में भी अब फ़ैदा न न है..देखिये काहे से एक ठो इंग्रेजन तो हईये है ....दूसरा ई कि आपके टक्कर का एके गो मल्टी मिलेनियर थे इस शो में ....अरे वही मिस्टर देशद्रोही ....ऊ भी बेचारे बौसदोही होके निकल लिये..। लोग पूछेंगे कि शादी का क्या बात है ..। अरे जब राहुलवा ..(बताईये इहां राहुलवा के नाम से याद आ गया ,.,..जौन राहुलवा का एको गो नहीं हुआ ..ऊको स्वयंवर करना चाहिये ..ऊ रोड शो कर रहा है ..जौन एक बार कर के ..छोड दिया ..ऊ दोबारा ..शादी कर रहा है ) दोबारा से ट्राई कर सकता है ...खाली शो के लिये कि पता नहीं काहे के लिये ......तो आपो काहे नहीं ....। अरे ओइसे भी ई शो ..एक नंबर के के कुंवारा सब के लिये नहीं है जी ..कौनो लफ़डा तो होना ही चाहिये न ..॥

_________________________________________________________________ खबर :-पाक सेना के शिविरों के पास हैं आतंकी अड्डे, ....ए के एंटनी .।

नज़र :- खबर को अपडेट किजीये जी ..पाकिस्तान के पास जतने भी अड्डे थे ....सब भाडे पर लगा दिये गये हैं .....यही तो है असली इन्वेस्ट्मेंट ...बताईये ..ई ससुर अमरीका में मंदी आ गया ई लोग को पैसा दे दे के ..और ई लोगन का चलाकी देखिये ...झुग्गी टाईप अड्डा सब बनवा दिया ...और दे दिया भाडा पर तलिबनिया सब को ।
लेकिन एक बात समझ में नहीं आया ..एंटनी साहब ..आप ई सब पर काहे ध्यान दे रहे हैं जी .....अरे होने दिजीये अड्डे ....लेकिन इसका मतलब ये थोडी है कि ...हम अपने प्यारे मेहमान ..कसाब अफ़ज़ल के लिये अपना खुद का इंतजाम नहीं कर सकते । हमने कर रखा है और खूब कर रखा है ..कह दिजीयेगा ..इसके लिए हम पाकिस्तान के अड्डे के मोहताज नहीं है जी ...एकदमे नहीं ..॥

___________________________________________________________________


खबर :- बडे नेताओं से जुडे मधु कोडा के तार ..

नज़र :- लो जी ये तो खबर होगी आप लोगन के लिये ..हम लोगन को ई सब पहिले ही पता था जी ....अब बताईये भला ..पूरा दू हजार करोड ..इकेला एक आदमी कैसे हजम कर सकता है ...ओईसे तो कर भी सकता है जी ....जब हमरे लालू जी ..बिहार का पूर छ हजार करोड खा गये ..तो कोडा जी .झारखंड का दूई करोड नहीं लपेट सकते ...मुदा सुने हैं कि उनका पेट खराब हो गया है..अस्पताल में हैं ॥ हमका एक और बात पल्ले नहीं पडी ई जब हम लोगन का दोनो स्टेट एकदम से गरीब है त ....ई एतना पैसा कहां से आता है जी ..........? सोचिये आपहु सोचिये।
और तार का का है ऊ तो जुडिये जाता है नेता सबका एक दूसरा से ...ऊ तो खाली जनता है नहीं जुड पाता है ....न तार .......न बेतार ॥

__________________________________________________________________


खबर :-पटना में तीन सौ किलो विस्फ़ोटक मिला ..

नजर :- छोडो बे ..बेकार की खबर है ...किसी काम की नहीं है ...अगर तीन सौ किलो ...आलू, प्याज, टमाटर ....मिलता तो होती ये खबर ....एक दम खालिस एक्सक्लुसिव ....और यदि ...तीन सौ किलो .....दाल होती तो भैया फ़िर तो ..ई खबर बीबीसी के लेवल वाली होती ...और हमको तो लगता है दंगा होईये जाता ..आखिर तीन सौ किलो दाल का एक साथ एक जगह पर पाया जाना...देश के आर्थिक स्थिति को ..दर्शाने टाईप का तथ्य है जी ...मानो या न मानो .....टैण टैणेन.......

__________________________________________________________________


बस जी जादे खबर मत पढा किजीये ...आज एतना ही ..बकिया खबर में फ़ोटो आप गूगल बाबा से अपने देख लिजीयेगा ...काहे से बहुते टाईम खाता है..ओतना में तो कतना को टीप लेंगे ..है कि नहीं ...

