इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

बुधवार, 29 अगस्त 2012

आगे आगे देखिए "कोयले " पर मुशायरा-कव्वाली होगी






कुछ कुछ , अब समझ में आ रहा है क्यूं है अपने देश का ऐसा रे ये हाल ,
सवा अरब जनसंख्या एक बाबा एक अन्ना एक किरण और एक ही केजरीवाल ,


सोचिए कि दस बीस , पचास ,सौ ,हज़ार और हो जाएं जो लाख ,
घेर घेर के अईसा कूटें , मु्ट्ठी भर माननीय , मिनटों में हो जाएं खाक :)


अभी कितने दिन होंगे और काले ,इस कोयले से, जाने कितनी रातें काली होंगी
अमां अभी तो शेर पढा है बस आगे देखिए कोयले पर मुशायरा -कव्वाली होगी ,
इरशाद इरशाद ..नहीं हुज़ूर ..बर्बाद बर्बाद कहिए


हज़ारों सवालों से अच्छी है मेरी खामोशी , न जाने कितने सवालों की आबरू रखी,
अमां छोडो ये शायरी ,बस ये बताओ , किसने कित्ती ये काली काली मलाई चखी


पिछले दिनों तुमने पानी के न होने मिलने ,का शोर खूब था मचाया ,
अब जब बरस रही है अमृत की बूंदें , तो बताओ कितना पानी बचाया,


देख बहस जोरदार , चुप्पे से किहिस ईशारा , पिरधान जी को इटली की चच्ची,
फ़ौरन डकार मार के बोले पिरधान , हटो बे , इत्ते जवाबों से तो खामोशी अच्छी ,
हाय सच्ची मुच्ची , इक लुच्चा इक लुच्ची :)


रगड के कोयला मुंह पर सियासत के नुमाइंदे अपनी अपनी झोली भर रहे हैं ,
अजब तमाशा देखो रे भाई ,घोटालों के जवाब में प्रधान जी शायरी कर रहे हैं,
इत्ता ध्यान इकोनोमिक्स में लगाया जो होता तो यूं शायरी गज़ल की नौबत ही न आती जी


अमां अभी अभी ये खबर पढी , क्या आपने भी ऐसा कुछ सुना ,
महाराष्ट्र में , महिलाओं ने मंतरीजी को चप्पल जूतों से धुना ,,
हुन हुन हुना रे हुन हुन हुना :) :) :)


मनमोहन सिंह का शेर(गीदड) :हज़ारों जवाब से अच्छी है मेरी खामोशी ,
अमां तो गोया फ़िर ये भी बतला दो , ये ईमानदारी है या तुम्हारी बेहोशी,
इत्ता बडका इंजेक्शन काहे भोंकवा लिए ईथर का , कि संसद में अब शेर बकरी पढना पड रहा है हो पिरधान जी


दिल्ली का इक अखबार है , जिसका नाम लोग रखे हैं " नेशनल दुनिया "
खबर देख के ही कोई भी भांप जाए , बजावे रोजिन्ना सरकार का हरमुनिया,
ई सब अखबार को भी दरबार बना दिया है सरबा सब , एक्के सुर , एक्के राग ....चापलूसी वाला धरईले रहता है ..अबे धत बे ।


बोले हैं पवन बंसल : संसद में बहस से भाजपा रही है डर,
चाब्बास , अबे कोई भी डरेगा शूरवीरों , तुमने कांड दिया है ऐसा कर ,
अपना घर को लिया रे भर , कोयले से मुंह को काला कर


विमान खरीद सौदा जल्द से जल्द पूरा करना चाहती है सरकार ,
हां बे ,कमीशन होगा मोटा सोटा ,खाने को , सब होंगे न तैयार ,
खरीदो खरीदो , फ़िर बताना कि कितना घपला घोटाला हुआ है :)


ज़रदारी चाहते हैं मनमोहन इसी साल उनके यहां इस्लामाबाद आएं ,
इसी साल ,अबे इसी महीने इसी पल , यहां तो फ़ालतू हैं , जब चाहे ले जाएं,
आ वहीं रखें , अपनी अर्थव्यवस्था का पोस्टमार्टम भी करवाएं , काहे से कि मर तो ऊ कबकी गई है ।


सियासत वालों लगा दो बंदिशें ,पाबंदियां, उन सब पर जो भी तुम्हारे बस में है ,
पर सोच पर कैसे जडोगे ताले ,रोक लो ,उस बगावत को जो हमारे नस नस में है


रेल में मिलेगा लज़ीज़ खाना , रेलमंत्री ने महाप्रबंधकों को बैठक में दिया निर्देश ,
आ नहीं मिले जो अईसा खाना तो इहे मंतरी जी के मुंह में माचिस दीजीएगा लेस
धधरा मार के फ़ुंक जाएं जिससे , लजीज़ खाना परोसने वाले


घिरी हरियाणा सरकार , विधानसभा में हुआ कांडा पर हंगामा ,
अबे पकड के काट लो , और बंद करो परमानेंटली ई डिरामा ,
काट लो माने कंडवा का मूडी काट लो ...आप भी उहे समझे न :) :)


कांग्रेस ने विपक्ष को दे दी चुनौती , तो फ़िर ले कर आएं अविश्वास प्रस्ताव ,
अबे भागो बे , घबराए बैठे हो , सिर्फ़ मुठ्ठी भर लोगों ने जो कर दिया घेराव ,
सोच लो क्या होगा जो सचमुच ही अवाम ने भर के हुंकार दिखाया अपना ताव,
ये समंदर का तूफ़ान है प्यारी , कैसे अब बचेगी तुम्हारी छेदों से भरी नाव ..
बरसों तक तुम देते रहे जो घाव , अब बहुत पडने वाली है बेभाव


संसद को कर परमानेंटली टर्मिनेट , आ सांसदों को फ़ौरन ही कर दो रे सस्पेंड,
साठ साल की बुढिया , थकेली , पकेली सी , हा लोकतंत्रवा हो गया सेकेंड हैंड,
ऊ होता है न तेरी ऐंड जबानी , तेरी बैंड जबानी , आ सकेंड हैंड जबानी टाईप से


प्रधान मंत्री के इस्तीफ़े तक भाजपा रखेगी संसद को पूरी तरह से ठप्प ,
अबे जब चलती रहती है तभिए कौन तीर मारती है , अबे हप्प हप्प हप्प ,


अरविंद केजरीवाल को नहीं मिली पीएम आवास के घेराव की इज़ाज़त ,
अबे दफ़ा करो , बुलंद रहो , बगावत की परमीसन कब देती है सियासत,
तेल लेने गई इजाजत , तुम करते रहो बगावत


बारिश की एक धार ने फ़िर थाम दी दिल्ली की रफ़्तार ,
धत! न हो तो मारते हो चित्कार आ दुई बूंद की बरखा से मच जाता हाहाकार,
अबे ई तुम्हरा सिस्टम है बेकार , पडने दो जितनी पडती है बौछार


प्रोन्नति में कोटे का प्रस्ताव गलत :अटॉर्नी जनरल से सरकार को चेताया ,
ई तो पता है सबको ,मंडल जी का कमंडल कौन फ़ोडे , सब है वोट बैंक की माया ,
काहे बार बार दोहराते हो यही बात रे भाया , नहीं जाएगा हटाया


हमें खामोश बैठे देख , गलती से , सियासत तुम ये न समझ बैठो ,
है जो हिम्मत तो डाल आंखों में हमारी आंखें , कभी हमसे उलझ बैठो,


सियासत मगरूर हो कितनी , हमें बंदिशों का डर नहीं लगता ,
कि किसी के जीने मरने से कभी भी कोई सच मर नहीं सकता,


फ़िर एक बार ,कोयले की काली पडी छाया , संसद धधकने लगी है ,
फ़ुंक जाने दो ,अस्थियां प्रवाहित करने को , जनता की बाहें फ़डकने लगी हैं :)
धधक जाने दो जी , हम लोग तो कब से एक एक बोतल पेटरोल का अनुदान करने को तैयार बईठल हैं जी


बेनतीजा रही बैठक , आरक्षण पर मुलायम हो गए कठोर ,
अबे पचास साल से एक्के सिनेमा बे , आरक्षण से हो गए रे बोर ,


संसद ठप, प्रधानमंत्री राज़ी , विपक्ष अडा , मचा कोयले पर कोहराम ,
बाह बेट्टा , हर बार कोई बहाने से काम के समय मार लेते हो आराम ,


भारी शोरगुल के बीच ,कैग पर गूंज उठी फ़िर से संसद की दीवारें ,
अमां जनता की तो बस एक है इच्छा , माननीय, फ़ौरन नर्क सिधारें ,
या कहें तो एक बार जनता के बीच पधारें , सब सोच के हैं बैठे , आओ बेटा ,ईलाज भी न हो सकेगा , बकि ऐसी जगह पे मारें :) :)


इकोनोमिक्स का पिरधान जी और उनकी मंडली ,कर के छोडेंगे देश को बर्बाद
महंगाई बढने से सबको फ़ायदा होता है , बक रहे हैं मंतरी ,बेनी जी परसाद,
लगता है इनको बुद्धि का परसाद नय मिल पाया , तभिए अकबकाए से हुए हैं


जब जब सियासत के उतरते हैं कपडे और कुछ सफ़ेदपोश नंगे होते हैं ,
अक्सर उस आग का रुख मोड देते हैं , तब सुना है ,शहर में दंगे होते हैं


सियासत तु्झपे , तेरी हरकतों सा ऐतबार है , तेरे इरादे कुटिल लगते हैं,
नियम कायदे और कानून हमीं पर लागू , और हमीं को जटिल लगते हैं ,

खबर है कि रुपए ,30000000000000/-मात्र, सरकार ने हैं डुबोए ,
और हम यहां , हो रहा भारत निर्माण का रिकार्ड बजा बजा के सोए,
कसम है उसे जो अब भी सरकार का ...........धोए


जो करतूतों के लिए किया जाए केस तुम पर , बिक जाएगा घर का बर्तन भांडा ,
साले यही एक कसर बची थी , अब कर रहे हो पूरी , बनके तिवारी और कांडा ,
कसम बना के हीरो हांडा , तुमको इतना मारें डांडा ......कि टूट जाए तुम्हारा ....जो लीजीए जो फ़िट होता हो


असम में फ़ैली हिंसा और अफ़वाह को थामने के लिए केंद्र ने लगाया जोर ,
नहीं हमें शक नहीं पूरा यकीन है कि सियासत कह रही होगी , वन्स मोर ,वन्स मोर
अबे फ़ितरत से वाकिफ़ हैं न हम तुम्हारे सत्ता वालों


अमां सुना है इस शहर की हालत इतनी खस्ता है , बस यूं हो रही तबाह ,
साला ,सैकडों बेकसूरों को लील जा रही है अब भी , बस एक निरी अफ़वाह,
वाह रे दुनिया वाह , खुद ही खुद को कहला रही , आह !!!!


राष्ट्र के नाम संबोधन में राष्ट्रपति ने किया अन्ना और बाबा पर प्रहार,
"पति" पगलेट होते थे कभी पत्नियों के , अब तो राष्ट्र के भी मेंटल मिले हैं यार ,
झेलिए हो इनका भी ..गंडोगोल कोथा ...दादा की बोलतेन आपनी


सोचिए कि यूं आजकल लोग फ़ाकाकाशी का किस तरह अब फ़िकरा नहीं करते ,
कुछ तो बात है , यूं बात बात पर , शहरों के लोग सडक पर उतरा नहीं करते ...
वो भी अपनी दिहाडी छोडछाड कर ..ये जिगरे की बात है , हर किसी के बस की नहीं

मंगलवार, 31 जुलाई 2012

बगावत कब रही है किसी कैमरे की मोहताज़






ये बारूद सुलगता रहा है बरसों से ,धधक उठा है शहर इसीलिए तो आज
ये तुम्हारी गलतफ़हमी है ,बगावत कब रही है किसी कैमरे की मोहताज़,
(हम खबर हैं तुम खबरनवीस हो , हम बीस हैं और तुम उन्नीस हो , समझे कि नाहीं)


जो अन्ना ने रखा है अनशन तो हमारा भी है रोज़ा बोले खुर्शीद जी सलमान,
का बात है , तनिक यही सब , जनता के बीच पहुंच कर बोलो न सीरीमान ,
(जनता अईसे समेटेगी तुम्हरी दुकान , सहलाते रहोगे गाल और कान)


ल्यो ये ससुरे हमें भविष्य की महाशक्ति बन जाने के सपने दिखाते रहे ,
सुना है पिछले दिनों , आधे देश के लोग घरों में मोमबत्ती जलाते रहे ,
(अबे अईसी खबर आई कि , पावर हाउस का किडनी फ़ेल हो गया बे ..)


बहुत गंभीर जो हुआ है पिराबलेम , तो फ़टाफ़ट अईसन फ़िर करे ये सरकार
फ़ौरन बोले सुनीता विलियम्स को कि ,अंतरिक्ष से एक ठो फ़ेंक दे रे तार ,
(फ़टाक से सटा के या लगा के नोक्सी , बिजली बहाल कर लो न यार )


फ़हरा उठा तिरंगा आज खेल समर में,और राष्ट्रगान से गूंज उठा लंदन ,
धमक उठी जो धायं धायं ,लगी निशाने पर गगन की चली रे ऐसी गन ,
(हो गया मनवा रे मगन , डोले फ़िरे फ़िरे प्रसन्न)


ये वो आग नहीं है सियासत वालों , जो सत्ता के गलियारों में लगती है ,
ये जलती है हमारे सीने में जब , तो हर सडक और दीवारों में लगती है,
(बेट्टा उखाड डालेगी तुम्हारी चूलें अबकि ,ये वो भीड नहीं जो बाज़ारों में लगती है ,)


सुना है वो खुश हैं कि उनकी मैय्यत पे कुछ लोग कम आए हैं ,
हा हा हा गफ़लत न पालो मियां , तुम्हें फ़ूंकने खुद हम आए हैं
(तब तक गिनते रहो उन्हीं उंगलियों पे , जिनसे तुमने सितम ढाए हैं)


कुछ लोग जो जनांदोलनों से ज्यादा मुद्दा उठाने वालों पर उंगली हैं उठाए,
वो जो जिन्हें तमाशा कह रहे हैं , दम हो तो ज़रा खुद कर के दिखाएं ,
(अजी और क्या उन्हें समझाएं ,जो बस बैठ के यूं ही बौखलाएं)


यूं तो बादल भोर से ही पूरे आसमान को काला किए ,उसे घेर के बैठे हैं ,
ये अलग बात है कि इंद्रप्रस्थ से खुद इंद्रदेव ही रुठे रूठे और ऐठें हैं ...


