इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

रविवार, 29 नवंबर 2009

ऑन्लाइन कैट से हुई किरकिरी : रामप्यारी होती तो नहीं होती न


खबर :- औन लाईन कैट से हुई किरकिरी

नज़र :- लो जी अब तक हम समझ रहे थे कि औन लाईन चैट से ही किरकिरी होती है ...अब तो मुंआ औन लाईन कैट से भी किरकिरी ही हो गई ....देखिये तो ॥क्या खाक मैनेजर बनाएंगे जिनकी परीक्षा ही नहीं ले पाए....सुना कई जगह तकनीकी खराबी हो गई.....सर्वर खराब हो गए.....अबे कैसी औन लाईन कैट थी बे तुम्हारे पास ...ताऊ की औन लाईन कैट ....अरे अपनी सयानी बिल्लन ....रामप्यारी को ले जाते ॥फ़िर देखते कैसे झटपट हो जाता सब कुछ ....यकीन नहीं होता ....अबे उसकी पहेली ने टीप के सारे रिकार्ड ध्वस्त कर डाले हैं .....कोई सर्वर खराब नहीं .....तुममें अक्ल होती तब ....
__________________________________________________________________

खबर :- नेताओं को मारने की हिदायत दी थी लश्कर ने

नज़र :- हैं क्या कह रहे हो ....सच में ......या ये लश्कर वाले कब से ऐसा सोचने लगे ...उन्हें इतनी चिंता कब से होने लगी हमारे भले की ...जो ऐसी हिदायत देने लगे .....और यार हिदायत तो ठीक से दिया करो ॥पिछली बार पता नहीं कैसी खराब हिदायत दी ...गधे कहीं के सब के सब संसद के बाहर ही पकडे गए...एक नेता नहीं मारा इन्होंने .... तो भैया ज्यादा सोच विचार मत करो ...हम तो कहते हैं ...कल्लो ये काम फ़टाफ़ट .....और हां सुनो ...जितने ज्यादा मार सको ॥उतना अच्छा ......नहीं यार इतना इंन्वेस्टमेंट करते हो आप लोग ॥उसका कुछ तो रिटर्न आये ...बडा सा ॥हैं .......तो हम खुश हों लें कुछ दिन ....कि देर सवेर आप इस पर ध्यान दोगे सीरीयसली
__________________________________________________________________

खबर :- दोषियों को मिले ऐसी सजा जो नजीर बन जाए .....शशि थरूर ....

नज़र :- अमां ...भैय्ये ....ये तुम्हारा नाम थरूर नहीं ॥बल्कि ...जरूर होना चाहिए था ....यार तुम मानते ही नहीं ....बोलोगे जरूर .......दोषियों को .....यार यही तो रोना है.....पहली बात तो ये कि दोषी ...है यही साबित कैसे हो कि दोषी कौन है .....अब आपको साबित किया किसी ने दोषी .....और मान लो रो पीट के साबित कर भी दिया तो उससे होगा का ....अरे अपील शपील खाली क्रिकेट में ही थोडे होता है ....भैय्या .....इंहा के कानून में भी होता है ...और का खूबे जोरदार होता है ...समझिये कि सजा के बदले मजा ही मजा होता है ...अब आप उसको नजीर बनाईये कि ...वजीर कुछो फ़र्क नहीं पडता है ॥ __________________________________________________________________ खबर :- पद सात, और आवेदन आए तेरह सौ ॥

नज़र :- हांय़ .....इत्ता गजब .....ये कै गुना हो गया भाई ....अबे पद काहे का निकाल दिया ...डायरेक्ट मंत्री शंत्री तो नहीं न बना रहे हो भैया ....बता दो टाईम से ....का होगा ॥यही न कि ....तेरह सौ एक हो जाएगा .....॥ का कहे हिंदी लेक्चरर का पद है हिमाचल विश्वविद्यालय में ......। अरे सच्ची ....वाह जी वाह ...और यहां ढोल बज रहा है कि हिंदी कमजोर हो रही है .....भैया कमजोरी मा ई हालात है .....तो जब मजबू्त हुई जाएगी तब का होगा जी ....हमको तो लगता है .......सात पद के लिए....कुल सात हजार आवेदन आ जाएंगे ॥ यूनिवर्सिटी वालों .....का करोगे ....अब ॥यार का किया जाए.....ई कसूर किसी का नहीं .....नसीब नसीब की बात है ...बताओ ई देश में शिक्षा का ई हाल है तौबा तौबा ...॥
__________________________________________________________________ खबर :- बाल आयोग ने भेजा सरकार को नोटिस