रविवार, 1 नवंबर 2009

नेता बनेगा शूटर बजरंगी.....का जी ब्लागर बनते न.....?

खबर :-मुशर्रफ़ भगोडा अपराधी घोषित......

नज़र :- हो गए....चलो ये एक काम तो पक्का हुआ आपका ....मगर तय कर लिया है न कि बंदा पाकिस्तान का ही था न...अरे नहीं नहीं यार कोई खास बात नहीं है ...मगर तुम लोग हमेशा ही ...कभी अफ़ज़ल को तो कभी कसाब को कह देते हो कि भैय्या ..ई तो हमारे पाकिस्तान का हईये नहीं है । ऊ तो पता नहीं ..कैसे इसका राशन कार्ड, पहचान पत्र सब थो कागजात ..यहां का बना हुआ है । तो पता करिये लो ....कहीं ई मुशर्रफ़ भी तो मजाके मजाक में ..पाकिस्तान का गद्दी पर नहीं तो बैठ गये थे । वईसे कुछ भी कहो यार तुम लोग ऊसूलों के एक दम पकिया हो जी ....कौनो शासक को छोडते नहीं हो...सबको ऊन
लोगन के पाप का ईनाम जरूरे देते हो । वैसे हैं कहां ई भगोडा......?
______________________________________________________________________

खबर :- पेयजल से नहीं होगी मशीनों की धुलाई....

नज़र :- अच्छा ..तो बिसलेरीये यूज न किजीये जी ....आज कल पेयजल मिलिये किसको रहा है.....धरती पर तो सुने हैं एकदमे गायब हो रहा है ...हां सुने हैं कि ताजा ताजा चांद पर कुछ अईसने टाईप का मिला है ...अब ई बिसलेरी का है कि ...चांद का अपना है ..ई पता नहीं चला है । हां ई बिसलेरी से ही धोना आखिरी विकल्प रह न गया है जी काहे कि जब स्टेशन सब पर भी ..पेयजल मिले न मिले .(.काहे कोशिश करते हैं ..नहींये मिलेगा )...मुदा ई बिसलेरिया ..एकदम से टनाटन मिल जाता है । बस अंटी से नावां ढीला किजीये ...और तर किजीये गला।

_______________________________________________________________________

खबर :- नेता बनना चाहता है शूटर मुन्ना बजरंगी

नज़र:- लो ...ई भी नेता ही बनना चाहता है...कितना प्यार करता है भारतीय लोकतंत्र से । कभी कभी तो हमको लगता है कि हमसे जादे तो ई लोगन को देश और समाज के प्रति प्रेम है..देखिये तो जतना ई टाईप और ऊ टाईप लोग ..एक्टिव सर्विस से पकडा जाता है फ़ट से अपना असली काम को जाहिर कर देता है।..भैया मुन्ना बजरंगी अब तुम ई तय करिये लिये तो ई भी बता देते कि पर्टिया कौन ज्वाईन करोगे......? अरे नहीं जी टेंशन ई बात का नहीं है कोई पार्टी तुमका रखेगी कि नहीं ..उ तो सब रखिये लेंगे ...ओईसे भी सब नया फ़ेस के लिये तक रहे हैं.....मुदा खाली ई कंफ़र्म कर देते कि कौन पार्टी और कौन क्षेत्र चुनोगे अपने ऊ का कहते हैं तथाकथित कर्मक्षेत्र के रूप में.....जनता भी अभिये से खुस हो लेता आखिर बजरंगी जो आ रहे हैं समाज सेवा करने.....। अच्छा जब नेता बन जाओगे न ....अरे शक नहीं जी हमको तो पूरा विश्वास है..अरे तुमसे जादे जनता पर जी..तुमको बनाईये देगी....त जब बन जाओगे न ..हें...हें....हें.....हिंदी में ब्लोग्गिंग करना ..प्लीज...करोगे न....देखो ..ई पहली बार होगा कि कौनो ..क्रिमिनल टर्न्ड नेता ..हिंदी ब्लोग्गिंग में आएगा ....लालूओ तो इंग्रेजी में....छोडो....सेलिब्रिटी हो जाओगे भैया...।
_______________________________________________________________________

खबर :- बहुत जल्दी ही छ नए एम्स अस्पताल बनेंगे .....