विदेश मंत्री एस एम कृष्णा : जिंदाल पर मांगेंगे पाक से जवाब ,
दो भाई जवाब दो , खिलाएं जिंदलवा को कौन सा बिरयानी और कवाब ,
(छी छी छी , अबे केतना साला कंडीसन हुआ खराब , करते रहो यही हिसाब किताब , अब तो चुल्लू भर पानी में डूब मरो जनाब)


कद्दू सोचते हो सोचने वालों , चिचिया रहे हो , अनशन में भीड बहुत है कम
मुटठी भर ही हो तो क्या , बस ये बता दो , क्या मुद्दे में नहीं है कोई दम ,
(जो है तो फ़िर बंद करो ये खटराग का सरगम)


अस्सी के दशक के आंकडे से सरकार खोज रही है काला धन ,
हा हा हा सरकारे खोज रही है , फ़िर तो घंटा मिलेगा टन टना टन ,
(जितना था सब धो पोंछ के कर दिहिस है पहिले ही डन डना डन)


जब से घोसित हो गए ,बाप उनके , माननीय जी एन डी तिवारी ,
अमां , सुने हैं कुल सवा सौ लोग भी कर रहे हैं दावे की तैयारी ,
(जल्दी ही एक ठो नया दल खडा करेंगे "टिवारी पुत्तर पालटी "..परचम लहरा जाएगा उनका)


कोर्ट : सुरेश कलमाडी कर देंगे लंदन में जाकर देश को शर्मिंदा ,
जे प्राब्लम देश की , अगले को क्या वो बेशर्म, है न कमाल का बंदा,
(हाय चोखो चोखो धंदा , अच्छा हो या गंदा :) :)


राष्ट्रपति : हमें भ्रष्टाचार ,आतंक और गरीबी को हर हाल में मिटाना होगा ,
अच्छा , फ़िर तो इसके लिए कम से कम 100 देश घूमने जाना होगा ,
(आखिर रिकार्ड बनते ही इसलिए हैं कि तोडे जाएं ..सबकी प्रतिभाएं अलग ना होती हैं जी :)


सतियानास हो बदरा तोहर , जब तब घिर घिर के आ जाते हो
जाओ बरसो जहां बरसते रहते , हमें काहे रोज मुंह चिढाते हो ,


पवार अडे , प्रधानमंत्री के भोज का साथियों सहित किया बहिष्कार ,
इहं साला बहिष्कार भोज का , अबे डिनर में क्या अमृत बंटा था यार ,
(ठूसम ठूस खाते ही होगे , उनका न सही किसी और का सही)


गृहमंत्री : जुंदाल की पक्की सुरक्षा व्यवस्था करे महाराष्ट्र सरकार ,
हां हां क्यों नहीं , आखिर महाराष्ट्र पर ही तो उन्होंने किया था न उपकार ,
(अबे थू है साला इस नंपुंसकता टाइप बिहेव करने वाला सिस्टम पर बे ...)


प्रतिभा पाटिल ने जाते जाते , चुनाव सुधारों पर जोर दिया ,
अबे वैसे क्या रायता फ़ैला था , ये क्या जाते जाते छोड दिया ....
(ऊ जईसे लोग सिलेमा का आखिरी सीन या आजकल गाना सुनाते हुए निकलता है न हॉल से ..ओइसे ही टाईप से ..जोर दिया गया है एकदम चना जोर गरम इश्टाईल में :)

प्रतिभा को दी गई आज , अश्रूपूर्ण भावभीनी विदाई ,
ये तो बता दो जाते जाते , चाची कित्ते देश घूम के आई ,
(कईयों ने आरटीआई भी लगाई , पर हाय आपने फ़िर भी बात छुपाई)


अफ़ज़ल की फ़ांसी के सवाल पर प्रणब अभी बिल्कुल रहे खामोश ,
इ का बोलेंगे ,जब ससुरे पूरे सिस्टम को सुंघा के ईथर किया हुआ है बेहोश ,
(बहुत गहरा है इसके पीछे का राज़ ,अभी बरसों बीत जाएंगे , काहे परेशान हो गए आज)


बुधवार, 18 जुलाई 2012

ई की गोंडोगोल होच्चे रे बाबा :-)







मुझे इसपर अचंभा नहीं कि , तुम किसका कितना रोज़ लूट जाते हो
तुम्हारी फ़ितरत है ये तो , हद तो ये ,हर बार जमानत पे छूट जाते हो ,



आम आदमी की थाली से सब्जियां हुईं गायब , दोगुने हो गए हैं दाम ,
तो का हुआ बे , चचा पिरधान पराठे हैं खाते , पिज़्ज़ा खाती हैं मादाम,
(तुम लोग ठेल के खाओ आम , बाद में चाहे हो जाए राम नाम)


मनमोहन के बचाव में उतरी कांग्रेस : शानदार नेतृत्वकर्ता बताया ,
का बात है , अबे इनको कोई ऊ अमरीका का मैगजीनवा काहे नहीं पढाया,
(भेजो रे एक एक कॉपी इनको , सबको कंपलसरी करो पढना , सानदार , जानदार , ईमानदार , और पता नय कौन कौन दार)


मध्यप्रदेश विधानसभा में कांग्रेस का अभूतपूर्व हंगामा ,
घंटा अभूतपूर्व , अबे अब तो ई रोजिन्ना का साला हो गया है डिरामा ,
(अभूतपूर्व त अईसे लगाता है सब जैसे , नोबेल पुरस्कार जीतिस है भाई लोग)


सौंदर्य प्रसाधनों का उपयोग खतरनाक :हो सकता है मधुमेह ,
थोबडे की लीपापोती तो ठीक है पर , न खोखली हो जाए देह ,
(अईसा एक ठो अखबार कह रहा है , तो कल से बंद ,...अरे लाली , कजरा नय जी ...अखबार बंद ,आईसा कुछ लेडिस बोलीं प्रतिक्रिया स्वरूप)


प्रवर समिति : लोकपाल पर सभी सुझावों के बाद ही दी जाएगी कोई रिपोर्ट,
और ऐसा जब होगा तब होगा , तब तक सारे मंत्री नेता खूब बटोरें नोट ,
(बीच बीच में चाहे , जेल में भी कर आएं लोटमलोट)


पांच साल बाद भारत-पाक में खेली जाएगी क्रिकेट की सीरीज़ ,
मंसूबे इरादे हरकतें देख कर भी है ये हाल तुम्हारा , सालों हो बडे गलीज़ ,
(उनका एक ही मकसद आतंक , जब भी वे पार करें देश की दहलीज़ , होश में आओ कमज़र्फ़ों)


जो कमाए करोडों अरबों हाथों ने , बंद हैं, बस कुछ मुट्ठियों में वो पैसे ,
हमें मालूम है ,तू है अब भी , इंसाफ़ के तराज़ू , मगर करें तेरा यकीं कैसे


कहे हैं अंकल ओबामा : बाहर ने नहीं होगा काश्मीर मुद्दे का समाधान ,
धन्य भाग बता दिए , ई हमारे वाले पोलटिशियन को पते नहीं था सीरीमान ,
(देखिए हो कालू चचा कुछ कहे हैं गौर किया जाए)


सार्वजनिक नहीं हो सकती राष्ट्रपति की विदेश यात्रा की सूचनाएं ,
लेकिन अईसा का घनघोर घूम डालीं महामहिम , तनिक हमें भी बताएं
(कहां आएं , कहां जाएं , किस्सा सबको सुनाएं ...)


महंगाई और कंपनियों के परिणाम तय करेंगे बाज़ार की चाल ,
और इन सबके बीच खुल्लम खुल्ला कहो कौन पीटेंगे माल ???
(भीदाऊट आपसन टैलिए तो ..मतलब बताइए जी)


चकाचक सेवा शुरू , अब ग्राहक खुद ही अपना पासबुक करेंगे अपडेट ,
हा हा हा हा हा , अबे पगला हो क्या ,खाता भराएंगे कि अपना भरेंगे पेट
(कसम से , जले पे नमक छिडके हो बेट्टा !)


लो भाई शाम को डिकिलियर हो गया जो था सबसे बडका खबर आज ,
उधो माधो का बनके चले सारथि जरूर इसमें कोई राज़ ,सब ढूढ रहे महाराज


लगा दो अब आग पानी में तेज़ाब मिला कर ,जब हमाम में सारे ही नंगे हैं ,
अबे भक्क साला , अब न कहा करो बार बार ये,कि कानून के हाथ लंबे हैं ,
(हमें त टुंडे लगते हैं , कभी कभी तो खुद गुंडे लगते हैं :)



हैरान न हुआ करो जो देश का आजकल ये हाल दिखता है
दर्द हो नंगापन , अच्छी पैकिंग में हो तो हर माल बिकता है ,
(बेचने खरीदने वाले सौदागर कौन हैं बोलो तो भला)


वाशिंगटन :अब मोबाइल फ़ोन , टी-शर्ट से ही चार्ज़ हो जाएगा
बाह बाह का बात है बे , फ़िर तो लैपटॉपवा निक्कर के हिस्से आएगा ,
(देखिए कहीं जादे ही न चार्ज़ हो जाए कि धधरा मारने लगे)


दो उपमुख्यमंत्रियों की ताजपोशी के बाद ही थमा कर्नाटक विवाद,
यानि कि एक मुख्य दो उपमुख्य , कुल तीन मिलकर करेंगे सब बर्बाद
(केतना मजबूत लोकतंतर है भाई :)


यूपी के लिए विशेष आर्थिक पैकेज मंजूर ,50 हज़ार करोड की मिली सौगात
तो ये था राज़ दादा की दावेदारी से हाथ मिलाने का , समझ में आई बात ,
(बहुत अच्छे , बच्चे अखिलेश , चरा दिए न देश ,चमकाओ उत्तर पिरदेश)


राष्ट्रपति चुनाव के लिए व्हिप जारी करना अपराध है , बोलिस रे आयोग ,
अबे समझाओ जाकर उसको ,जो निरपराध है , ये तो मुजरिम लोग ,
(इन्हें राजनीति का रोग , देश का कुसंजोग ,रे देस का कुसंजोग)


आयोग ने खारिज की संगमा द्वारा उठाई गई थी जो आपत्ति ,
अबे हाय हाय ये ससुरा राष्ट्रपति इलेक्शन है या है नेशनल विपत्ति ,
(अबे मरो जल्दी फ़ूंके मोमबत्ती)


रम ब्यूरो की रिपोर्ट ,देश में सिर्फ़ 3.8 प्रतिशत लोग हैं बेरोज़गार ,
और जिनके पास है नौकरी वे भी , इक दूजे से मांग रहे उधार ..
(बस एक जिसके मजे खूब हैं यार , वो है ये ससुरी सरकार)


खबर ये है कि दो तिहाई लोग जाम से मिटाते हैं अपनी थकान ,
गज्जब जी गज्ज्ब , इसके बाद मिटा लेते हैं अपनी दुकान और मकान ,
(तमाम साकियों और पैमानों से माफ़ी सहित (:


राम गोलाप वर्मा : ओसामा था सन्नी लियोन का दीवाना ,
हे हे हे , त ई बतवा तो आपको महेश भट्टवा को था बताना ,
(उहे खुजली सिंह बना रहे हैं जिस्म टू ..साले कितनो जिस्म बना लें इनका खुजली नय मिटेगा)


संगमा : हमें मतदाता अंतरात्मा की आवाज़ पर वोट देंगे ,
कद्दू ! अंतरात्मा गई तेल लेने , उन्हीं को मिलेगा जो नोट देंगे
(आपको तो खाली चोट देंगे ..अरे कह रहे हैं न बूझते काहे नय हैं जी)


आखिरकार प्रधानजी ने लहरा दिया पूरे विश्व में अपना नाकामी का झंडा,
मिला था कभी सबसे काबिल का सम्मान ,युनिट टेस्ट में मिल गया अंडा ,
(जो चल जाए कानून का डंडा , तो परमानेंटली बंद हो जाए धंधा)


टाइम पत्रिका ने PM पर उठाए सवाल , कहा मनमोहन सिंह को फ़िसड्डी,
ल्यो, इत्ते टाइम बाद पता चला, अबे नहीं है उनमें बची रीढ की हड्डी ,
(काल मामता दीदी बोली थीं न कि , ई कि गोंडोगोल होच्चे रे बाबा)



विदेश मंत्री कृष्णा ने हिना को सुनाई खूब खरी खरी ,
कंफ़र्म कर लो बे , सावन के अंधे को दिखती है घास हरी हरी ,

खरी खरी सुनाओ कि उन्हें सुनाओ खोटी खोटी ,
कसाब जिंदाल साले बैठे जेल में रोज़ चबाएं बोटी ..





आठ सालों में 2जी समेत 15 लाख करोड रुपए के घोटाले हुए उजागर ,
अबे ये तो हाल है लूट खसोट , फ़िर देश को गरीब काहे कहते हो बिरादर,
(खाते रहो और गाते रहो ...हो रहा भारत निरमान , अरे हो रहा भारन निरमान)

शनिवार, 30 जून 2012

यहां नलके भी प्यासे हैं ...........











देखिए मेरे शहर का हाल कैसा है


यूं तो मेरे शहर के मिज़ाज़ , अच्छे खासे हैं ,
तकलीफ़ है तो बस इतनी , यहां नलके भी प्यासे हैं ॥



:)


पडोसियों के घर से फ़ुल भोल्युम में , आ रही है टीवी चलने की आवाज़ ,
शायद सब देख रहे समाचारों के नाम पे क्या बकवास दिखा रहे हैं आज ..



:)


वो जो जिस टुन्नामेंट का पिछले दिनों रोज़ ही होता रहा चर्चा ,
नए कप्तान दादा ने सुना है अपने मैच का आज भरा है पर्चा ,
(कितना टाईम कर रहे खर्चा ...इसे जल्दी निपटाओ बच्चा । पका दिए हो कसम से , जेतना चर्चा पांच साल में नय होने वाला है पूरा कोटा अभिए निकाल दो .अबे चलो बे)


 :)

 ल्यो फ़िर पडा है पब्लिक के गाल पे सरकार का महंगाई का लाफ़ा ,
दिल्ली में , बिजली की कीमतों में 26 प्रतिशत का हो गया इज़ाफ़ा ,
(रेट देखिए घरेलू 24% , व्यावसायिक 19% आ औद्योगिक 20 % ....देख लिए न देश के इकोनोमिक्स वाले मनेजर रखने से इहे होता है ..घरेलू सबसे झमेलू आ झेलू है ..बकिया सब ठेलम ठेलू है)


 :)

ए हो भगबान जी , दिल्ली की गर्मी का हाल अब आपको और क्या बताएं ,
पवन देव तो राते से ड्यूटी पर आ गए ,आप वरूण देव की फ़ौरन पठाएं ,
(इंह्ह ई बरखा रानी न है ..इसलिए देर से ही आएंगी ...बरखा राजा होता त कब्बे ढुलकते हुए आ पहुंचता ..)

