इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

सोमवार, 11 अक्तूबर 2010

आज रात नौ बजे मैं आपका इंतज़ार करूंगा ...हायं ...देखिए अमित जी मैं ज्यादा देर नहीं रुकूंगा ..झा जी बुलेटिन ...धू.. मर्दे ..नहीं पढे तो क्या पढे ?




खबर :आज रात नौ बजे मैं आपका इंतजार करूंगा : अमिताभ बच्चन

नज़र :- सर जी . आज रात को .....देखिए ओईसे तो अब हम किसी के जन्मदिन के पाल्टी उलटी में शरीक नहीं होते हैं ..का करें जी ..कामे इतना होता है कि ..कहा का जाए ...मगर अब आपका बात भी तो नहीं टाल सकते न ....काहे से आज तो आप बर्थडे बॉय हैं ....तो आज तो मानना ही पडेगा ...फ़िर आप रिटर्न गिफ़्ट भी तो बडा ही भारी भरकम रखे हैं ...ऊ का कहते हैं आप ...एक अरब दस करोड भारतीय ...कौन बनेगा करोड पति ....पूछिए मत एतना गुदगुदी होता है .....अरे ई सोच के नहीं कि करोड पति बन जाएंगे ..बल्कि ई सोच के कि दुनिया का एतना आबादी तो अपने ही देश में है ...तो फ़िर ई महाप्रलय किसी दूसरा देश का लोग कैसे ला सकता है ,.....अच्छा सुनिए न ..आ तो हम जईबे करेंगे ....मुदा तनिक फ़्री जल्दी कर दीजीएगा ....और हां ऊ ..नि:शब्द वाली हीरोईनी को बुलाए हैं न .....बंकिया तो आपकी जो भी हीरोईन साथिन होगी ...ऊ सबको तो हमको मौसी प्रणामे कह के आना पडेगा .....चलिए आते हैं ....तब तकले आपको ..जन्मदिन का बहुते बहुते मुबारकबाद जी ...काहे से कि रिशते में तो आप सबके बाप होते हैं ...नाम है ..शहंशाह ..... हायं ..।

_______________________________________________________

खबर :रिकॉर्ड तोड आमलेट वजन ४.४ टन

नज़र :- अबे गज्जब यार ..एकदमे ..सन्नाट है ई खबर तो ...पहिले तो ई बताया जाए कि ....ई ससुर चार प्वाईंट चार ...टन का कौन हिसाब होता है जी ...सीधा सवा चार या साढे चार नहीं कर सकते थे ....चलो छोडो इसको .....इससे जादा हौहाहट तो हमको ई बतवा जानने में है कि....एतना लिल्लन टॉप ...मुर्गी कौन पाला है रे ...कसम से एतना बडा बडा अंडा दिहिस है कि ...साला टन टना टन आमलेट बन गया है ...इतना लंबा चौडा आम लेट कि आप उस पर आराम से लेट कर खा सकते हैं उसको ...इसलिए पहिले उसका नाम आमलेट से ...आरामलेट कर दो .....का कहे ...मुर्गी का अंडा का नहीं है ...फ़िर डायनासोर का अंडा का है ...ले बिल्लैय्या ...हमरे सक तो थईये था .....देखा ..हम यदि ...शास्त्री जी ( अरे उहे भविष्य बताने वाले ) का लेंस से पूरा खोजबीन न करें तो .....कोई पूरा खबर पर नज़र नहीं रखता है .....अच्छा ई आमलेटवा को ..दिल्ली खेल गांव में सप्लाई कर दो ..वहां जरूरत है इसकी ...बहुते
_______________________________________________________
खबर :बंगाली तैराक कहलाने पर शर्म आती है :प्रशांत कर्माकर

नज़र :- लो ई का यार ...ई कौन बात हुआ ..अब मेडल जीतने के बाद कैसी शर्म आ रही है भाई ...यार जो ची कमलाडी मामा को आनी चाहिए ऊ तुमको आ रही है ....ई साला हो का रहा है है ..कसम उडानछल्ले की ....कोई कुछो बोले जा रहा है आयं बायं ...अबे काहे बे ..बंगाली तैराक कहलाने में शर्म आ रही है ..तो बिहारी तैराक बन जाओ ...फ़िर कहोगे कि न उससे ठीक तो बंगालीए है ...देखो मिठुन दा सुन रहे हैं ...और बाप्पी दादा भी सुन रहे हैं ..कह रहे हैं .." आम तो सोचा था कि आपना साढे सात किलो गहना में से एक ठु आम पारसांत को भी मेडल बना के देगा ....और तुम हो कि ....जाओ बेटा अब तो मिठुन दा ने भी कह दिया है कि ....वो जल्दी ही चीता , शेरा ,,,या कुछ भी बन कर तुमको जरूर डिस्को डांस कराएंगे ....चल बे शर्म आती है ...चल हट ..हुर्रर्रर्रर्रर्रर्रर्रर्रर्रर्र........।
_______________________________________________________