नज़र :- एके साथ आधा दर्जन जी .....का बात है भैया एतना चिंता बीमार देश का....ओईसे एकदम ठीक डिसीजन है जी.....ई ससुर जब से ..ई नयका नयका ..मुर्गी फ़्लू ...सूअर फ़्लू.....जईसन बीमारी ..हम निरीह इंसानों को पकड लिया है ...तभिये से ई बात का जरूरत महसूस हो रहा है कि ...ई पशु पक्षी जनित बीमारी सब भी संक्रमित कर रहा है ...तो बनना ही चाहिये था ....।अच्छा ई बतईये तो तनिक कि सुविधा सब तो ओईसने टाप किलास रहेगा न..।
अरे का अब खोल खोल के पूछते हैं जी .....हमरे कहने का मतलब ओतने टौप का अस्पताल बनेगा ..तो बिना किसी सिफ़ारिश के उहां भर्ती नहीं मिलने वाला...डाक्टर सब का नियमित हडताल ...बिलबिलाता मरीज सब....नेताजी लोगन को स्पेशल अटेन्शन....जैसी सुविधा सब होईबे करेगी न....।देखिये इसमें से तनिकबो कम हुआ तो ...ई लगबे नहीं करेगा कि टौप क्लास है....

_________________________________________________________________

खबर :- मुजफ़्फ़रपुर में विधि छात्रों ने की कुलपति की पिटाई...

नज़र:- अब बिहार में परीक्षा के दौरान छात्रों को रोकेंगे-टोकेंगे...तो पिटईवे करेंगें न.....और का होगा ....कुलपति हों कि करोडपति...हमरे बिहार में कौनो भेदभाव नहीं होता है जी.....।और फ़िर जौन लोग खुदे कानून पढ रहे थे ...ऊ तो हाथ में कानून लईबे करेंगे न.....आखिर कानून के हाथ बहुते लंबे होते हैं न.....और उसमें खुजली भी बहुते होती है...पिटने पिटाने का तो बस टरेनिंग भर हो गया समझिये......बकिया परीक्षा सब ठीक चला न ...कौनो दिक्कत तो नहीं हुआ ,....ई कुलपति जी को भी समझना न चाहिये था कि ओईसे ही न्यायपालिका पर कतना बोझ बढ्ता जा रहा है...तो जतना जलदी से जल्दी ....ई लोगन को डिग्री मिलेगा ओतने जल्दी न न्याय मिलेगा जी......आगे से ध्यान रखियेगा ...कुलपति जी ...

__________________________________________________________________


मंगलवार, 27 अक्तूबर 2009

कुछ पुरानी खबरें, नए तडके के साथ ..





खबर :- बिग बास ने कमाल खान को बाहर निकाला ।

नज़र :- गलत किया बिग बास ने, और बिग बास ने ये किया ही क्यों.... काहे से कि जब बिग बास कुछ करबे नहीं करते हैं, अरे जौन कर रहे हैं या तो वहां घुसे हुए मेहमान खुद कर रहे हैं ....नहीं तो हमको छोड कर कुछ लोग जो एसएमएस करते हैं ..ऊ लोग कर रहे हैं.....वैसे हमको शक है कि कौनो एसएमएस करता भी है ...खैर छोडिये ई बात को..बात तो असली ई है कि बिग बास गलत किये कमाल खाल को बाहर निकाल के। देखिये जी ई माना कि ऊ देश द्रोही रहे हैं ....तो का हुआ ..अरे असली में थोडे हैं जी ....फ़िर सबसे जरूरी बात तो ये थी कि इस बात कि पक्की खबर थी कि अबकी जो कमाल खान थोडे दिन और बिग बास के घर में रह जाते .....तो अगला नोबेल उनको ही मिलना था पकिया था जी .....ई रोहितवा और राजू भाई गडबडा दिये सब ..एक ठो और नोबेल छूट गया ..चलिये का किजीयेगा सब्र किजीये।

____________________________________________________________________



खबर :- ड्राईवर के झपकी लेने के कारण हो गयी रेल दुर्घटना ...

नज़र :- अरे सिर्फ़ झपकी ली थी.....काहे महाराज ...भारत में तो नौकरी ..ऊ भी सरकारी के दौरान....मात्र झपकी नहीं ..बल्कि पूरा कुंभकरणी नींद पूरा करने का परंपरा है जी ...ऊ भी जाने कबे से...कोई कह रहा था कि ई तो त्रेता आ द्वापर से ही चला आ रहा है। फ़िर एतना टेंशन काहे लिये.....पूरा नींद खेंच मारते । का पब्लिक मर जाती और जादे .....लो कल्लो बात तो ई से का होता...अरे भैया पब्लिक तो हईये है..मरने के लिये ..तो कौनो न कौनो उपाय से मरबे करेगी। फ़िर ई काहे नहीं सोचते हो कि रेल बजट में सुरक्षा उपाय के लिये चाहे दू पैसा खर्च करने का प्रावधान हो या न हो...मुदा दुर्घटना में मरे वाला सब के लिये घोषणा करने के लिये बहुते पैसा होता है जी.......फ़िर घोषणा करने के लिये कौन ...सच्ची मुची का पैसा का जरूरत है ......ऊ तो देने के लिये पडता है ....और देना किसको है। ...यार ई रेल दुर्घटना सब में कभी कौनो ...बडका आदमी को पैसा मिलते नहीं देखे.....अब ई कैसे कहें कि मरते नहीं देखे.....बकिया आप हुसियार हैं, समझ जाईये न।

__________________________________________________________________

खबर :-पाकिस्तान के परमाणु ठिकानों तक पहुंचे आत्मघाती हमलावर ..