 :)


 ये कैसी रे चली हवा कि चहुं ओर मंत्रालय में आग रही है भभक ,
मंत्रालय के जलने का गम नहीं , एक भी मंतरी नहीं जल रहा है भक्क ,
(तभिए तो कहते हैं ..भक्क साला)


 :)

गर्मी और पानी की किल्लत से स्वास्थ्य सुविधाएं भी हो गईं बेहाल ,
ल्यो स्यापा , डाक्टरवा सब तो पहिले ही डिक्लीयर किहिस था हडताल ,
(कईसे बचबे रे मरीजवा रे ....मर गईल सबके ज़मीरवा रे )



:)


साला जो समोसा था चवन्नी का ,आज दस रुपए का मिल रहा सब ओर है,
ई इकोनोमिक्स वाला सब फ़िर काहे डिरिया रहा है , रुपैय्या हुआ कमज़ोर है
(अबे ई कमज़ोरी का लक्षण है बे ..बमपिलाट हो गया साला ..चवन्नी अठन्नी से एक रुपैय्या तक गायब है ...आ हजरवा का नोट खुदरा बन गया)


 :)

दिल्ल में बिजली दरों में 20 से 25 फ़ीसदी वृद्धि के दिख रहे हैं आसार ,
चलो बे चलें , लल्लन किराने वाले पे , खरीदें ललटेन मोमबत्ती यार ,
(ई ससुरी गोरमिंट तो कर दिहिस है बंटाधार , मन करता है डंटा लेके फ़ोड दें कपार )

:)

आखिरकार पत्नी समेत वीरभद्र पर भ्रष्टाचार का आरोप हो गया तय ,
जय हो , कांग्रेस की सरकार में करप्शन का खूब बना रहता है लय ,
(आउर जुलुम तो ई देखिए कि , भारत निरमान भी होता रहता है एकदम्मे से)



:)


आम आदमी को कोई राहत नहीं , आरबीआई ने किए रस्मी एलान ,
हमें इसकी को है भी चाहत नहीं , बैंक भी क्या कोई कम करती है परेशान ...
(लाखों का कर्ज़ हो जाता है माफ़ , आ थोडे से कर्ज़ के नीचे दबता है किसान)


 :)

 बसपा का आरोप : यूपी में कई समानान्तर सीएम चला रहे सरकार ,
अबे तो का हुआ , केंद्र में भी तो कै ठो पीम देश का कर रहे बंटाधार ,
(ल्यो मेडम्म , मेडम्म का बेटवा ,मेडम्म का पिरधान जी , मेडम्म का लुंगी मंतरी ..अबे छोडो ..सब टोटल पीएमवे न है आजकल , पीएम बोले तो पालतू मंतरी , और क्या )



:)

 जोगी : संगमा को आदिवासी के नाम पर वोट मांगने का नहीं है कोई हक ,
आदिवासी हो कि मंगलवासी , किसी नाम पर बस वोट मिल जाए बुडबक
(इंह्ह बूझते नहीं है क्या हो ..उनको महामहिम है बनना हो)


 :)

कहीं दूषित जलापूर्ति तो कहीं बिल्कुल ही सूखे पडे हैं नल ,
अबे आज का रोना मत रो बे , ये सोच कि तेरा क्या होगा बे कल ,
(बेटा चल चल चल और भी तेज़ चल , ये धरती रही रे जल )


 :)

 
बोले हैं दादा प्रणब : वित्तमंत्री के रूप में बडे फ़ैसले जनहित में लिए ,
अच्छा, हम तो गरियाते रहे पिरधान जी को कि , उहे थे बंटाधार किए ,
(चलिए अब लोडबो , कोरबो , जीतबो रे गाते हुए भवन में टहलान के लिए जाइए )


:)
 

 दिल्ली की CM शीला दीक्षित ने दिए बिजली के दाम बढाने के संकेत ,
हाय हाय पेट्रोल के बिजली , महंगाई का सांड , देखो चरता जाए खेत,
(पैसा हो गया रेत , फ़िसलता जाए रे , लुढकता जाए रे)


 :)

केंद्रीय मंत्री वीरभद्र पर चलेगा भ्रष्टाचार का केस ,
कौन कमाइस कितना , अब तो इहे चल रहा रेस ,
एक ही थैली के हो चट्टे बट्टे बे , बेशक अलग है फ़ेस,
तुम लोग का एक ईलाज पिछवाडे पेट्रोल छिडक के माचिसिया दो लेस

(आ गनवा लगा दो ....हो रहा भारत निरमान )



:)


 ल्यो भैय्ये सुने हैं एक ठो और आतंकी अबू हमज़ा गए हैं आज धरा ,
कहां गए रे भनसिया/खानसामा , बिरयानी की एक ठो और पतीली चढा ,
(जय हो बहुत बडी सफ़लता है ई ..उछलते रहिए , कूदते रहिए आ मरते कुढते रहिए)


:)
 

 बहुत बडी ,अरे बहुते बडी सफ़लता मिली , हुआ अबू हमज़ा गिरफ़्तार ,
कसाब को पकड के जो कर न सके कुछ , अब वो घंटा लेंगे उखाड ..
(का तो इससे बहुत बडा खुलासा होगा मुंबई हमले के केस में , अबे बचा का है खुलासा करने को बे)


 :)

अजब देख रहे हैं इस पगलाए से मीडिया का हाल ,
हर चैनल पर कल से देख रहे हैं सरबा आतंकी अबू जिंदाल ,
(कहा , कैसे ,कब , पादा हगा लघुशंका किया सब पर फ़ुटेज मौजूद है मीडिया के पास , साला पकडा इतना लेट काहे गया , पता नहीं )



:)


हुक्मरानों ,काश कि कभी तुम्हारे साथ भी यही सब जो हो गया होता ,
कुछ मीलों के फ़ासले पर कैद अपने के लिए , पूरा शहर रो गया होता ..
(नहीं तुम नहीं समझोगे इस दर्द को , किसी अपनों को नहीं खोकर भी खोने का दर्द क्या होता है)


 :)


ल्यो और सुनो , भारत पाकिस्तान के बीच बढ गई है से अविश्वास की खाई,
काहे बे , इत्ती फ़ैसलिटि के साथ तो कसाब को , हमने बिरयानी है खिलाई ,
(ओईसे दुन्नों को एक दूसरे पर विश्वास ही कब था भाई ???? )



:)




सब कुछ ज़ायज़ बा हो , परेम आ जंग मा ,
जोर लगा के दौडत बा , जभिए पी ए संगमा
(जोर लगा के हईशा ..जोड लगा के हईशा ..पकडे रहना छोडना मत ..पकडे रहना छोडना मत)


:)




प्रणब के बाद , प्रधान मंत्री खुद ही संभालेंगे , वित्त मंत्रालय ,
अच्छा चलो ठीक है , लेकिन ये बताओ वे , कित्ते का बनवाएंगे शौचालय ..
(अमां बडे आदमी हैं तो बडी बात और बडा ही शौचालय चाहिए न होगा योजना निर्माण के लिए)


 :)

 गृह मंत्रालय के दफ़्तर में लगी आग ,लगने के कारणों का नहीं चला बता ,
हा हा हा जियोह्ह बेट्टा !अबे हमीं से पूछ लेते , इत्ता तो हमीं देते बता ..
(बताएं का हो ??)


 :)

 राष्ट्रपति पाटिल ने अपने कार्यकाल में 35 की फ़ांसी ,उम्रकैद में बदली ,
एक दुविधा है मन में , न्यायपालिका नासमझ थी , या समझदार है अगली
(दुनिया तो है पगली .....)


 :)

थोडे मजबूत बनो तुम अब तो ,ये सियासत की बदगुमानी का दौर है ,
ये जो हमारे ही बीच से सर पे जा बैठा है हमारे, हमसा ही है , नहीं और है
(इसलिए इसका घेंट पकड के नीचे खींचिए और फ़िर से अपने बीच ले आइए , अब राजनीति में नॉन पॉलिटिकल लोगों का दखल बढना चाहिए )


:)




वीरभद्र सिंह को छोडनी ही पडी मंत्री जी की कुर्सी ,
अरिस्स साला वीर भी आ भद्र भी ,इनका तो पहिले ही होना था मिज़ाज़पुर्शी
(चीन में होते त भद्र परलोकगामी हो लिए होते इत्ती ही वीरता आ भद्रता के लिए ..भारत में हैं त क्या गम है)


 :)

जो कहते रहे रात चीख चीख कर ,लो कर रहे हैं तुम्हारे एक कैदी की रिहाई,
लो देख लो , सालों ने, सुरजीत और सरबजीत के बीच ही मार दी चतुराई .,
(ई अपनी गोरमिंट को कुछ समझ काहे नहीं आता है भाई , साले कसाब , अफ़ज़ल आ अबुआ को बैठा के खिला रही मुगलाई ....सब मौगा सब है साला )



:)


किंगफ़िशर का साथ , अस्सी इंजीनियर चले गए हैं छोड ,
हाय हाय ,ऐसा क्यों ,क्या सच में कसम खाकर ,उन्होंने बोतल दी है फ़ोड ..
(ओह धत तेरे कि अबे किंगफ़िशर उडान कंपनी की बात कर रहे हो क्या :)

शनिवार, 23 जून 2012

ये दौड है राष्ट्रपति चुनाव के लिए , या वडा पाव के लिए ....









राष्ट्रपति भवन की ओर हर कोई लगा रहा ऐसी दौड ,
अबे महामहिम बनना चाह रहे हो कि राउडी राठौड






तीन नए नामांकन और दाखिल हुए हैं , राष्ट्रपति चुनाव के लिए ,
हा हा हा अबे , ये प्रेसिंडेट के लिए ही दौड है न , या है वडा पाव के लिए ..
(लग नय रहा है बेट्टा ..लछ्न्न से तो हमको )


ममता को मनाने प्रणब दा कोलकाता जाएंगे ,
उडी बाबा , फ़ीर कोई कोथा से नया गंडोगोल खिलाएंगे ,
(इत्ता कंपटीसन ..हाय अब तो सट्टेबाज इस पर भी सट्टा लगाएंगे :)


जदयू सांसद निषाद ने राष्ट्रपति चुनाव लडने की इच्छा जताई ,
हायं , अबे ई बात है तो फ़िर कोई हमको भी पूछिए लो भाई ..
(मामता दीदी एकदम्म भीरोध नोही कोरेगी ..ई गारंटी हाय रे बाबा , ऊ हामको चीन्हती नोही है भेरी शियोर )


पीएम: राजकोषीय घाटे पर लगाम के लिए कठोर कदम उठाएगी सरकार ,
कोंची का घाटा हो , ई टोटल पईसा तो लूट लिया है जी आपही का दरबार,
(कदम उठाइएगा आप , लंगडदीन कहीं के , फ़ुरा रहा है जादे का हो )



पाकिस्तान की कोर्ट ने गिलानी को अयोग्य दिया करार ,
अरिस्स साला ,दुन्नो कंट्री का पिरधान नकलीए है यार
(एकदम डिरामा है जी डिरामा है)


मोदी प्रधानमंत्री के रूप में नीतिश को नहीं है मंज़ूर ,
ल्यो और सुनो , ऊ देश का बनेंगे , आपके घर का नहीं हुज़ूर
(अबे पहिले प्रेसीडेंट हो जाने दो फ़ाइनल रे , फ़िर पिरधान पिरधान खेलना बे )


आसाराम बापू के बेटे को भी राष्ट्रपति पद का बनाया गया है उम्मीदवार ,
बस बहुत हो गया , चलिए अब हम भी चलें , बताइए कौन कौन है तैयार
(अबे जब सारा लफ़डा है बेकार , तो हम भी काहे पीछे रहें यार ..बोल सियापति रामचंद्र की जय :)


देखिए जी देख के इतना डिरामा साला , इहे लिया गया है डिसीज़न ,
राष्ट्रपति चुनाव का फ़ार्म निकलेगा अब भाया स्टाफ़ सलेक्शन कमीशन
(टोटल बहाली प्रक्रिया का सचित्र समाचार आपको नयका रोजगार समाचार में पन्ना लंबर उन्नीस सौ बहत्तर पर पढने को मिलेगा ..साथ में साढे बारह आना का पोस्टल आर्डर ( मनी आर्डन नय चलेगा जी ) भी नत्थी करना पडेगा ..भीश जू भेस्ट आफ़ लक्क )


मुख्यमंत्री:मीडिया दिल्ली में पानी की कमी को बढा चढा कर दिखा रहा है,
हां हां जी बिल्कुल , वर्ना तो हर घर में आपका मामा पानी पिला रहा है
(अबे ई कहिए कि मीडिया घंटा दिखा रहा है , बस कैमरा डोला रहा है )




सीवीसी ने भ्रष्टाचार में लिप्त 74 अफ़सरों पर लगाया जुर्माना ,
अच्छा , ई चोट्टा सबसे पैसा कितना वसूले बाद में ई भी बताना ,
(नय तो बंद करो ई गाना , पहिले भी देख चुका है जमाना ...जुर्माना हुंह्ह्ह । अब टोटल पैसा जब्त करके जनता को वापस करो बे वापस , खून पसीने का कमाई है समझे कि नहीं बे )



सवा करोड टन अनाज फ़िर से है बर्बादी के कगार पर ,
सवा अरब की जनसंख्या में अब भी बहुत रहे हैं भूख से मर
(थू है साला थू है इस सरकार और प्रशासन पर , एक एक मौत के लिए इन सबके जिम्मेदार लोगों को सूली पर टांग देना चाहिए , इससे कम की कोई सज़ा नहीं , कोई रियायत नहीं , कोई अदालत नहीं , कोई वकालत नहीं )




19 सडकों पर 44 करोड रुपए खर करेगा दिल्ली नगर निगम ,
कुछ सडक के गड्ढों में और कुछ जेबों में , टोटल माल हज़म ..
(बाद में फ़ुटफ़ाट पे भोपूं में गाना बजेगा ..हो रहा भारत निरमान , सो रहा है हर इंसान , लोकतंत्र की ये पहचान ..रे हो रहा भारत निरमान )




संगमा ने पार्टी ही छोडी , लेकिन राष्ट्रपति चुनाव का मैदान नहीं छोडा ,
वाह , इस रेस का अबकि बार मज़ा उठा रहा है हर कोई , गधा हो या घोडा


तृणमूल के असंतुष्ट सांसद ने किया प्रणब का समर्थन ,
बाकी काम देश का छोड के , सालो बस करो यही घमरथन
(घमरथन बूझ गए न जी ..हां इहे जो टोटल नेशनल नाटकबाजी चल रहा है)




राष्ट्रपति चुनाव पर विपक्ष बिखरा , राजग बंट गया दो फ़ाड में ,
अबे पब्लिक से पूछ के देखो ज़रा , कहेगी , सब जाओ सालों भाड में ,
(राष्ट्रपति चुनाव को भी ..गोलगप्पे की दुकान बना दिहिस है सरबा सब ..रोजिन्ना नया मसल्ला भरता है इसमें )


सब कुछ ज़ायज़ बा हो , परेम आ जंग मा ,
जोर लगा के दौडत बा , जभिए पी ए संगमा
(जोर लगा के हईशा ..जोड लगा के हईशा ..पकडे रहना छोडना मत ..पकडे रहना छोडना मत)


दूसरे देशों के जाबाज़ सेनानी , अपने अपने देश की सीमा रहे संभाल ,
हाय रे अपने देश के हालात , सैनिक , गड्ढों से बच्चे रहे निकाल ,
(गज्जबे है ई हाल , साला रोज़ का यही बवाल )


सुनो जी भाई लोगों , कंडीसन क्रिटिकल आ समस्या बहुत घनघोर है ,
कानून के आंखों पे बंधी है पट्टी , और सियासत खुदही बडी चोर है ..
(बस हर तरफ़ इक शोर है ,ये दिल मांगे मोर है ...मोर है जी मोर है)