खबर :महिलाओं को आता है कम पसीना :बीबीसी रिपोर्ट

नज़र :- यार ये तो कसम से जुलुम है भाई ..अब यही बात कौनो और बोलता तो महिला मंच से एतना लट्ठ बजता कि ..महिला लोग का पसीना भी उसी को छूटने लगता ...मुदा देखो बीबीसी कह रहा है न ...और ओईसे भी ई बात कहने का कौपी किताब राईट ...सिर्फ़ इसी को है ..अरे गौर फ़रमाईये तनिक कंस्ट्रेट करके हुजूर ...बीबी .....सी ...। माने तो घरवाली सी ..तो उहे न बताएगी कि पसीना कम आता है .....यार अब शॉपिंग करने में का पसीना आएगा ..जो आता है उसको आता है जिसका बटुआ होता है ...। ओईसे हमको ई बात पर भी सक है कि ...आता तो है ..मगर ऊ लोग ..अपना मेकअप के सामान में ..जरूर कौनो ..पसीना सोखना रखती होगी ...। अरे हां ऊ कौन एड था रे .....जिसमें ऊ गजनी की सजनी ..( अरे ऊ कौन आसन ...नहीं नहीं आसिन ..हां ) खूबे जोर से बताती है कि देखो ई सोखना लगाईये ..और पसीना सोखाईए ...तब ...तो उको बीबीसी कुछो नहीं कहिस ...अरे छोडो छोडो ....बीबीसी है तो कुछो कहेगा तो मान लेंगे का ...
_______________________________________________________
खबर :मल जल से घरों को गर्म करने की पहल : बीबीसी रिपोर्ट

नज़र :- राम राम राम राम .....ई का हर्बल खबर डाल दिए हैं हो ....साईट पर ...अब पादने ..और त्यागने से ...तो जो भी निकलेगा गर्मे होगा ...ऊ से चाहे घर को गर्म करिए कि ...रजाई के भीतर घुस कर अपने आप को ...राम राम ....ई मा कौन साईंस फ़िजिक्स कैमिस्ट्री है यार ....ई बीबीसी तो बौरा गई है लगता है ...,..बताईये तो ..ई इहां पहल कर रहे हैं ..अरे हमरे इहां तो कबे से पहल दूसर तीसर और जाने केतना तक पहुंच गया है स्कोर ..। अरे तीन बुडबक नहीं देखें है हो ...ऊ में ऊ कौन था मूत्र विसर्जन वाला ...हां चतुरलिंगम ....ऊ का दोहवा याद है न ..वही धुचुक धुचुक ..आ ...सुरसरीय प्राण कटकम ....बताईये ..तभियो भांज रहे हैं कि ..पहल करेंगे ...साला मल जल तो अईसे लिखा मानो ...कौनो नयका ..शीतल .....प्रोडक्ट लॉंच करने जा रहे हो बे ...ऊंहूंहूंहूं .....केतना गनहा गया ..सब लिखते लिखते ..भक ..चलो अगला खबर देखें ..
_______________________________________________________

खबर :कसाब की वजह से बिग बॉस-4 से जाना पड़ा: काजमी

नज़र :- आयं ...क्या के रिए हो ओकील स्साब .....अमां ये कहो मियां कि कसाब की वजह से आपको बिग बॉस में एंट्री मिली ...वैसे ये कसाब की पैरवी करके ये आपने जो ....वो क्या कहते हो यार आप लोग ..नापाक हरकत की थी उस हिसाब से तो आपको ..पाकिस्तान में एंटी मिल जानी चाहिए थी ...मगर ये अपने चैनल वाले ....कुछ पगलाए हुए से रहते हैं ...इस बार तो जईसन लोग को ई लोग बुलाए हैं उससे ..तो ईका नाम ...सीज़न फ़ोर .....नहीं बल्कि ....सीज़न चोर ...रकह देना चाहिए था ...चलिए फ़िर भी आम पब्ल्कि ने तो सब ठीक कर ही दिया न .....अरे आप काहे घबराते हैं ...अभी तो अफ़ज़ल कसाब जईसन केतना क्लाएंट मिलेगा आपको ...अभी तो कसबवा का अपील उपील में भी बहुत फ़ेमस होंगे आप ...बिग बॉस चाहते हैं कि ....आप वहीं रहिए ..।
____________________________________________________
खबर :काम करें या मौज रोज मिलेंगे दो हज़ार सांसदों को