नज़र :- अमा कह तो ऐसे रहे हो जैसे वो परमाणु ठिकाने ...पाकिस्तान में नहीं ..पाताल में थे....ई कौन मुश्किल काम था ...अरे उनके ऊ थे न परमाणु वैज्ञानिक ...ऊ तो एतना बढिया इंतजाम किये हैं....कि थोडे दिन के बाद पाकिस्तान में....लोग रेहडी, खोमचा में छोटा, मोटा, दुबला, पतला, आडा टेढा परमाणु बम लेकर बेच रहा होगा। और हमको तो पूरा यकीन है कि जिस तरह से चीन का नकली पटाखा सब इहां फ़ुस्फ़ुसा कर रह गया आउर सबका दीवाली एकदमे बंडल कर दिहिस ...आप देखियेगा...एक न एक दिन पाकिस्तान का इहे परमाणु बम मार्केट पकड लेगा भारत में। फ़िर काहे नहीं हो..यदि अपना पडोसी को ..बेचारा को ई से दू पैसा का फ़ायदा हो रह है तो ई मे हर्ज का है भाई ..

___________________________________________________________________
खबर :- केरल के एक आईपीएस का लैपटौप कार्यक्रम के दौरान उडाया...

नज़र :- हम नहीं कह रहे थे कि साजिश बहुते बडी है जी...अभी थोडबे दिन पहिले न..अपने विनीत बाबू,,अरे गाहे बेगाहे वाले जी...उनका एकठो यंत्र लोग मार लिया था जी अईसने सम्मेलन में....अब देखिये एक ठो आईपीएस का भी । माने कि हम लोग कम नहीं हैं जी कम से कम चोर के नजर में, देखिये न ..आईपीएस के साथ हम बिलागर लोग के माल पर भी हाथ साफ़ कर रहा है लोग। मुदा सुनिये तो...ई का मतलब ....अरे राम राम ...कईसन कईसन लोग पहुंचा था जी ...बताईये तो गैंग वाला सब था । ऊहां से विनीत भाई का ऊ यंत्र मार के इहां दिल्ली में ...फ़िक्की औडिटोरियम तक पहुंच गया .....बताईये भला ...

____________________________________________________________________


खबर :- ब्रिटेन में भी भारतीय छात्रों के साथ भेदभाव......

नज़र :- ए जी जो भी कहिये...ई कौनो बात नहीं हुआ आप लोग खाली ओईसे ही हल्ला मचाते हैं...कैसे माने जी ...देखिये आस्ट्रेलिया, जर्मनी , फ़्रांस के बाद अब ब्रिटेन में भी हम लोगन के बचवा सब के साथ..वही लत्तम जुत्तम..देख कर हमको तो एकदमे नहीं लगता कि कौनो भेदभाव हो रहा है...। सब जगह तो भारतीय लोग पिटिये रहा है जी ...एक दम एके टाईप में...फ़िर कैसे हुआ भेदभाव जी । सब झूठ है जी एकदम। हम तो कहते हैं ई से सिद्ध हो जाता है कि हम लोग किसी भी दूसरे देश में जाएं..कहीं भी केतनो काम कर लें...सबका आंख में खटकिये जाते हैं.....


___________________________________________________________________

आज ई छोटका बुलेटिन से काम चलाईये....बकिया ताजा ताजा लेकर फ़िर मिलते हैं..

गुरुवार, 15 अक्तूबर 2009

दिल्ली पुलिस एस एच ओ के पास बीस करोड मिले: छी...शर्म आनी चाहिये....बस इतने ही ..


खबर :- दिल्ली पुलिस एस एच ओ के पास बीस करोड मिले...