देश के गड्ढे ,मुसीबत हो गए हैं ससुरे ,बच्चों की जान को आफ़त में हैं डाले
अबे जरा उन्हें भी पकड के लाओ , ई ससुरे कौन हैं साले , गड्ढे खोदने वाले
(बचिया को बाहर निकाल दो , फ़िर इन गड्ढों में दोषियों को डाल दो ...आ ऊपर से बुलडोज़र फ़िरा दो ...इहे इलाज़ है परमामेंट इनका)


सुनो बे घोटालेबाजों , कुछ नहीं होगा फ़ाइलों के जलने जलाने से ,
तुम्हारी करतूतें और तिज़ोरियां , क्या छुपी हैं भला इस ज़माने से ,
(साला पहिले ही कौन हो रही थी सज़ा तुम्हें इन फ़ाइलों को बचाने से ...काश कि तुम जर जाते इसी आग में , फ़ुंक के मर जाते इसी आग में ..मारिए इस अगलगी का कोनो फ़ायदा नय हुआ जनहित में )


हे हो भगबान जी , बाई गॉड की कसम ,आपो गज्जबे जुलुम करते हैं ,
बम फ़टे ,बज्र गिरे, रेल भिडे ,आग लगे ई पोलटिशयन काहे नय मरते हैं
(उनका उद्धर कैसे होगा प्रभु , कोनो बान कोनो चक्र मारिए न फ़ेंक के होईजे से हो)


दु ठो टेनिस के खिलाडी टनाटन , दुन्नो में फ़िर से गई है ठन ,
ओलंपिक पदक मिले न मिले , मुदा दुई ठो टीम अब जाएंगी लंदन ,
(अबे काहे कर लिए अनबन , मिल के खेलते न दनदन ..दुर बोकवा सब कहीं का)


धत साला का फ़ायदा हुआ, मंत्रालय में इत्ती बडी ,लगी भी ,जो आग ,
टोटल ससुरा सब ससर गया लपेटे में आया नहीं एको ठो राजनीति का नाग
(भाग भाग भाग डी के बोस ..भाग भाग भाग ..लगी रे आग आग आग)


मुंबई के मंत्रालय में लगी आग , कई घोटालों के फ़ाइलें जलने की आशंका,
आयं , अच्छा ई कईसे , चिंगारी उठी कहां से , अबे कौन जलाइस ई लंका
(जांच आयोग बिठा के फ़ौरन ही पचीस पचास साल में रिपोर्ट दाखिल करो बे)


बहरी हुई सियासत कबकी ,तो भईया , बोल तू ,ज़ोर लगा के बोल ,
बिंदास , बेबाक , बेधडक , चौपहरा , बस खोलता जा ,सबकी पोल ,
(जब तक फ़टे न इनका ढोल , और हो न बिस्तर गोल .....दे दनादन गोल दनादन दे दनादन गोल )


संगमा जी ने प्रणब दादा को दी ,खुली बहस की चुनौती ,
सब करें बहस जो महामहिम की पोस्ट को समझ रहे बपौती ..


सिंगुर में भूमि वापसी पर टाटा जीत गए, ममता मुकदमा हारी,
हाय दादा से रूठ के भागी थीं दीदी , इहां भी कित्ती हुई बेचारी ..
(कुछ समझो दीदी प्यारी , कित्ती करती हो मारामारी )


जेल काट कर लौटे सलमान बट्ट का पाकिस्तान में स्वागत हुआ ज़ोरदार ,
ल्यो तो काहे न हो भाई , आखिर उनका क्रिकेटर इत्ता टैलेंटेड निकला यार,
(चढाओ फ़ूलों के हार , आ माला भी करो तैयार )

रविवार, 17 जून 2012

संडे सन्नाट , खबरें झन्नाट .........











हम बांचते हैं अखबार अब , और रखते हैं अपना व्यूज़ ,
अरे मारिए गोली टीभी को , सुनिए टटका न्यूज़
(ई पेपर टीभी बाला सब त असलका बात गोल न कर जाता है )


मुलायम-ममता का सियासी दांव , कई नामों को आगे बढाया ,
आयं , अबे राष्ट्रप्ति चुन रहे हो कि , पिज़्ज़ा बना रहे हो भाया ,
(एक से एक गुलाटी मार रहे रोजिन्ना)


ल्यो जी सुने हैं राज़धानी फ़िर से गर्मी के चपेटे में है ,
तुमको गर्मी का पडा है, अबे इहां देश , चोर डाकू के लपेटे में है
(धो डालो अबके करो ऐसी बरसात देवा )


नहीं मिलेगा कोटे में कोटा , सुप्रीम कोर्ट का आदेश पर रोक लगाने से इंकार
ले लोट्टा , ई तो जुलुम हो गिया बे , अब भोट बैंक कैसे बनाएगी सरकार
(ई त हो गया बंटाधार )


जल्दी ही मिल सकती है पेट्रोल में और दो रुपए की राहत ,
सुनो बे सौ रुपए का कर दो ,उसी पेट्रोल से तुम्हारी चिता फ़ूंकने की है चाहत
(कसम से बहुत मचाए हो आफ़त ,  साला इहे हो गया है आदत )


नोएडा प्राधिकरण में अब ,उजागर हुआ 945 करोड का एक नया घोटाला ,
किस किस को रोइए , किस किस को कोसिए , एक से एक चोर है स्साला
(इन लोग का एक ही ईलाज है , पाई पाई जब्त करके सडक पे छोड दिया जाए)


प्रणब: बीमा कंपनियां करें घाटा कम करने के उपाय ,
कईसे जी कईसे , हर कोई कह रहा हमही को राष्ट्रपति दो बनाय
(एक ठो तो कोनो मुखर्जी दादा भी हैं उडी बाबा )


खाद्य मंत्रालय कर रहा है , विदेशियों को सस्ता गेंहूं देने की  तैयारी ,
अबे भेजो हमको भी बिदेस जल्दी , इससे पहले कि पहली खेप हो जारी ,
(लेकिन एक ठो बात सुनो बे हमारी , दस किलो की बोरी फ़िर काहे हमको पडती है भारी ...माने ई कनसेसन रेट इंडिया में काहे नय चालू करते हो बे मंत्रालय )


राष्ट्रपति की दौड में आगे आया  पीएम का भी नाम ,
हां त एकदम सुटेबुल है , न यहां कोई न वहां पर कोई काम ,
(मुंह पे लगा के बैठे रहें लगाम , बकिया टोटल करिए लेंगे मदाम)


ममता कलाम और कांग्रेस प्रणब मुखर्जी के नाम पर अडी ,
नाच रही राजनीति सरेआम , पब्लिक देख रही खडी खडी ,
(हाय ये कैसी आ गई रे घडी , बौने पड गए सारे दस्तूर , कुर्सी हो गई बडी)


कांग्रेस : 2014 तक पीएम बने रहेंगे मनमोहन ,बदलने का सवाल ही नहीं ,
जनता : तुम आने तो दो 2014 भूस भर देंगे खींच कर , बचेगी खाल ही नहीं
(बात करते हैं ..........अबे न हो यकीन तो पूछ लो अवाम से एक बार )


कृष्णा : अब पाकिस्तान को भारत के साथ सहयोग करना  होगा ,
बाह बाह चाब्बास , आ कसबवा के बिरयानी का बिल कब तक भरना होगा
(ए सुनिए हो मंतरी जी , कोई आप लोक का मरता ई हमला में तब देखते कि केतना फ़ुराता है आप लोग को ई भाषणबाजी)


सरकार ने यूरिया के दामों को बढाने का फ़ैसला टाला ,
काहे बढाइए दो न ,राजकोष खाली हो रहा होगा , इत्ता कर रहे  घोटाला ,
(तुमको जिता डाला तो लाईफ़ झिंगालाला झिंगालाला ....धुर मार साला )


आम आदमी को नहीं मिलेगी राहत आसमान पर पहुंचे खाद्य पदार्थों के दाम
आसमान पर ?? उफ़्फ़ जुलुम हो गया , पायलट भी हडताल पर हैं हाय राम
(जब जमीन वाले दाम नहीं पकड में आते तो आसमान के क्या खाक पकड में आएंगे )


अटकले तेज़ हैं कि पीएम वित्त मंत्रालय को खुद ही सकते हैं संभाल ,
जय हो ,एकदम करेक्ट , वो भी अंदर कर लें , देश का जो बचा हुआ है माल
(जब हो जाएं कंगाल , फ़िर ठन ठन गोपाल)


राष्ट्रपति भवन में दादा के पहुंचने की सुनाई दे रही आहट ,
ल्यो जब लास्ट में इहे हुआ फ़ाइनल तो फ़िर काहे इत्ता नाटक ,
(ई दीदी आ दादा का ट्वेंटी ट्वेंटी भेरी भेरी कंफ़ूजिंग होलो रे बाबा)


कौन होगा नया वित्तमंत्री , आधा दर्जन नामों पर कयासबाजी का दौर ,
काहे नहीं ,राष्ट्रपति पर कम हुआ है छीछालेद्दर , थोडा गंद मचा लो और
(एकदम घिना के रख दो बे , इहे न असली लोकतंत्तर है जी )


दिल्ली में पार्किंग शुल्क सौ रुपए ,प्रति घंटे करने का प्रस्ताव ,
छोडो नैनो,सैंट्रो ,और महारुति , फ़ौरन जाकर खरीद लो बे नाव ,
(हा हा हा पेटरोल से बचे तो पार्किंग से गए , सरकार के हथकंडे नए नए)


मंत्रालय : दस गुना ज्यादा कीमत पर बिक रही हैं दवाएं ,
दो जून की रोटी जिन्हें मयस्सर नहीं वो दस गुना की दवा कहां से खाएं ,
(फ़िर डाक्टर कहते हैं आमिर अईसा कार्यक्रम काहे बनाए , इत्ता सचमुच सचमुच डायरेक्टली दिखाए)


पानी का छाया संकट , दिल्ली-हरियाणा में बढ गई है तकरार ,
आओ अब कुंआं खोदें ,पानी के लिए नहीं , सब उसीमें कूद मरें अब यार,
(भाड में जाए दिल्ली और चूल्हे में हरियाणा , रोज़ रात को दो बजे हाय  पानी का मोटर पडे चलाना )


बिजली की मांग ने रिकॉर्ड तोडा , कटौती पर लोगों ने किया हाईवे को जाम,
बुलाओ पंडित, करो दाह संस्कार, अब लेकर हर मंतरी जी का नाम
(राम नाम सत्त है , कंडीसन बहुत पस्त है)


फ़ेसबुक , गूगल पस्त हैं , ट्विट्टर बाबा हैं तंग ,
शब्दों के शहतीरों , दिन रात हम लडे जा रहे जंग
(पब्लिक नंग धडंग , सियासत मस्त मलंग


महंगी हुई शराब , 100 करोड से अधिक कमाई करेगी अब सरकार ,
आदत बहुत खराब , ज़हर को महंगा कर कर के कब तक बेचोगे तुम यार
(पिलाते रहो पिलाते रहो , साकी , खून में ज़हर मिलाते रहो साकी)


जो हो गया हो फ़ाइनल नाम राष्ट्रपति का तो अब आगे काम बढाओ बे ,
महामहिम का अर्जेंटी नहीं है कोई , पहले शहर में बिजली-पानी लाओ बे
(दादा हो कि बाबा हो , साधु हो कि नागा हो , सोया हो कि जागा हो , का फ़र्क पडता है पब्लिक को)


मजदूर मर गया नींव के नीचे , किसान कर्ज़ के मारे करते रहे सुसाईड ,
दीदी का बात रखें या दादा का मान , सियासत ससुरी  करती रही डिसाईड.
(बाबा रे बाबा कि गोंडोगोलो होलो रे दादा , ई देस केतना रे अभागा)


दिल्ली एनसीआर में बिजली कटौती से लोगों में मचा गया हाहाकार ,
इहां मस्त होके , पच्चीस दिन से पति का नाम ही तय कर रही सरकार
(साला इससे फ़ास्ट रिजल्ट तो लल्लन मेट्रेमोनियल ..रिश्ते ही रिश्ते वाले दे देता ....चाहिए एक अदद पति ....राष्ट्रपति)

बुधवार, 13 जून 2012

छांटल छांटल खबरिया ...












पैंसठ के हुए लालू कहा , अभी तो मैं जवान हूं ,
अबे चारे में था इत्ता असर देख, मैं खुद हैरान हूं ..
(बताओ साला ई भनभीटा आ होरलिक्स सब का पिरचार फ़ेल है जी )

अजय देवगण की फ़िल्म में आयटम नंबर करेंगे सलमान ,
उफ़्फ़ा सीला की जवानी , ये देख कर हाय कित्ता होगी हैरान ,
(आयटम गर्ल की आयटम खान...उफ़्फ़ कित्ती आइटमी फ़ैमिली हो गई जी )

BMEL के मिश्टर चेयरमैन सीरी नटराजन हो लिए सस्पैंड ,
हा हा हा ईमानदार को उंगली करोगे , तो योंई बाजेगी बैंड ,
(समझे सा .......यू बैटर अंडर इश्टैंड )

फ़िल्म सेंसर बोर्ड में सक्रिय बिचौलिए खत्म किए जाएंगे ,
हे भगवान फ़िर किस तरह से ऊलाला को नेशनल विनर बनाएंगे ,
(का नाचें और गाएंगे ,)

अगला  कौन , अरे रुकिए जी , पहले एक ठो मौनी बा को तलाशा जाएगा ,
आडियो भीडियो बटन निकाल के , म्यूट बटन लगा के पीएम को तराशा जाएगा ,
(उफ़्फ़ कित्ता और त्याग करना पडेगा , राष्ट्रबहू को ...देखिए हो अब ई राष्ट्रबहू के है ई पूछ के झंझट नय पसारिएगा जी )

अनुशासन समिति को भेजी जाएगी स्पॉट फ़िक्सिंग की रिपोर्ट ,
अबे हटो बे , इहां भाई लोग पोस्ट फ़िक्सिंग करने को हो रहे हैं लोटमलोट
(पोस्ट माने ...पिरसीडेंट ...इत्ता भी नय बूझते हैं हो)


लालू ने अभी से छेडी बिहार सरकार को बदलने की लडाई ,
चारा , चरवाहा , चुक्कड , रेल , देखें अबकि फ़ार्मूला कौन सा करते हैं टराई
(ओईसे अब का छेडा छाडी कर रहे हैं , बचले का है अब हसोथने के लिए जी)


पायलटों की बर्खास्तगी पर पीएमओ को हो रहा है ऐतराज़ ,
हां त आपे निकालिए न सोल्यूशन , कित्ता टेंशन में हैं महाराज
(महाराज बोले तो महाराजा , पसेंजर का बज गया बाजा)

मायावती के एक मंतरी पाल जी ने पिछले 5 साल में 30 करोड कमाए,
अरिस्स ! हम सोच रहे हैं , फ़िर बहन जी इत्ते पत्थर के हाथी काहे बनाए..
(इहे हथिया सबको न लगा देना चाहिए था चौराहा पर , गज्जब सलियाना एभरेज है तो छ करोड प्रति ईयर , बाह बाह)