नजर :- ओह ये तो बडा ही भारी काम किया आयोग ने ......आज तक कभी ऐसा नहीं हुआ ....हाय राम अब सरकार क्या करेगी ....यार कहीं ऐसा हो कि सरकार इन नोटिस का नोटिस लेकर शर्म के मारे ....अपनी लुटिया ही डुबो दे ....या फ़िर कहीं गुस्से में कोई बडा क्रांतिकारी कदम उठा ले ..... क्या कहा सरकार ऐसा कुछ नहीं करेगी ॥पहले भी कभी सरकार ने ऐसे नोटिसों पर कोई ध्यान नहीं दिया है ....अच्छा फ़िर ...आयोग ने नोटिस काहे का भेजा है ओह
ओह अच्छा अच्छा...आयोग नोटिस भेज कर अपनी परंपरा निभा रहा है ....और सरकार उस पर बिल्कुल भी ध्यान न देकर अपनी परंपरा .....। तो हे देशवासियों हमारा ये नैतिक, सामाजिक, पारंपरिक, और जितने भी इक टाईप का कर्तव्य है ....वो बनता है कि हम इन दोनों को अपनी अपनी परंपरा निभाने दें । ...
___________________________________________________________________

खबर :- ब्रिटेन में बनी सबसे असरदार बीयर ॥

नज़र :- लो जी कल्लो बात....यार ये अपने दीपक (दीपक मशाल ) को क्या जल्दी थी इतनी आने की ...थोडे दिन रुक कर आते छोटे मियां तो ...उस असरदार का असर यहां तक देखने को मिल जाता ॥ वैसे हमें पूरी से भी ज्यादा (चलो खस्ता कचौडी कह लेते हैं ....)उम्मीद है कि इस खबर पर अपने उडन जी की नजर जरूर पडी होगी ......आखिर उनकी भी कुछ मजबूरियां हैं ....और मजबूरी तो मजबूरी होती है ...है कि नहीं ......अरे कहिए न ...॥

______________________________________________________________________

जाईये बकिया खबर सब बाद में ......

15 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बड़ी किरकिरी है . यदि रामप्यारी होती तो ओंन लाइन को नोचती और क्या करती ...हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्‍छी रही खबरों की खबर .. पहली और अंतिम घटना में रामप्‍यारी और दीपक मशाल जी को जोडने से ये पोस्‍ट ब्‍लॉग जगत से भी जुड गयी है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut badiya prayog hai ajayji.
    Mazaa a gaya.Khaskr neta aur lashkar wala peed mazedaar hai.

    उत्तर देंहटाएं
  4. `नेताओं को मारने की हिदायत दी थी लश्कर ने ॥'
    ऐसा करते तो हम भी इनाम दे देते भाया:)

    उत्तर देंहटाएं
  5. खबरों का कित्ता अच्छे से पोस्ट्मार्टम किया आपने....
    एकदम फर्स्टक्लाश :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. खबर प्रस्तुति बढ़िया रही ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. खबरों की खबर "ऑन्लाइन कैट से हुई किरकिरी : रामप्यारी होती तो नहीं होती न"
    के माध्यम से विचार के क्षण ही नहीं मनोरंजन और फुलझड़ियों का ज़यका भी मिला।

    उत्तर देंहटाएं
  8. bada badhiya andaaz laga..khabren dene ka..aur unpar chhintakashi bhi manoranjak..

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहतरीन!!



    पहेली ने तो तूफान मचाया हुआ है रामप्यारी की.

    उत्तर देंहटाएं
  10. लश्कर वालो ने अगर नेताओ को मार दिया तो भैया हमारी तरफ से सारे गुनाह माफ़, कह देना शुरूवात महाराष्ट्र से करें.

    उत्तर देंहटाएं
  11. ये स्टाईल पसंद आया. बहुत लाजवाब.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत बढ़िया. मज़ा आ गया पढ़ कर.

    उत्तर देंहटाएं

हमने तो खबर ले ली ..अब आपने जो नज़र डाली है..उसकी भी तो खबर किजीये हमें...

Google+ Followers