नज़र : छी छी छी....कितने शर्म की बात है..बताईये तो भला ..दिल्ली पुलिस का होने के बावजूद ..वो भी सिपाही नहीं जी पूरा एस एच ओ...मिले भी तो कितने ....सिर्फ़ बीस करोड.....। लानत है जी ...तभी तो आरोप लगते हैं पुलिस पर कि बिना काबिलियत देखे परखे इत्ता बडा ओहदा दे देते हैं...अजी इत्ता तो एक सिपाही भी कमा लेगा ...अब जबकि कोर्ट भी बराबर नये नये कानून बना कर ...नित नये नये चालान काटने का मौका दे रही है तो भी इतने ही ....शर्म की बात है....बताईये तो .अगले साल इतनी बडी स्पर्धा होने वाली है दिल्ली में। वैसे इस हिसाब से कमिश्नर साहब के कितने बन गये बताईये....अरे कुछ नहीं जी आखिर दिल्ली सरकार को भी तो कभी लोन की जरूरत पड ही सकते है न

__________________________________________________________________
खबर :- रजनीश हत्याकांड की जांच क्राईम ब्रांच करेगी...

नज़र :- क्राईम ब्रांच तो आप ऐसे कह रहे हैं जैसे एफ़ बी आई है....अजी क्या कर लेगी जांच कर के...जांच करवानी है तो एक मात्र ...भरोसे मंद...सस्ती और टिकाउ संस्था है सीबीआई......सबसे बडी खूबी तो ये है कि थकती नहीं है ..अब देखिए न आरुषि मर्डर केस में अब तक कित्ती तफ़्तीश चल रही है...न जाने कितने लोगों को पकड छोड चुकी है ...उसके पिताजी ..उसके नौकर..उसके ..पता नहीं कौन कौन..मैं तो कह रहा था कि थोडे दिन और रुक जाते ..शायद आरुषि की आत्मा का पुनर्जन्म हो जाये तो ..वो खुद ही सीबीआई की हेल्प कर देती....
__________________________________________________________________

खबर :- दिल्ली में भी है कोडा की संपत्ति ...

नज़र :- अरे ...बताईये हम दिल्ली में रहते हैं.....और संपत्ति के नाम पर एक फ़टा हुआ स्कूटर ही है अपने पास ..और कोडा जी जो बेचारे पता नहीं कहां हैं....संपत्ति यहां पर.....कोडा जी यदि रेंट पर देना हो तो बताईये न..हम तो तैयार बैठे हैं....देखिए इससे डबल फ़ायदा हो जायेगा..हम जो हैं न कोर्ट में हैं तो आप तो अब अईबे किजीयेगा ....तभी किराया भी पकडा देंगे ..देखिये कोडा तो नहीं ...मुदा थोडा थोडा जरूरे पकडा देंगे..फ़ाईनल करें का...


____________________________________________________________________


खबर:-चीन को चौतरफ़ा घेरा..

नज़र :- बिल्कुल ठीक किया जी...अजबे धांधली है..पहिले चाईनीज़ फ़ोन लिये तो उ खराब हो गया..ठीक कराने गये तो कहने लगा लोग,....कि भैया..ई तो अक्षय कुमार ही ठीक करवा पाएंगे..काहे से कि उ चांदनी चौक टू चाईना जा रहे हैं ..उनका ही दे दो...कहिये तो उ लेके जाते हमारा इतना मंहगा फ़ोन ..मना कर दिये। इसके बाद अब दिवाली पर जतना चाईनीज़ लाईट लाये थे ..कम्बख्त सब दिन में जलता है ..और शाम होते ही बंद हो जाता है ..बताईये ..पटाखा का रिस्क हम अभी लेबे नहीं किये हैं। एक दम ठीक किया है सरकार...आखिर कब तक अपने एक ब्लोग्गर को इस तरह से परेशान देखती। घेर लिया न।..क्या कहा ..सरकार दूसरे कारण से घेरी है ..कुछ सामरिक कारण है ..अजी खाक घेरेगी ..पाकिस्तान को तो घेर के तो ..खो खो खेल रही है एतना दिन से ..अब चीन से ...ओह ..चाउमीन खाने के लिये..
_____________________________________________________________________

खबर:- पीडितों को मिले पांच की जगह पचास हजार के चेक ...

नज़र:- अरे मिल गया ..कमाल है...इस बात के लिये तो उन्हें , जिन्होंने ये चेक बांटे हैं.., अगले साल के लिये नोबेल पुरस्कार दिया ही जाना चाहिये ..और कम ज्यादा की बात ही नहीं होनी चाहिये...सरकार का प्रसाद समझ के ग्रहण कर लिजीये...और फ़िर ये भी तो सोचिये कि ..घायल ही हैं ..यानि जीवित हैं तो मिल भी रहे हैं..वरना जो बेचारे इस घटना में चले गये..उनके हिस्से के चेक तो ....सरकार ने अपने पास रख लिये हैं..देश के विकास के लिये जी और किस लिये...
_________________________________________________________________

खबर:- इक्कीस करोड से सुधरेंगे एनएच ...