चलो जी और सुनो , सोनिया की पहली पसंद प्रणव , दूसरे हैं अंसारी ,
छांटो छांटो अपना मन पसंद का , दुकान खोल के कितने बैठे हैं पंसारी ,
(इडिंयन आइडल , बिग बास टाईप का इस्कीम भी चलाइए हो , लोग एसएमएस करेगा , अपना अपना चुनेगा सब)

राष्ट्रपति चुनाव: सोनिया से आज मिलेंगी ममता , प्रणब पर सुर हुए गरम
का नाटक लगा रखे हो , फ़ायनल करो , किसके हाथों फ़ूटेगा देस का करम
(महामहिम जो आएंगे , नयका कोंची बताएंगे ..Adhoc नौकरी है जी बस)

सुनिए हो, ई रोजिन्ना के बनेगा महामहिम वाला गाना बंद करिए जी राग ,
हमसे तो पूछिए मत , नय त पेटरोल ढार के आपके मुंह में लगा देंगे आग
(साला सूचिए बता रहा है कि केतना घनघोर लोक को चुना जा रहा है बे )

शनिवार, 9 जून 2012

35 लाख में एक जोडा हगनपुर तैयार है सीरीमान











30 लाख हुए बरामद , आयकर निदेशक समेत छह को किया गया गिरफ़्तार ,
अबे लाख करोड से नीचे बाते नय है किसी का ,साले केतना रहे हो हाथ मार ,
(सब साले दुन्नो हाथ से लूटने में लगे हैं , इनका हाथे काट लो यार )

.
आर्थिक हालात पर हम बेबस हैं , कह रहे हैं दांत चियार के देश के पिरधान ,
आ घोटाला करने को इनके सारे मंतरी जी ,भी उत्ते ही विवश हैं सीरीमान म,
(गजब का बलेंस बनाए हुए है गोरमिंट देखिए तो )

.
ल्यो और सुनो बे ,15 जून तक पिटरोलवा , और भी हो सकता है सस्ता ,
अबे का तुम्हरे पिताजी का कारोबार है , कभी बढा दो दाम , कभी कर दो खस्ता ,
(अबे निकलो , हुर्रर्रर्रर्र हट्ट , बांधो अपना बोरिया और बस्ता )
.

संसाधनों की कमी से आ रही है कूडा निस्तारण में बाधा ,
हां यार सच कह रहे हो , तभी देश में इत्ता हाय कचरा बढ गया ज्यादा ,
(आखिर जेल में भी कित्ता कूडा इकट्ठा किया जावे , ससुरे कचरे जमानत पर फ़िर बाहर निकल जाते हैं )

.
दिल्ली विश्वविद्यालय में आज से , शुरू हुई दाखिले की दौडा-दौडी,
साला रिजल्ट के बाद एडमिशन के लिए बच्चा के दिमाग पे चलता रहे हथौडी ,
(अबे इत्ता ट्रेजेडी टाईप का पढाई हम इधरे देख रहे हैं , साला पहिले छोटा दाखिला के लिए मारामारी , फ़िर चोखा रिजल्ट के लिए मारा मारी , आ फ़िर ई कालेज का बडका दाखिला के लिए भी दौडा दौडी , भागम भाग ..अबे लगाओ इस शिश्टम में आग ...खाक करो ससुरे को )

.

सोनिया मेड्डम्म ही तय करेंगी , राष्ट्रपति के प्रत्याशी का नाम ,
दुर छांटिए कोनो को उंगली पकडे के , इत्ता बडका है हम्माम ,
(हम्माम में सब .......................ठंडे होते हैं , हाय हाय तो आप का समझे )

.
फ़िर उठ रही हैं आवाजें , बस अब तो युवराज को ही सौंपी जाए कमान,
अबे भक्क साला , पूरी टीम ही फ़िक्स है बे , चाहे कित्ता बदल लो कप्तान ,
(ससुरों सब मिल के खेल रहे हो बेट्टा ...कंटरी कंटरी )

.
सेवाकर विभाग ने भेजा रामदेव बाबा को पांच करोड का नोटिस ,
चार सौ करोड लिए साईत पांच का जुगाड , सरकार ऐसे ही करने को सोचिस.
(अब बाकी लोक को भी बीस पचीस करोड का नोटिसिया के सरकार काला धन का स्टोक भी पूरा करही के रहेगी , जादे जोश दिलाइएगा तो)


पिरधान जी : देश अर्थव्यवस्था के कठिन दौर से रहा है गुजर ,
आ मंतरी जी , अपना अपना हिस्सा , रहे हैं स्विस बैंक में धर ,
जनता लटकी हुई अधर , बस फ़िरती इधर उधर ,
जो सिरे से गई उखड , तो  सियासत गई उधड ..


कार्यसमिति की बैठक में विरोधियों पर साधा पीएम-सोनिया ने निशाना ,
चोप्प बे एकदम चोप्प , उडा देंगा पब्लिक ,अगर कर दिया शुरू बंदूक को भरवाना
(एक्के फ़ाईट में उनटा के रख देंगे बे)

.
आर्थिक संकट को देखते हुए आरबीआई घटा सकती है ब्याज दर ,
संकट का कटाओ टिकट , गर टोटल घोटालेबाज का नरेटी लो धर ,
(नरेटी माने गर्दन पकड लिया जावे सुसरों का जेहल में लिटा लिटा के पीटा जाए , एकदम पतरका वाला सोटी से सटासट सटासट )

.

योजना आयोग ने दो शौचालयों पर फ़ूंके रुपए पैंतीस लाख ,
बस इसीलिए तो जनता की नज़र में आयोग की है ऐसी साख ,
(हाय हाय इत्ते महंगे में जाने के लिए कम से कम पच्चीस तीस हज़ार का खनवा तो खाना बनता ही है जी , न त का खाली रोटी खा के थोडे जाने देगा कोई जी )

.

ल्यो कल्हे अपना पिरधान जी , ढीला अर्थव्यवस्था पे घोर चिंता जताए हैं ,
आ छोटका पिरधान दन्न से पैंतीस लाख में एक जोडा हगनपुर बनाए हैं
(साला अब मुसीबत तो ई है कि खाली खाना नहीं ई लोग का तो हगना भी बहुत महंगा पड रहा है हो देश को)


.
मोंटेक की ,छह महीनों में विदेश दौरे का , खर्च है टोटल 2.34 करोड रुपए ,
वाह !चाब्बास इत्ते के बाद ही शायद सरकार को कटौती के उपाय सूझे नए .
(274 दिनों की 42 आधिकारिक यात्राओं और ऊपर की छोटी सी राशि के बादे न साइत कनकिलुजन निकला कि बत्तीस रुपया कमाने वाला गरीब नय है )
.

अमां रुको यार , इश्क ,कविता , नज़्म , शेर और यूं गज़ल गज़ल न करो ,
अभी सियासत की बजाने दो तबियत से , किसी और बात में पज़ल न करो
प्यार और मोहब्बत तो करते रहे हैं और करते रहेंगे ,
लेकिन आखिर कब तलक किस्तों में यूं मरते रहेंगे .....
(अभी इहे चलने दो ...जबरार चलने दो )

.

पिरधान जी : आर्थिक विकास की राह में आ रही दिक्कतें हों दूर ,
का बताएं पिरधान जी , एक तो भुसकोल मिला पिरधान , आ उहो मजबूर ,
(धत सार खाली रोजिन्ना एक्के टेप बजाता है बे ई तो)
.


सोनिया की चेतावनी के बाद यूपीए सरकार ने बदले अपने तेवर ,
हां बे पता है केतना बदले हो , पैंतीस लाख का टायलेट में छानोगे अब घेवर
(एकदम से पाकेटमनी रोक दिए का सबका)
.


शौचालयों पर 35 लाख के खर्चे को मोंटेक मानते हैं बिल्कुल सही ,
हां जी एकदम्म , दादा का न खाता है , आ बाप का इनका बही ,
(बेट्टा करते जाओ यही , जितनी भी सियासत तुम्हारी रही )



प्रमोद तिवारी पर गिरी है , यूपी में हुई हार की गाज़ ,
भारत में हार के लिए किस पर गिरेगी , ई भी तय करिए लो आज ,
(अबे डिसाइड कर लो , काहे से कि पब्लिक त डिसाइड करिए चुके है न)

:)

ममता के डर से पेंशन बिल को सरकार ने फ़िर से टाला ,
इसीको कहते हैं , एक बार लगा डाला तो गोरमेंट झिंगालाला झिंगालाला,
(गले में डाला ढोल तो गाइए अब , ऊ लाला ऊ लाला ,)

:)

दोस्त दिए नसीहत , जिस दिन आपको पकडा सरकार जम के धोएगा ,
हा हा हा पकड के देखे तो सही एक बार,खुदे भोकासी पार पार के रोएगा,
(पोर पोर दुखाएगा रे अपन , सुईया अईसन अईसन घुसोएगा)

:)

अल्पसंख्यक आरक्षण के लिए अगले हफ़्ते ,सुप्रीम कोर्ट जाएगी सरकार ,
अबे टोटल दिलाओ न जी , कोर्टवे में परमानेंटली किसी को बिठाओ न यार ,
(ए सुनो बे , अल्पसंख्यक , बहुसंख्यक , जाति ,धर्म , भाषा ,रंग , रोगन , इस्टेटस , बिन्नेस , सबके आधार निराधार पे रिजभेसन लागू कर दिया जाए ...साला एक ठो सीट भिदाऊट रिजभेसन न बचे ..करिए डालो भारत निरमान)

:)

बारिश का पानी सहेजें तो बुझ सकती है फ़िर दिल्ली की प्यास ,
ल्यो जो ई सब कर लेंगे तो , पानी माफ़िया फ़िर बैठ छीलेंगे घास ,
(आ पाकेट का हो जाएगा फ़िर नाश , अईसा मत लगाइए आस)

:)

ल्यो एक ठो गजबे मुद्दा पर आज एक ठो आउर नया बवेला हुआ ,
गडकरी जी ई काहे किए आखिर , बाबा का झुक के पैर काहे छुआ
(अबे भकलोल सब , पैर श्रद्धा , विश्वास , स्नेह , आशीष के लिए भी छुआ जाता है , आदत हो तो अपने आप ही छुआ जाता है , ई में पोलटिक्स काहे घुसेड के देख रहे हो बे)

:)

हा हा हा अभी इंडियन आयडल में एक ठो तानसेन इत्ता घनघोर गाए ,
लिपुश्टिक लगा लगा के कमरिया हिला हिला के , सबको लालीपाप बनाए ,
(आ सबसे सन्नाट त ई रहा कि , एक्को ठो जज आ होस्ट को नय पहचाने , जाओ सारों करते रहो इंडियन आयडल पचास तक , चिन्हबे नय करते हैं तुमको :)


:)

रविवार, 3 जून 2012

हर ओर इक तमाशा फ़ैला है , कहीं शोर कहीं शराबा फ़ैला है

















मऊसम का भविष्यवाणी सत्य हुआ , आज अभी तनिक सा बरस गए बदरा ,
गरम तवे पे मारा पानी , हुआ छन से , ओईसे ही धरती से उलटा मार रहा है धधरा
(ई अईसा लगा मानो भगवान जी का पसीना भी चुहुक के टपक गया है , देखिए आगे का होता है )

.



डॉक्टरों के संगठन ने आमिर से माफ़ी मांगने को कहा ,
हा हा हा कौन था जी , जो कह रहा था , न , इस शो का कोई असर नहीं रहा ,
(लेकिन विकट सच ई है कि , डाक्टर , पुलिस , वकील , अफ़सर ,अधिकारी आ राजनीतिज्ञ , पत्रकार , कलाकार सब इसी समाज से हैं , हम आप में से ही कोई एक उधर भी है इधर भी)
.



रोमिंग जे जंझट बहुत जल्द ही अब मिल जाएगा छुटकारा ,
गज़्ज़ब !सालों ,तुमने पहले ही ट्यून फ़ून लगा के ,लूट लिया बे सारा..
(अब लोग एतना बुडबक नय है , पंद्रह दिन का छुट्टी के लिए ही , लोग बीस रुपया का नया सिम लेके मस्त हो जाता है ..भाट एन आयडिया सर जी)
.



पेट्रोल मूल्य वृद्धि के खिलाफ़ राजग , वाम दलों व सपा ने किया प्रदर्शन ,
नय ई सब तो ठीक है , लेकिन सस्ता केतना हुआ , तुम चलाए जो चक्र सुदर्शन
(बताओ हे बंदास्टिक वीरों , रोडवा सब गरिया रहा था तुम लोग , भर दिन उनका छाती पे मूंग दले हो बे तुम सब)
.




कि ये आग जो रह रह के सुलगती है , अब पूरी तरह ही सुलग जाए तो अच्छा ,
जगाते रहें हैं झिंझोड कर अवाम को , अब पूरी तरह जो जग जाए तो अच्छा ....
(वर्ना तो खुद कयामत भी लगी है तुम्हें सुलाने और सुलटाने में , अबे महापिरलय का आकासबानी नय सुने हैं क्या जी)
.




टिवाडी जी के खून का नमूना , आज पहुंच गया हैदराबाद ,
बस बस , उधर आया रिपोर्ट , इधर टिवाडी जी हो गए बरबाद ,
(त गुल खिलाते समय नय न जानते होंगे कि डीएनए टेस्ट भारतो में हो जाता है , धरा गए अब)
.




लो जी पिटरोल हो गया सुने हैं , रुपया सस्ता दो ,
सरकार भी ससुरी खेल रही सेल सेल , दाम बढा के बीस पईसा छूट दो ,
(ज्योह्ह रे लाला ..का चला रहे हो आरी धीरे धीरे )
.



उप्र में laptop के मद में 2721. करोड रुपए का प्रस्ताव ,
आयं , अबे सोच लो , उसमें बगावत ही पकेगी , जब जलेगा अलाव ...
(आ तब तुम पिरतीबंध लगाते ही रह जाओगे हाकिम)
.



भारत से संबंधों की प्रक्रिया तेज़ करने के इच्छुक हैं गिलानी ,
हां हां जानते हैं जी , तभिए तो इहां कसाब को सियासत खुद खिला रही बिरयानी ..
(हा रे देश , कभी गाया करते थे खूब लडी मर्दानी वो तो झांसी वाली रानी .
.भक्क साल्लाह )
.


ओह , ये वक्त क्या क्या सितम ढा रहा है ,
कोई नाम के लिए , कोई दाम के लिए , कोई पेट के लिए आज गा रहा है ..
(इंडियन आइडल फ़र्स्ट यानि अभिजीत सावंत के बाद वाले आइडलों के बारे में पूछिएगा तो अपना नालेज भकरभक्क है .)

.


रिपोर्ट के अनुसार ,धरती का पर्यावरण बिगाडने में अमेरिका है सबसे आगे ,
डिरामा देखिए इसका , सब ठो पोलुसन कंट्रोल संधि से चुपचाप निकल के भागे,
(बताइए साला उलटा चोर कोतवाल को डांटे )

.


दुनिया के 500 टॉप कॉलेजों को भारत में पढानी की मिल गई है छूट ,
विद्या भी कारोबार बना , शिक्षा की दुकान सज़ी , जो लूट सके तो लूट ,
(गरीब की कमर गई है टूट , अब तो हर छूट लगे है लूट)
.



डिरिया रही मीडिया ,अन्ना -केजरीवाल और बाबा रामदेव में फ़िर से उभरे मतभेद,
बकवास छोडो , खाली ई बताओ , जनलोकपाल , काला धन , है किस मुद्दे में छेद
(आ अगर दुन्नो मुद्दा जरूरी है तो बस यही जरूरी है , समझ गए हाकिम )
.


बमुश्किल कभी अब अपने लिए टीवी खोलता हूं मैं ,
खबरों के ढेरों चैनल के बीच कोई खबर टटोलता हूं मैं ,
(मगर अफ़सोस तमाशा मिलता है , शोर मिलता है शराबा मिलता है .. )

गुरुवार, 31 मई 2012

गदहे चर गए देश , ऊ खाए नहीं रे घास ..





गर्म है सियासत का पारा , और गर्म ही चल रही हवाएं ,
गर्मा गर्मी के मौसम में , आइए कुछ खबरें आपको सुनाएं .....
(ये वक्त दिन भर की हलचलों पर एक आम आदमी की प्रतिक्रिया का होता है ...देखिए कैसे )
.


चालीस चैनल न्यूज़ के , और एक दर्ज़न पढते हैं अखबार ,
माल-मसाला , हल्ला गुल्ला , मिलता नहीं बस कोई समाचार .....
(दिन रात का वही है खाना , और वही बासी सा डकार)
.


सुशील कुमार शिंदे भी हो सकते हैं राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार ,
अबे कितने पति होंगे राष्ट्र के , तुम लोग तो देश को पांचाली बना दिए यार ,
(रोजिन्ना कोइयो उठ के चल आ रहा है , साले कौन बनेगा करोडपति खेल रहे हो का बे , हटाओ बे ई पोस्टवा को ही खतम कर दो )
.


मानसिक रूप से हुई मजबूत केकेआर , शाहरूख विवाद के बाद ,
अबे हटो साला , तुम लोग कर दिया ई जेंटलमेन खेल को बर्बाद ,
(जीत न गए हो तो करबे करोगे बकवाद , लेकिन पब्लिक को सब रहता है याद , समझे कि नय बे रावन)
.


बोले हैं बिजय गोयल ,दिल्ली सरकार ने डाला जनता पर महंगाई का बोझ ,
अबे का है बे , ई डायलाग बदल बदल वही बात काहे को बोलते हो हर रोज़ ,
(सब समझ रहे हैं बेटा , ई तुम लोग का कसरत , जनता का चिंता नय है ई है कुर्सी पाने का हसरत)
.


नाराज़ होकर अमेरिका ने पाक पर ड्रोन हमले कर दिए तेज़ ,
अबे रोज़ रोज़ का कसरत छोडो, दो दु चार गो हेलीकाप्टर भेज ,
(आ बालक उहे सब भेजना जौन लादेनवा का भडकुस्सा उडा दिहिस था , चाहो तो एक इंडियो में भेज दो , साला कसबवा एश कर रहा है एन्ने , ले जाओ बांध के )
.


संयुक्त राष्ट्र ने सीरिया नरसंहार पर , अपनी गहरी चिंता है जताई ,
हा हा हा गहरी , आ चिंता भी , बस इतना ही करने के लिए तो ई संस्था है बनाई,
(करो करो चाब्बास , खेलो चिंता चिंता भाई , ससुरों तुम्हारी चुप्पी ने है इतना आग लगाई , )
.



पानी को लेकर , हरियाणा के फ़रीदाबाद में मच गया है हाहाकार ,
ल्यो अभी से ही , अभी तो बेट्टा पूरा देश ही फ़रीदाबाद बनने को है तैयार ,
(तुम करोगे इक दिन चित्कार , कोई सुनेगा नहीं पुकार , नदी झरनों को खुद रहे हो मार , फ़िर काहे का हल्ला किए बेकार )

.
कानून व्यवस्था दुरूस्त करना प्राथमिकता होगी , बोले ऊपी के रजपाल ,
करिए देंगे आप , कोई शक नहीं है इसमें , देख के कल का बूम बवाल ,
(मंतरिया सब का अक्ल दुरुस्त करिए , नय त भेज दीजीए नेपाल , ओन्ने भी चल रहा है कुश्ती कमाल )
.



अदालत में हाज़िर होकर कलमाडी ने दी आज अपनी सफ़ाई ,
तो का बोले , वेल्थ जो अटाए थे , किस किस में कामन करके किए सप्लाई ,
(पब्लिक ओईसे तो सब बूझती है भाई , लेकिन साले इत्ता और बता दो कहां है पब्लिक का पाई पाई ??()
.


उत्तराखंड विधानसभा कार्यवाही में भी हुआ खूब हंगामा ,
अबे बडके छोटके पाल्लामेंट में आजकल चल रहा यही डिरामा,
(इनको पकड के ले जाए ओबामा , आ खोल के मारे इनका पजामा ....लंगटा सब सरबा सब)

.


हाईकोर्ट : आरक्षण के लिए ठीक नहीं है मज़हब का आधार ,
छोडिए जी , अब करिए हंड्रेड परसेंट इसको , होने दीजीए फ़ुल्लम फ़ुल बंटाधार ,
(ससुरी चाह रही यही सरकार , करती कोशिश बार बार , होने दो बेडा पार )



.
तिवारी को देना पडा खून , एक सप्ताह में सच से हट जाएगा पर्दा ,
टिवाडी जी का जुलुम जवानी , होश खो दिया जवनवा सब , अईसन उडाए गर्दा
(कहां हो बे सिलाजीत वालों , काहे नय पिरचार अंबासेडर बना देते हो )
.



बोले हैं पिरधान जी , मेरा जीवन तो है इक खुली किताब ,
ल्यो इनको पते नहीं , पापा जी दीमक कर गए कब का इसे खराब,
(तनिक पेज तो इसका उलट के देखो जनाब , खाली क्वेश्चन ही क्वेश्चन हैं , नहीं है कोई जवाब ...हो बोलो तारारारा ..हो बोलो तारारारा )
.


मुस्लिक आरक्षण पर हाईकोर्ट के निर्णय के खिलाफ़ ,सुप्रीम कोर्ट जाएगी सरकार,
आ उहां से भी लगा जो झटका , ल्यो त फ़िर एक ठो नया कानून ले आएगी यार ,
(लेकिन भोट का पूरा होगा जुगाड , इहे लिए ई टोटल हंगामा धुंआधार )
.

.

बोले हैं पिरधान जी , दोषी साबित हुआ तो मैं ले लूंगा सन्यास ,
कर देंगे जी कर देंगे , तनिक बिल लोकपाल करिए तो जरा पास,
(गदहे चर गए देश का मैदान , आ कोई कहता हम नहीं खाए घास .....)

.


कैटरीना कैफ़ से हेल्थ टिप्स आजकल ले रहे हैं सलमान ,
तो का करें , बुढा गए लभली आ केतना सीला हुई जवान ,
(टिप्सवा सबको दो नादान , कित्ते खडे हैं कद्रदान ..हाथ उठाइए तो हो के के है .स्वास्थ टिप्स लेवे खातिर )

.
राष्ट्रपति चुनाव के लिए अधिसूचना जून में ही जारी होगी ,
अबे तब तक तो पोलटिसियन में जमके मारामारी होगी ,
(बहुत फ़ैली सी बीमारी होगी , आ टोटल पांच छ हज़ार लोगों की तैयारी होगी ...चुनते रहो ..सूचना अधिसूचना जारी करते रहो )

सोमवार, 28 मई 2012

गर्मी पे चढा शबाब , और आदमी भुन के हुआ कबाब ..........


गर्मी की मार से हो सकती है आपकी सेहत खराब ,
सेहत खराब , अजी यहां तो दिमाग का दही हो गया जनाब ,
(गर्मी पे चढा शबाब , और आदमी भुन के हुआ कबाब )


पीएम पर भ्रष्टाचार के आरोप गलत हैं , ऐसा कह रही है सरकार ,
अपने अपने हाथ उठाओ , इसपे किसको किसको है भरोसा यार ,
(अमां हाथ उठाने को कहे हैं हो , आप लोग तो जुत्ता उठाने लगे , भगिहे रे सरकार )


कम होगी पेट्रोल की आग , पेश होगा दिल्ली का बजट आज ,
हां हां साले जरूरे होगा , दिल्ली में तो चल रहा है जैसे राजा हरीश्चंद्र का राज ,
(अबे हट , हुर्रर्रर्रर्र ..ई थेथरलोजी से जनता को लेमनचूस चुसा रहे हो बेट्टा , आवे दो अबके चुनाव )


कडप्पा के सांसद जगनमोहन को सीबीआई ने कर लिया अरेस्ट ,
अबे एक एक करके का धर रहे हो ,सबको पकड लो एक्के साथ , परमानेंटली रेस्ट ,
(साला देशवो को आराम , आ कम हो जाएगा तुम लोक का भी काम , बहुत भुसकोल सीबीआई है , बाई गॉड की कसम)


बाबा रामदेव ने फ़िर साधा प्रधानमंत्री पर निशाना ,
धू बाबा , आप चूक जाते हैं , अबकि ठीक से लगाना ,
(बाबे निशाना चाहे जैसा लगाना , मगर लोगन को बीच में छोड के ससर नहीं जाना , साधु धर्म निभाना )


दिल्ली विधानसभा में महंगाई के मुद्दे पर नहीं की जाएगी चर्चा ,
अबे फ़ालतू टॉपिक है महंगाई तुम लोग बस बढाए जाओ अपना, वेतन-भत्ता खर्चा
(साले आ रही है परीक्षा , देखना अबकि जांचेंगे हम पर्चा )


कन्नौज से डिंपल यादव के प्रत्याशी बनने पर सपा संसदीय बोर्ड की लगी मुहर ,
अबे बेटा बाप बहू ,सगरो फ़ैमिली ही नेता जाओगे , त बकिया लोग जाएगा किधर ,
(ई पोलटिसवो ससुरा फ़ैमिली बिन्नेस बन के रह गया है , ई मंतरिया सब अपना माली , चौकीदार , हज्जाम , सबको मुनिस्टर बना लेता है , इहे लोकतंतर है )


उत्तराखंड में भी अब बेरोजगारों को मिलेगा बेरोजगारी भत्ता ,
अबे नौकरी दो बे सबको , कब तक बहलाते रहोगे बांट के , रोटी कपडा लत्ता ,
(कमाल है साला देश का , लोगों को करने के लिए काम नहीं दे सकती  है गोरमिंट, बार बार खिला के क्लोरमिंट , कहती है दोबारा मत पूछना  )


सुषमा स्वराज: रैली में शामिल न होने के पीछे नहीं है कोई मतभेद ,
इहे तो साला पिराबलेम है , जनता ढूंढ रही है विकल्प , आ तुम लोग अपने छेद ,
(अबे जेतना गैप , संका , समाधान है सब पूरा कर लो इलेक्शन से पहिले नय तो जो दु आना का चानस है है नू उहो भेदमभेद हो जाएगा , का समझे )


उत्तर पिरदेस में है दम , काहे से यहां अपराध हैं बहुते कम ,
बस नेतवन सब हैं नराधम , विधानसभा में मचावे धमाधम ,
(एकदम सेम टू सेम है , पाल्लामेंट टाईप से इसपोर्टिंग इसपिरिट है )


ल्यो जी दिल्ली में , एक रुपैय्या छब्बीस पैसे , पेटरोल का कीमत हो गया है कम ,
अरे रुकिए, पूरा सुनिए ,  सीएनजी गैस एक रुपैय्या पचहत्तर पैसा हो गया गरम ,
(हम तो पहिले ही कहे थे , ई बुढिया को नय समझिए कम )


75 रुपए की रिश्वत के लिए , अदालत ने दी एक साल की सज़ा ,
धत बुडबक था साला , 75 करोड लेता तो भरपूर ले रहा होता मज़ा,
(उदाहरण है न सामने रज्जा ....ए रज्जा )


टीवी नहीं , आज के युवा , अब हैं , मोबाइल के दीवाने ,
हां हां जानते हैं बे , पहले थे बौराए , अब लगे हैं पगलाने ,
(गर्दन टेढा करके बाइक पे ससुरे लगे रहते हैं मोबलियाने , खुदो मरते हैं आ सामने बला को भी मारिए देते हैं )


बोले हैं प्रणव दादा :रिजर्व बैंक जुटा है रुपए को संभालने में ,
आ जेतना संभलता है टोटल मंतरी जी जुट जाते हैं उसे ठिकाने लगाने में ,
(दुन्नो का डेडिकेसन देखिए , रुपया गिरता जाता है , मंतरी जेब भरता जाता है )


दादा ने ईशारों में बताया कि वे राष्ट्रपति भवन जाने को हैं तैयार ,
ईशारों में , ल्यों कल्लो बात , मुंह फ़ाड के बताने वालों की है इत्ती बडी कतार ,
(अबकी तो कंपटीसन ही करा दो यार , परसिडेंट बनने को कित्ता मचा रे काट मार )


नया कानून है आ रहा , निजि क्षेत्र में भ्रष्टाचार पर जिससे लगेगी लगाम ,
ल्यो और सुन लो , निजि क्षेत्र में , अबे नंगों पहिले सुधारो अपना तुम हमाम,
(निजि क्षेत्र में लगाम लगाएंगे , आ सार्वजनिक को बाप का माल समझ के लूट खाएंगे , एक ठो और कानून , धत साला )


नेपाल में संवैधानिक संकट, फ़िर से है मंडराया ,
तो का,महीना में पांच ठो पीएम बदलने में चंपियन हो भाया ,
(फ़ौरन कौनो को बिठा दो , अगिला दिन कान पकड के उठा दो )


आरटीआई के तहत त्वरित सूचना देना सुनिश्चित करेगी सरकार ,
हां पता है क्या करेगी , सिर्फ़ एक बरस में उन्नीस पूछने वाले दिए गए हैं मार ,
(जनता बना रही इसे हथियार , एक दिन करेगी तुम्हरा बंटाधार )


समाजवादी पार्टी की नई भूमिका , अब चाहते हैं मुलायम ,
लेकिन उनका पिरदेस में , काहे फ़िर इतना मचा है धमाधम ,
(अबे ई लोग बहुत साल पहिले भी माईक कुर्सी खैंच खैंच के लोकतंत्र को बहुत मजबूत किहिस था , आज त खाली हाथे भांज के आ नारा लगा के निकला है हाथी बहादुर सब)





बोले हैं ऑस्कर फ़र्नांडीज़ , हम एक सशक्त लोकपाल बिल लाएंगे ,
तनिक सामने आके बोलिए किसी के , ऊ आपके मुंह में आग लगाएंगे ,
(अब तो आप इहे फ़रमाएंगे , लेकिन आपको एक दिन हम जरूर समझाएंगे )


बोले बाबा रामदेव : काले धन को राष्ट्रीय संपत्ति घोषित करे सरकार ,
काला धन , इहां साला सफ़ेद धन को दिन रात खा खा के मार रही डकार ,
(ई का घोषित करेगी यार )

शनिवार, 26 मई 2012

आरुषि मर्डर केस ,सोनी सीआईडी के हवाले ....एसकिलुसिव बिरेकिंग न्यूज़
















देखो-देखो, अजब ये कुदरत का खेल ,पंखे-कूलर-एसी सब हो गए फ़ेल,
अबे इत्ते दिन तो झेलती रही ये धरती , बेट्टा अब तू भी जरा झेल ,

:)ठंडा पानी में हेल , आ जईसे तईसे ठेल :)




चेन्नई आईपीएल के  फ़ाइनल में , दिल्ली को 86 रनों से हराया ,
अबे फ़ालतू बातें छोडो , बस इत्ता बताओ हारने के डेविल्स को माल कित्ता पहुंचाया

:)अबे छोडो बे , हमें मालूम है , किसने कितना सट्टा किस पर था लगाया :) 






मप्र,महाराष्ट्र , गुजरात के बाद अब केरल में भी लगा गुटखे पर बैन ,
अबे भक्क , बैन में भी दिन रात चिबाते थूकते लोग , देख रहे हैं नैन ,

:)ई मसल्ला खाने वाले को कहां मिलता है चैन ....चबईले रहता है सब चभर चभर जी :)




पेट्रोल कीमतों पर सरकार ने अपने खडे कर दिए हाथ ,
इसी को कहते हैं भईया , ई हाथ गरीबों के साथ ....