नज़र :- अरे वो दिल्ली वाले एसएचओ से पैसे भी निकलवा लिया क्या ...इत्ती फ़ास्ट ..चलिये ई तो पुण्य का काम में लग रहा है जी..बस एतना ध्यान रखियेगा कि एन एच को सुधारने वाले ठेकेदार भाई लोग भी कहीं इन्हीं दरोगा जी के रिश्तेदार न हों...और हां ..उ जो एक करोड बच गया है उसके बारे में कुछ सोचिये न...देखिये हम तो कहते हैं कि एक ठो पहेली प्रतियोगिता रखवा लिजीये ब्लोग जगत में...और ईनाम में दिजीयेगा..एक करोड रुपया...पहेली कौन सी पूछेंगे ई बाद में तय करते हैं न...
_________________________________________________________________

आज धनतेरस है न ..तो एतने खबर ..

सोमवार, 12 अक्तूबर 2009

आतंकी पाक सेना के मुख्यालय में घुसे...कुछ नहीं जी अपनी तन्ख्वाह लेने गये होंगे

खबर:- आतंकी पाक सेना के मुख्यालय में घुसे...

नज़र :- लो तो भैया अब आदमी अपनी तन्ख्वाह के लिये अपने औफ़िस में नहीं घुसेगा तो कहां जायेगा....और फ़िर सामने दिवाली है तो जाहिर है कि बोनसवा वैगेरह भी होगा...सुने तो हैं कि ई जौन अमरीका से सारा डोनेशन मिला था ई बार ..ऊ सब का सब कसाब के ओकील साहब को फ़ीस देने में खतम हो गया जी..काहे से सुने हैं कि भारत सरकार नहीं न दे रही है उनको कौनो फ़ीस ईहे बात से अधीर होकर बकिया लोग बोला कि भैया अपना अपना तन्खवाह तो लईये लो..
_____________________________________________________________________

खबर :- देश में है पर्याप्त खाद्य भंडार : प्रणब मुखर्जी ..

नज़र :- ओह शुक्र है ..चलिये इसका मतलब ये है कि अब कम से कम इतना तो तय है कि इस दिवाली पर आप लोग सबको दाल चावल का पैकेट ..उपहार में दे सकते हैं...क्या क्या कहा..प्रणव खाने की बात कर रहे हैं..अरे पगला गये हैं का...अब खाने में दाल चावल जैसे खाद्य पदार्थों का उपयोग कौन कर रहा है ..खाने के लिये बर्गर, चाऊमीन, पिज्जा, वैगेरह है न..क्या कह रहे हैं ...किसानों को क्या पता इन सबके के बारे में ..अरे तो उनको कौन पता है अब दाल चावल के बारे में..वैसे भी इस जय हो सरकार में किसान ..खाने पीने की चिंता से मुक्त हो चुके हैं..इसीलिये आत्महत्या कर रहे हैं..उनके लिये क्या खाना और पीना..
______________________________________________________________________

खबर :-१०३ करोड के विमान में उडेंगे गुलाबचंद

नज़र:- लो अब ये भी खबर हो गयी क्या..अबे जब इत्ते का विमान होगा तो जाहिर सी बात है कि उडेंगे ही..तैरेंगे थोडी...अमां खबर तो तब होती ....यदि गुलाब चंद ..बच्चों द्वारा बनाये गये कागज के हवाई जहाज में उड के दिखाते । तब हम मानते कि गुलाब चंद वाकई कुछ हैं।

______________________________________________________________________
खबर:-महिला शिक्षकों को मिलेगी मनचाही जगह पर तैनाती

नज़र :- मनचाही मतलब....कह तो ऐसे रहे हो जैसे ..ऊ अमरीका कहेंगी तो अमरीका में तैनात कर दोगे का...अरे नहीं भाई ई पूछने का कौनो खास मकसद नहीं था ..ऐक्चुअली सुने हैं ..वहां रहने पर आपको नोबेल पुरस्कार मिलने का चांस ..समझिये कि निन्यावे प्रतिशत तो बढ ही जाता है..सुन रही हैं न मास्टरनी जी..अरे वही मास्टरनी नामा वाली..तो मान के चले न ..कि अगला नोबेल आपही को मिलने वाला है .....मुबारक हो जी..

_______________________________________________________________________

खबर :- तिहाड में पंद्रह वर्षों में ३२६ कैदी मरे ..