:)लेकिन पेटरोल बाला सब गरीब नय न रहा अब , तो काहे रहेगा साथ :)






भाजपा की बैठक में चर्चा , घटती साख पर किया आगाह ,
अबे इहे तो बदकिस्मती है यार , एक ठो ढंग का विपक्ष नहीं है !आह !

:)होता त देता इन्हें उधेस ..आ मेडम्म चल जाती  परदेस ..पिरधान छुपाते रहते फ़ेस:)






बोले जयराम, दस साल में 90 % , ग्रामीणों को मिलेगा शुद्ध जल ,
दस साल , बाह बाह , अबे आज मर रहे हैं बैल और ठिठक गया है हल ,
आ तुम साले दिखा रहे हो सपना , जो तुम्हरा नाना भी पूरा नय करेगा कल,
बहुत देख लिए ई ढंपरिया भाषण , ए हो मंतरी जी , चल रे आगे चल ..
:)हट्ट रे हुर्रर्रर्रर्रर्रर्रर्र ....हुट्ट्ट्ट्ट :)






प्रणव मुखर्जी को पसंद है ,राष्ट्रपति भवन के हर घास के लॉन ,
उडी बाबा , लेकीन एक ठु सासपिसन हाय , ई क्वेश्चन इनको पूछा है कौन ,

:)हम कहें कि हमको X जनपथ का पसंद है बहुत कमोड , तो का कल होके उहां पर निकालें भोर का लोड :) ..उंह्ह्ह ..गनहा गया... धत रे:)




खबर है आई ऐसी कि , राष्ट्रपिता की पोती भी हैं , राष्ट्रपति बनने की कतार में ,
एक ठो आउर ? अबे अबके एक दर्जन बना दो राष्ट्रपति ,सबको एक्के बार में ,

:)अबके बहुत किलोज रहेगा कंपटीसन जीत में आ हार में :)






आज सडक पे उतरेंगी ममता , पेट्रोल मूल्य वृद्धि के खिलाफ़ ,
सडक पे नहीं , संसद में उतरें , खींचे समर्थन वापस , गर नीयत है साफ़ ,

:)नय त छोडिए जी , ई नौंटकी है हाफ़ ..जनता नहीं करेगी माफ़ :)






लादेन की पत्नियां हैं , उसके प्रति बहुत ही वफ़ादार ,
अबे तो अमरीका को बताओ , चार ठो और हेलिकाप्टर भेजे यार ,

:)ओहो पत्नियां ....बाह बेट्टा ..साले मरा गए ठीक हुआ न त पत्निस्तान भी बनाइए लेता सरबा लादेनवा :)




रेड्डी बोलिस हैं : नहीं घटेंगे पेट्रोल के बढे हुए दाम ,
मत घटाओ , है हिम्मत तो करा लो एक बार चुनाव आम 

:)सब कुछ देख रही है अवाम , तुमको देंगे ऐसा पैगाम , न तुम रहोगे, न  रहेगा तुम्हारा नाम , हां अब यही होगा बस अंजाम :)






देके चिट्ठी सियासत को , अन्ना टीम ने , तारीख तय कर दी है सत्ताइस जुलाई ,
यार बहुत हो गई चिट्ठी पत्री , अन्ना-अनशन , अब तो हो जाए आरपार लडाई , 

:)चाहे कोई करे रे भाई , सत्ता की अब तो हो ही जाए ठुकाई :)






हालात देखिए देश के , आज हर भारतीय 33,000/- का हो गया है कर्ज़दार ,
और वही साले हैं आंख दिखाते , नोटिस भिजवाते , जो हैं खुद इसके जिम्मेदार,

:)बस बहुत हो गया यार , अब तो देंगे सारे कर्ज़ उतार , और पहिले तो बेटा तुम्हारा ही उतारेंगे ..सारा उधार चुकता कर देंगे ..एक बार हिसाब किताब के लिए बैठे तो:)






चार जून से तलवार दंपत्ति पर अब , चलेगा केस ,
सुनो बे दे दो सोनी सीआईडी को ,अब उहे कर लेंगे अपराधी को ट्रेस ,

:)निस्पेक्टर दया , एसीपी पुर्रर्रधुम्मुन ...रिपोर्ट ऑन डुइटी ..इम्मीडिएटली बे:)






बिलावल बोले मुशर्रफ़ ने ही , मेरी मां की हत्या थी करवाई, 
मारो साले मुशर्रफ़वा को , तुम भी , पाकिस्तान का तो इहे है ट्रेंड भाई ,

:)तू मुझे मरवा ,मैं तुझे मरवाऊं , है बस यही कहानी ,इसी मार काट के बूते चलता दाना पानी .....सुधर मत जाना बे कभियो :) ..भारत को पडोसियो सब ..साले छांटले दलिद्दर सब मिल गया है :)




उत्तर पिरदेस में निकाय चुनाव  की तय हो गई तारीख ,
हाथी पे बांधो , सायकिल में टांगो , कटोरा , चलो मांगना शुरू करो रे भीख ,

:)हां त भिखरिया सब , तैयार हो जाओ रे , मुंह को मुईतमईन सा बना के घोंचुआ सब :)




हडताली पायलटों पर अब जाकर सरकार हुई नरम ,
आ इस बीच जो गए करोडों , उसका क्या रे बेसरम ,

:)ई गदहा लोग के नरम गरम के चक्कर में , भद्द पिटा गया महाराजा का , आ उनका औकात महाराजा से चौकीदार का हो के रह गया , अबे सुलटाओ जल्दी बे :)

गुरुवार, 24 मई 2012

हमें किसी पेट्रोल की जरूरत नहीं फ़ूंकने को सियासत,







बजा के सरकार की (नौकरी ), घर पहुंचे खबरी लाल ,
अभी बांच के सब खबरें , आपको बताते हैं ई देश का हाल ...
(बस देखते जाइए कमाल :)


पेट्रोल साढे सात रुपए महंगा , अब तक की ये सबसे बडी वृद्धि ,
सरकार पे लग गई साढे साती , विनाश काले , विपरीत बुद्धि ,
(सियासत वालों ये न समझना कि इस आग से तुम बच पाओगे )


गूंगी बहरी इस सियासत के करना फ़िज़ूल है कोई सवाल,
खाक होती हैं सल्तनत ,जब अवाम ठोकर से देती है उसे उछाल ,
(अपने अपने जूते पैने करिए हो जी सरकार )


महंगाई के मुद्दे पर ,सरकार पर हमलावर हो गए,अपने और पराए ,
बस अब तो एक्के काम बचा है , ई सरकार को दु जुत्ता कोई लगाए ,
(वैसे अब जूतों के चलने का दौर शुरू होगा ...)


लोकपाल बिल शीतसत्र में आएगा , सरकार नहीं चाहती है इसको लटकाना ,
हा हा हा हा , अबे क्या कहे बे , जरा ई चुटकुल्ला , फ़िर से तो सुनाना ,
(अबे कैसे बताएं तुम्हें सरकार कि गिरेबां पकड के जनता तुम्हें कहां पर चाहती है लटकाना ...टू बी हैंग्ड टिल डैथ )


आखिर फ़ूट ही गया पेट्रोल बम , डेढ रुपए और बढाने की हुई है वकालत ,
बढा लो , बस याद रखना ,हमें किसी पेट्रोल की जरूरत नहीं फ़ूंकने को सियासत,
(अब तुम्हारा अंत समय निकट है , जितना जो बन पडता है कर ही डालो)


गर्मी में राहत देगा , जरूर पिएं , लीची और आम का जूस ,
काहे का राहत बे , इहां गोरमिंट रही है सबका खून चूस ,
(जब खूने नहीं बचेगा देह में तो राहत लेके का राहत फ़तेह अली खान बनेंगे बे )


सितंबर में शादी होगी , हरभजन सिंह की , गीता बसरा के साथ ,
आ जून जुलाई तक तब तो देखाई देंगे , बौआ के जनम पतरा के साथ
(माने .."हरकीर्तन सन आफ़ हरभजन " के साथ)


पीएनबी के भवन में लग गई कल बहुत भीषण आग ,
ल्यो बैंको धधक गया साईत , सुन के सरकार का पेट्रोल राग ,
(साला ई आग को जहां लगना चाहिए उहां पता नय कब लगेगा )


हडताली पायलटों को अवमानना का नोटिस हो गया जारी ,
इंहह!  साला ई अवमानना का एक ठो नया चला है बीमारी ,
(जिस तिस को हो जाता है जारी ....अबे फ़ाड के फ़ेंको रे इसको )


ई ससुरा ट्विट्टर हर दो दिन में  दे रहा सजेसन करिए ,जिलेबी बाई को फ़ालो ,
अबे हमको नय अफ़ोर्डेबल है भाई , जिसको है , जाके उसे संभालो ,
(नय त ई साले ट्विटटर को समझालो ..दिमाग गरमाया त फ़ालो करके भडकुस्सा उडा देंगे जिलेबी बाई का अकच्छ कर के रख दी है )


राजधानी में फ़िर से बिजली का घनघोर संकट गहराया ,
आ रही सही जो कसर थी उसमें पेट्रोल ने आग लगाया ,
(दिल्ली का बिल्ली हो गया है एकदम समझिए त )


जाली विवाह प्रमाणपत्र का केस , कैटरीना मामले में हुई दो जने को सज़ा ,
न भी होती त बचते का लभली पाजी सलमान भर पेट पीट के चखाते इतना मज़ा
(अब कटरीनवे पे तो आस लगाए हुए हैं लभली पाजी  )


डॉलर की तुलना में रिकार्ड गिरावट , रुपया तोड रहा है दम ,
बकवास बात है बे , हमारे पास नहीं है , कई तो साले करोडों कर गए हज़म ,
(नाम बताएं का ?? ..छोडो अब तो श्वेत पत्र जारी हो गया , ई सरकारे को कद्दू नय पता है ..पब्लिक सब जानती है मुदा ..गजबे सिचुएशन है भाई )


यूपीए सरकार की नीति और नीयत में है खोट ,
लूट सके तो लूट रे भईया , हरे हरे हैं नोट ,
(अबकि मांगने आना बेट्टा वोट , जनता देगी नोंच खसोट )


सस्ता आटा और चावल लोगों को दिलवाएगी दिल्ली सरकार ,
अबे हट्ट , धुर साला , तो का स्कूटर कार में आटा चावल भरवाएं यार ,
(ई त बोका बनाना हुआ बे ...)


आधा दर्जन ट्रेनें प्रभावित , अमृतसर एक्सप्रेस का इंजन हो गया फ़ेल ,
अबे ई हो का रहा है , कभी टकराती गिर जाती , कभी उलट जाती है रेल ,
(सरकार है डिरेल , तो चलेगी कैसे मेल )


मनोरंजन के साथ ही एक विचार भी है फ़िल्म "शंघाई "
अच्छा , जे बात , लेकिन सुने हैं इसमें हीरो हैं अपने इमरान हाशमी भाई ,
(होगा तब तो विचार/अचार/समाचार/व्याभिचार और अत्याचार ...कुल मिला के सब ठो चार होगा ही होगा )


बीसीसीआई ने क्रिकेट खिलाडी कीर्ति आजाद का भुगतान रोका ,
ई तो होना ही था , उन्होंने काहे आईपीएल के पिछबाडे सुइया भोंका ,
(भोंकिएगा सुइया तो डिरियाएगा ही न जी बीसीसीआई )

बुधवार, 23 मई 2012

कोयला का धधरा से बीडी जलाइए , आ पेटरोल का धधरा से करेजा सुलगाइए







कोयला खदान, आवंटन से केंद्र सरकार को खरबों के नुकसान का अनुमान,
अरे कौनो चिंता नहीं , कोयले का भरपाई , पेटरोल से हो जाएगा सीरीमान
(कोयला का धधरा से बीडी जलाइए , आ पेटरोल का धधरा से करेजा सुलगाइए ..)





पिटरोल पिराईस हाईक पे "आज तक " पे चल रहा है कुकुर कटौंज ,
धधक रही है जनता धू धू , साली सियासत ले रही मौज ,
(जनता जनार्दन बन न जाए फ़ौज़ ...बहुत मंहगा पडेगा भाई )



जूझने में गुज़र गया सरकार का आधा कार्यकाल ,
अबे हट कहो लूटने में लगी सरकार , मंतरी सारे मालामाल ..
(ई लोगों को दू बरस और झेलना है रे ....रामा रामा अजम डिरामा)



ल्यो बे दखो गौर से , ई तो सच में ही कसाब को खिलाते रहे बिरयानी ,
थू है साला सरकार पे , डूब मरो सालों , मिले जहां चुल्लू भर तुम्हें पानी ,



राज्यसभा में फ़िर रुका , विधेयक लोकपाल ,
ल्यो रुकबे करेगा जब साला सब कार्टून पे ही इतना किया बवाल
कार्टून से इतना डराया त लोकपलवा त खा जाएगा



संसद में श्वेत पत्र जारी , केंद्र को पता नहीं देश में है कितना काला धन ,
करिया जुत्ता चलाए जो जनता प्यारी , फ़ौरन नाम लोगे टोटल है सवा पांच सौ जन
(अब नामो बताएं कि अपने काउंटिया लीजीएगा हाकिम)



IBN 7 का सर्वे , 55 फ़ीसदी ने कहा , मनमोहन को पद से हटाओ ,
अबे ऊ सब छोडो , ई बकिया 45 ,कौन है बे , पहिले उनका नाम बताओ ,
(के है जो चाहता है कि म्यूट पिरधान जी बेडा गर्क करते रहें )



मायावती को लेकर आज हुआ राज्यसभा में जम कर के हंगामा ,
आयं हमें तो लगा कि उमराव जान के जाने से बदलेगा कुछ डिरामा ,
(अबे कौनो सुधार नय है का बे ....)



जोहल से की थी छेडछाड , ल्यूक ने आज अपना गुनाह स्वीकारा ,
अबे ल्यूकवा साले , सिद्धर्थवो फ़ंस गया , ई तुम कईसा शॉट मारा ,
(का तो ट्विट्ट किए थे जोहलिया के लिए , रगड दिहिस जोहलिया )



निर्मल बाबा ने हाईकोर्ट में दाखिल की अग्रिम जमानत की अर्ज़ी ,
काहे हो कन्ने गया किरपा थर्ड आई का , हे हो बाबा फ़र्ज़ी ,
(जेल डरेस के लिए बुलवा लो अब दर्ज़ी ,)



ओबामा कर दिए भईया , ज़रदारी से मिलने से इंकार ,
हाय हाय ई तो गलत किए , मिल लेते , फ़िर चाहे देते जुत्ता मार ,
(ऊ भी गिन के चार , ई त ठीक नय किए यार )



प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने किया वादा , सरकार मिटाएगी भ्रष्टाचार,
सरासर बकवास , एकदम्मे झूठ , गूंगा आदमी वादा कैसे करेगा यार ,
(अबे ई कौन फ़ैला रहा है अफ़वाह सब बे )



राष्ट्रपति चुनाव के लिए गहमागहमी , संगमा ने अपनी मुहिम कर दी तेज़ ,
अबे काहे न अईसा किया जाए , हर घर से एक ठो कंडिडेट दिया जाए भेज,
(साला ई पोस्ट के लिए भी कंपटीसन कर दो बे , फ़ार्म निकालो हम सब भरेंगे )



अनिश्चित काल के लिए स्थगित हो गया संसद का रे सत्र ,
अबे परमानेंटली गिरा दो शटर , जईसन कल किए हो जारी श्वेत पत्र ,
(जब तू लोग को ऊहो नय पता है जो हगलू हलवईया तक को पता है , अबे उहे काला धनिया सब का नाम , बंद करो रे ई गोल घर को ..हट्ट हुर्रर्रर्र बे )


रुपए में फ़िर गिरावट , कारगर साबित नहीं हुए आरबीआई के नए कदम,
साले कदम टुंडा लंगडा कर देगा तुमको रे , ई मंतरिया का घोटाला धमाधम
(तुम कदमे बदलते रहोगे , इहां देश का पूंजिए पार )



मनमोहन -सोनिया, ने सरकार की अब तक की  उपलब्धियां गिनाईं ,
आ इत्ते हो गए गदगद उपलब्धि से कि पेटरोल की कीमतेम फ़िर से बढाईं,
(ओईसे हमको शक नहीं पूरा यकीन है कि ,गिनना दुन्नो को नय आता है तो फ़िर कईसे गिनाईं बे ,. हट्टो झुट्ठा कहीं का )



बोलिस है भाजपा : कभी भी गिर सकती है यूपीए की मौजूदा सरकार ,
गिर सकती है मतलब , अरे गिरा गिरा के मारिए , सब्बे है तैयार ,
(ओईसे एक बात बताइए हो भाज्जप्पा ..ई गिर का सकती है ई तो पहिले से ही बहुत गिरी हुई है ..खालिए मटियामेटे होना रह गया है जी )



मुलायम, रात्रि भोज में मौजूद, लेकिन ममता, करूणानिधि ने किया किनारा
सुनो रे बेट्टा डुबाएंगे अबकि तुमको , चाहे लेलो किसका  ही तुम सहारा ..
(होगा बंटाधार तुम्हारा ....)



मैं बिकनी नहीं पहनूंगी , सोनाक्षी सिन्हा हैं फ़रमाईं ,
कुछ तो पहन के आइए , बडी मेहरबानी होगी भाई ,
(न त आजकल पुनमिया पांडे सब का बहुत नाम रोसन है जी )



सोनिया ने दी  चेतावनी , भ्रष्टाचार नहीं होगा बर्दाश्त ,
चेतावनी को मारिए गोली , आपको अब तक कित्ता हो गया प्राप्त ,
(अरे चुप्पे से बताइए , अब तो उजरा चिट्ठी (श्वेत पत्र हो ) भी जारी हो गया है , अब डर काहे का )



हा हा हा एक  दोस रहे हैं पूछ , थकते नय हैं हो , भर दिन रहते हैं बोकियाते
हम त तब तक रहेंगे लिखते , जब तक गोरमेंट वाले पकड के नहीं ले जाते
(आओ रे पकडो , है हिम्मत तो )



सोमवार, 21 मई 2012

ऊपर हेडलाइंस हैं .....नीचे बिछाई माइन्स हैं



अब तक इस ब्लॉग पर हम आपको पढाते रहे हैं कि जब एक आम आदमी की नज़र खबर पर पडती है और प्रतिक्रिया स्वरूप उसके मन में क्या उठता है । पिछले कुछ समय से मैं इस शैली में ही खबरों पर टिप्पणी कर रहा हूं ।मित्रों के मन को भा रही है तो सोचा अब आपको भी पढवाया जाए । इसमें ऊपर की पंक्तियां हेड लाइंस हैं और नीचे हमने बिछाई माइंस हैं














फ़ेसबुक के संस्थापक जुकेनबर्ग , शादी के बंधन में बंधे ,
अब तक दौडते घोडे थे , बियाह करके हो गए सर्टिफ़ाईड गधे ..
(कौनो शक है का जी)


आर्थिक मोर्चे पर संप्रग -2 , रही पूरी तरह विफ़ल ,
और घोटाले के मोर्चे पर , टोटल मंतरी सफ़ल ..
(जनता रही टहल )


रोज़ गिरता रुपया : आम और खास सब हो रहे परेशान ,
अबे हटो बे इहे होगा , जब देश को मिलेगा लल्लू सा परधान
(साला कौन इकोनोमिक्स पढा था का पता हो )


मुंबई के आरोपियों के खिलाफ़ कार्रवाई पर पाक से होगी बात ,
तुम साले बतियाते ही रहना , कसबवा नाचेगा धर के छाती पे लात
(अबे काहे का सुपर पावर हो बे , एक कसाब को तो लटका नय सके हो अब तकले )


मोटापा बढता जाता है , देर रात में खाने से ,
हम तो खिटपिट हैं , सिलिम टिरिम हैं , अबे कह दो ये जमाने से
(खाइए कम , खिटपिटाइए जादे समझे कि नय हो )


शेयर बाज़ार में माहौल , गिरावट का ही रहेगा फ़िलहाल ,
इकनोमिक्स वाले पिरधान जी का इहे न सबसे बडा कमाल ,
(साला देश का इकनोमिक्स ही हो गया बदहाल )

बोले जयराम रमेश :200 रुपए मासिक वृद्धा पेंशन है अपमान ,
दू सौ , अजी दू रुपया भी नहीं मिलेगा आगे , जो हालत है सीरीमान ।
(नरचोपहा है पिरधान , आ बकिया टोटल है शैतान )


सात लाख में एमबीबीएस कराने वाले गिरोह का हुआ है भंडाफ़ोड,
साला ई सब कौन कम है , झोला छाप डाक्टर से लगा हुआ है होड,
(पकड के दुन्नो का हड्डी दिया जाए तोड )


धरती का पर्यावरण बिगाडने में अमरीका सबसे आगे है ,
आ करेगा डिरामा इतना साल जईसे धरती का चिंता इसको सबसे जादे है ,
(ई साला सबका ही एसी , गैस हमेशा पादे है )


फ़रीदाबाद में बिजली पानी को लेकर लगा ,3 घंटे का जाम ,
ल्यो तो का रोड से निकलेगा झरना आ कि पावहाऊस , हे राम
(अबे सोलुसन रोडवे पे मिलता है सब ठो पिराबलेम का बे )


सेना में भर्ती के लिए , पटना में छात्रों ने आज मचाया उत्पात ,
अरिस्स , थोडा तो भर्ती के बाद के लिए भी बचा के रखते तात ,
(अबे का खा के गए थे दाल-भात )


धार्मिक आरक्षण के बहाने देश तोडने में जुटी है सरकार ,
और इसी सबके नाम पे जनता आज तक लुटी है मेरे यार ,
(साला ई सब वोट का ही बस हो रहा जुगाड )


आईपीएल में ,मुंबई ने दिखाया राजस्थान को बाहर का रस्ता ,
अबे मुंबई दिल्ली छोडो , होने वाली है आईपीएल की खुद की हालत खस्ता ,
(बेटा बांध लो बोरी बस्ता )


कीर्ति बोले हैं : आईपीएल की जवाबदेही तय करे सरकार ,
हां तो रोजिन्ना दु चार को पुलिस करिए रही है गिरफ़्तार ,
(कौनो गया छेडखानी में , आ कौनो दारू का रवानी में )

बुधवार, 9 मई 2012

पिरधान जी राजमा चावल , पिरधानी पिज़्ज़ा मिली हैं






इस खबर पर :-पुलिस देखती रही दुकान से माल बतोर ले गए चोर


मेरी नज़र :- देखो बे  दुकान से माल बटोर कर ले गए तक खबर एकदम पटरी पे है और पुलिस देख रही है यही क्या कम है वर्ना पुलिस ..अजी असली पुलिस तो अईबे बाद में करती है जब क्लाइमैक्स पूरा हो जाता है , सिलेमा नय देखते हैं हो क्या रे , ओइसे खबर तो ई होना चाहिए था - देश से माल बटोर के ले गए सारे नेता जी आ देखता रहा कानून , बस टुकुर टुकुर , टुकुर टुकुर 








इस खबर पर :- अल जवाहिरी के अपने यहां होने से पाकिस्तान ने किया इनकार
मेरी नज़र :-हा हा हा अबे उससे अईसन क्वेश्चन पूछबे काहे करते हो कि उसको इंकार करना पडता है बेचारा को । ओसमवा से लेकर दाऊदवा तक के लिए ऊ परमानेंटली इंकार बाला बटन दबा के धर दिहिस है , इकरार वाला बटन त तब्बे दबता है जब दान पतरा सब चाहिए होता है , बकिया टोटल में इंकार पर ही टिक करके रखा है सब














 इस खबर पर :-राहुल प्रधानमंत्री से मिले , महाराष्ट्र के सूखा प्रभावित क्षेत्रों के लिए राहत मांगी




मेरी नज़र :- काहे पिरधान जी के घर में सिन्टैक्स का टंकी जादे बडा लगा है क्या जी आ कि महाराष्ट्र में पिरधान जी महासागर वाटर को मिनरल वाटर में बदलने का फ़ैक्ट्री स्थापित करा देंगे । ओईसे भी उनसे मांग के टाइमे खराब कर रहे हैं , ऊ भी तो आगे मेडम्म से न मांगेगें तो डायरेक्टे न अपनी महतारी को कहना चाहिए जी





इस खबर पर :-पांच साल में दस करोड रुपए का गेंहू बरबाद


मेरी नज़र :-वाह रे मेरे अन्नपूरन देस । चाब्बास , ई सुन के ऊ किसान का छाती फ़ट गया होगा जिसके खून पसीने से सींच कर एक एक गेहूं का पौधा को तैयार किया गया होगा आ जुलुम ई कि उहे गरीबी इतना गेहूं के बर्बाद होते रहने के बावजूद उस किसान के घर से कोए न कोई उठा लिया होगा । बाह रे भारत निर्माण

इस खबर पर :-सस्ते दामों पर घरों तक पहुंचेंगी ताजी सब्जियां


मेरी नज़र :- आयं ! सस्ते दामों पर ? अबे हटो , हुर्रर्रर्रर्र , मालूम है मालूम है तुम लोगों का सस्ता दाम ९९९  कहोगे , एक हज़ार नहीं बोलोगे लेकिन ई सब को मारो गोली ई बताओ कि ऊ घरवा सब है कौन आ किसका है जी जिसके घरों में ताज़ी सब्जियां पहुंचेंगे ऊ भी सस्ता सस्ता काहे से कि गरीब के घर का पता तो सरकार के फ़ाईल में चढबे नय करता है ..जईसे जनपथ का पता सबको है ..मुदा पथ पे जो जन सब खडा पडा है ..उसको के पूछे रे बाबू ।






इस खबर पर :-सब्जियों की कीमत पर नहीं गल रही सरकार की दाल


मेरी नज़र :-हायं , अभी तो ऊपर कुछ सस्ता , कुछ खस्ता का गुणगान गा रहे थे बे अब दाल गला रहे हो सरकार जी । जब पिरधान जी राजमा चावल वाले हैं आ पिज्जा वाली पिरधानी मिली हैं त ई दाल सब्जी में त आग लगबे करेगा जी । अब कईसे कोई गाए - दाल रोटी खाओ प्रभु के गुण गाओ
 










इस खबर पर :-ईरान से तेल में कटौती करे भारत : हिलेरी


मेरी नज़र :-ल्यो आ गईं चौधराइन , फ़रमान जारी करने के लिए । इनका पूछा जाए कि हे हो क्लिन्टनमी , आपका बिल्लू त राष्ट्रपति होते होते पता नय कौन कौन पेटरोल पंप पे मुंह मारिस था , आ आप सुनाने आई हैं कि भारत केतना तेल पानी खरीदे केतना नय । माने कल से स्कूटर में पेटरोल के लिए अमेरिका अप्लीकेशन भेजा जाए का .. जियोह्ह रे हमरा भल्ड पाबर बनने वाला देस । साले इहे से एयरपोर्ट पे रोक लेता है तुम लोग को , अबे भगाओ इसको , ई डुबलाहा सब भारत को भी डुबाएगा









इस खबर पर :-तीन बुड्ढों संग बिपाशा


मेरी नज़र :-सत्यानाश हो , नारायण नारायण । जबसे ई ऊ लाला ऊ लाला झिंगा लाला गनवा आया है नू , ई बीडी जलाने वाला नर्तकी सब तो पगलेट टाईप हो गई है । आ हौ तो बिप्स हैं , बिप्स बोले तो उप्स









इस खबर पर :-बाजार को लगे पंख


मेरी नज़र :- अबे समान से लेकर दुकान तक को तो पहिले ही पंख से लेकर पंखा तक लगा हुआ है , सब कुछ हवे में उडता जा रहा है केतनो पैसा निकालो वजन ओतने रहता है सरबा का आ अब बजारे को उडा दो पंख लगा के । आम आदमी उहे पंख का पंखा पे लटक के ,....भारत निर्माण में सहयोग कर देगा ठीक है न








इस खबर पर :-आईपीएल के दर्शक घट रहे हैं


मेरी नज़र :- घट रहे हैं , अरे भक्क , हम तो सुने हैं छोकरे आजकल सट्टा बाजार में दिन रात खट रहे हैं , जिते मैचों के टिकट कट रहे हैं , उससे दुगुने पास बंट रहे हैं , डांस उछ्ल कूद है जोरों पर आ खेल भावना से हट रहे हैं ....अबे हटो बकवास बात है ई तो एकदम्मे बकवास


Google+ Followers