नज़र :- वाह जी दिल्ली पुलिस सदैव आपके लिये आपके साथ..तिहाड जेल में भी...अपना काम बखूबी करती है...फ़िर भी जाने लोगो को क्या हो जाता है जब देखो आरोप लगाती रहती है पुलिस पर...ठीक है कि उनकी स्पीड थोडी कम है जेल में...मगर इससे उनकी कार्यप्रणाली पर अविश्वास का कोई कारण नहीं बनता जी...ये तो वैसे ही है जी जैसे आपका लैपटौप पर और पी सी पर स्पीड में थोडा बहुत फ़र्क तो पड ही जाता है। वैसे हमें उम्मीद है कि दिल्ली पुलिस जल्दी ही अपनी इस खराब आंकडे को दुरुस्त करके कोई न कोई नया रिकार्ड बनाएगी..

_______________________________________________________________________

खबर :- तीस फ़ीट की दूरी से भी कंप्यूटर को इशारों पर नचाएगा माउस

नजर:- अमा ये माउस न हुआ गोया ..श्रीमती जी हो गया.कंप्यूटर का..जो इतनी दूर से नचा देगा.....चलिये अच्छा है कंप्यूटर नाचेगा तो हमारी पोस्ट भी नाचेगी...मगर एक दिक्कत है जी...ये तीस फ़ीट से नचाने के लिये तो हमें पता नहीं कित्ते पडोस में जाकर कंप्यूटर चलाना होगा जी...ओह ये अविष्कार ..विदेशी लोगों को ध्यान में रख कर किया गया है ..ऊ लोगन तो लगभग सब कामे पडोसी के घर से कर लेता है न...बताईये भला ई में हम लोग के लिये का खबर था
_______________________________________________________________________खबर:- अब मैं आराम करना चाहती हूं, : लारा दत्ता

नज़र :- बताईये भला लोगों को काम काज के बिना भी आराम करने का कितन मन करता है ...अरे दत्ता जी ..पहले तनिक काम तो कर ही लेते....फ़िर तो आरामे आराम है न जी...ओईसे भी आप लोगन को ...कामे कितना मिलता है जी...जादे तो आरामे है न...तो काहे के लिये इतना स्पेशल रूप में बोले हैं जी ..कौनो स्पेशल टाईप का आराम का बात है का..तब तो करबे किजीये जी ..

_______________________________________________________________________

शनिवार, 10 अक्तूबर 2009

गले से नहीं उतर रहा ,ओबामा को नोबेल,...अजी गला खराब है आपका, विक्स की गोली लो और खिचखिच ....


खबर :- गले से नहीं उतर रहा, ओबामा को नोबेल......

नज़र : मतलब साफ़ है....आपका गला खराब हो गया है॥हो सकता है उसमें...मुर्गी या शूकर फ़्लू का प्रकोप हो गया हो....आपके लिये वही दैवीय बूटी ही काम सकती है॥विक्स की गोली लो...खिचखिच दूर करो.........और नहीं हो रही तो भी खिटपिट मत करो यार...बताओ किसके गले नहीं उतर रही॥

॥अरे हमरे गले नहीं उतर रही है॥बोलो का करोगे , बताओ भला ....हम तो सोच रहा हूं कि ई नोबेल के नाती पोता पर केस कर दूं...अरे आज के डेट में इस पुरस्कार के लिये हमसे बेहतर दूसरा कौनो हो सकता है दूसरा...देखो हम इलेक्शन हार गये ...मंत्री बनने से भी रह गये...हमरा सबसे फ़ेवरेट मंत्रालय भी जानबूझ कर ..उनको दे दिया लोग.....आऊर तो आऊर ..हमको सब लात मार के निकाल दिया..फ़िर भी देखिये कितना शांत बैठे हैं...अब तो नितिश जी को भी नहीं गलियाते हैं..तो शांति का नोबेल -ग्लोबेल जो भी था ..हमरे नाम ही होना चाहिये था जी...


_______________________________________________________________



खबर :-कोडा खा गये चार हज़ार करोड...

नज़र :- जे बात ...अब लगा न कि ई राज्य बिहार से निकला था...जब से झारखंड बना था ...एक दम नीरस और बकवास बन के रह गया था....बस कुछ नहीं तो..मुख्यमंत्री-मुख्यमंत्री खेल रहा था...कौनो एडवेंचर था ही नहीं...अब जब पता चला है कि ..मुख्यमंत्री कोडा....अरे पता किजीये तो..इनका नाम कहीं ..करोडा तो नहीं था....पूरे चार हज़ार करोड खा कर हज़म कर गये..मन बाग बाग हो गया...देखिये जी अब ई नहीं कहियेगा कि काहे..यदि मन बाग बाग हो रहा है तो अच्छे है न..ग्लोबल वार्मिंग कम होगा...और ईतना तो बढिया है न कि मान लिजीये कल को देश में मंदी जादे हो जाता है...तो लालू जी. कोडा जी, सत्यम जी ..और बस कुछ छोटा मोटा लोग को काट कर इनके पेट से इतना पैसा निकाला जा सकता है कि अपना तो अपना ..अमरीका का मंदी भी भाग जायेगा..

___________________________________________________________________


खबर:-राष्ट्रमंडल के खेल प्रतिनिधियों की खूब हो रही है खातिरदारी....

नज़र :-..देखा हमारी खेल नीति कितनी स्पष्ट और पारदर्शी है..अपनी खेल परियों..खेल देवताओं, खिलाडियों...और खेल से जुडे तमाम लोगों का चाहे अपमान हो जाये..चाहे उन्हें खून के आंसू रोना पडे....चाहे खेल के कारण उनका पूरा भविष्य चौपट हो जाये...मगर इसका ये मतलब नहींम कि अधिकारियों को हम किसी तरह का कष्ट होने दें...खास कर जब वे विदेशी हों....ऊपर से इंस्पेक्शन पर आये हों..अजी उषा का क्या है....और फ़िर ये रोना धोना तो चलता ही रहता है...वैसे भी ये हमारी राष्ट्रीय खेल नीति का अहम हिस्सा है....देखिये आप लोगों कि दुआ से इस बार कितने पदक मिलते हैं....वैसे तैयारी तो पूरी की है हमने..अजी खेलने की नहीं....कमाने की...
हालांकि प्रतिनिधियों ने कहा है कि वे संतुष्ट नहीं हुए हैं...यदि उन्हें भी एक वकील मुहैया करा देती सरकार तो वे भी खुद को ..कसाब की तरह ..खास मेहमान बनने की अनुभूति पाते...बेचारे उन्हें कहां नसीब हो सकता है ..वो सुख...
__________________________________________________________________


खबर :-दिवाली पर तोहफ़ा सस्ते होम लोन का ..

नज़र :- मैं तो तभी समझ गया था कि जो सरकार अभी तक .....टैण टैणेण की जगह ..सिर्फ़ जय हो जय हो ही गा रही है....यानि साफ़ है कि अपडेटेड नहीं है.....वो सरकार ऐसे ही ओल्ड फ़ैशन्ड निर्णय ही तो लेगी न......आप ही बताईये आज एक..... कैटल क्लास ...(कमाल का नया शब्द और पहचान दिलाई है थरूर साहब ने...मैं तो कहता हूं सिर्फ़ इन दो शब्दों के कमाल के उपयोग के लिये ही उन्हें साहित्य का नोबेल मिल जाना चाहिये था..मगर नोबेल वालों ने शांति का नोबेल भी पता नहीं कैसे तो.....खैर छोडिये इसे....) का सबसे बडा सपना क्या है...सिर्फ़ यही कि ..चाहे वो झुग्गी में रहता हो ..या फ़ुटपाथ पर सोता हो..चाहे वो ताज में खाये या ओबेराय में...काश कि दाल मिल जाये....और अब तो प्याज भी सेलिब्रिटी सी हो रही है....मुई चढती ही जा रही है....ऐसे में यदि लोगों को किसी चीज के लोन दिया जाना चाहिये तो वो है दाल...सिर्फ़ और सिर्फ़ दाल..आप खुद ही देखिये न कौन सी बिल्डिंग इन दालों की फ़ोटू के समान सुंदर होगी.......

__________________________________________________________________

खबर :-पेशावर में बम धमाका ..

नज़र :- लो जिसका डर था वही हुआ...मैं न कहता था कि इन ससुरों को जादे पैसे मती दो सैम अंकल...क्योंकि ये तो खाली बम ही बनाते हैं पैसों से ..और कुछ तो करते नहीं...बना लिये होंगे क्विंटल के भाव से...अब इस बार दिवाली में ..हमारे यहां तो चीनी भाई अपनी फ़ैक्ट्री के बम पटाखे बेच रहे हैं..बेचारे किसी तरह अपने चाउमीन का जुगाड कर रहे हैं...सो पाकिस्तान वाले बमों की खपत तो यहां इस बार हो नहीं पायेगी .....इस बार उनका एक डेडिकेटेड बच्चा ..कसाब..अपने यहां मेहमान है न...तो ये तो होना ही था..बम हैं तो फ़ूटेंगे ही....काश कि ये कोई समझ पाता कि....बम ..देश, मजहब, जाति..नहीं पूछते ...फ़टने से पहले....न ही मौत पूछती है....

__________________________________________________________________

आज के लिये इतना ही ..बकिया समाचार आप टीवी में भी तो देखिये न...

Google+ Followers