नज़र :- हा हा हा ...ई बताने वाला कौन बात था जी .....ऊ तो हम लोग के पते है कि ..नेतवा लोग चाहे काम करें ...आकि मौज करें ..आकि इनमें से कुछो नहीं करें तईयो इनका दो हज़ार तो सरकार के खाता से जईबे करेगा ...ओईसे ई काम करते हैं ई लोग नहीं नहीं हम लोग के कौनो बात पर ऑब्जेक्शन नहीं है कतई नहीं ....बस ओईसे ही अपना जेनरल नॉलेज बढाने के लिए पूछे हैं ...काहे से कि बच्चा सब पूछ रहा था कि ...जो ई नेतवा सब एतना बडा बडा भाषण छांटता है ...ऊ लोग को काम करते हैं ..काहे से भाषण के बाद ..इनका सबका थोबडा खाली ऊ ..घोटाला , जेल , सजा में ही दिखाई देता है .....लेकिन यार एतना महंगाई में खाली दो हज़ार ...ई तो अन्याय है जी एकदम सरासर अन्याय है ..कह दे रहे हैं ई नहीं न चलेगा .....

_______________________________________________________

खबर :जज की नियुक्ति के लिए कंप्यूटर ज्ञान अनिवार्य : सुप्रीम कोर्ट

नज़र :- अरे ले लप्पड लप्प ...ई का बात बोल दिए मीलार्ड ..हाकिम जी ...का कह रहे हैं ....सचे का ...हें हें हें हें .....एगो बात बोलें ..तब तो ई जौन जो आपके जज लोग हैं न ...आऊर हम लोग ..बोले तो बिलबिलाते रहने वाले बिलागर (ब्लॉगर) लोग में कौनो खास अंतर नहीं है ...पूछिए कैसे ...अरे पूछिए पूछिए ....हम लोग कोई राष्ट्रपति नहीं न हैं जो चौदह दिन लगाएंगे जवाब देने में ...तो ऊ अईसे कि ...हम लोग के लिए भी तो एही रुलवे लागू है ....कि जौन भाई बहिन , माता , चाचा चाची को ...कंप्यूटर का अनिवार्य ज्ञान नहीं है ...ऊ ब्लॉगर नहीं बन सकता .....। ए सुनिए न ....अरे आप तो ठिठियाने लगे ...अरे सीरीयसली ....एक ठो ऑफ़र लीजीए न ...जब क्वालिफ़िकेशन सब सेमवे है तो ...काहे न अईसा किया जाए कि .....आप लोग में से कुछ लोग को हम लोग ....अपने ब्लॉगर में शामिल कर लें ....और हम लोग में से कुछ को ........हें हें हें ....समझ रहे हैं न .....का बात करते हैं ...अब ई से जादे खोल के का कहें मालिक ..देखिए ....तनिक ठंडा मन से सोचिएगा हो ...तो आपको भी दम नज़र आएगा ..ई बात में ...
_______________________________________________________
खबर :शिल्पा और प्रीति की टीमों की छुट्टी

नज़र :- अरे इत्ती जल्दी ...अभी तो कौमन वेल्थ चलिए रहे हैं जी ..तो अभी से कईसे छुट्टी दे दिए जी ...हीरोईनी हैं तो का हुआ ..कौनो कंसेशन नहीं मिलेगा ...। आयं का कहे ..उनका क्रिकेट टीम का छुट्टी हो गया है ...अरे ई दुनु क्रिकेट खेलने लगी थी का ...कब से ...जभिए कहें कि ..ई लोग का पिक्चर काहे नहीं आ रहा है हो ..मैच की तरफ़ तो ध्याने नहीं दिए थे न .....का ...का मतलब ..ई लोग कौनो टीम ऊम खरीदा था ..ऊ सबका छुट्टी हो गया है ...माने अब ऊ लोग का टीम नहीं खेलेगा ...रे मर्दे ..केतना लपेट लपेट के समझाते हो इयार ....अरे होने दो ...ओईसे भी अईसन खबसूरत मलकिनिया सब रहे तो ....ससुरा छुट्टी भी सेलिब्रेट किया जा सकता है ....काहे का कहते हो ...तनख्वाह तो दईबे करेगी ...अरे पूरा यूपी बिहार लूट के बईठल है शिल्पा हो ...खाली पीली लोग केस ...लल्लू जी पर चलाया था ..
_______________________________________________________

खबर :सायकिल रेस में कुत्ते और बंदर भी पहुंचे

नज़र :- एक तो ई सार , कुकुर सब ..ई कौमन वेल्थ गेम्स का सबसे जादे सर्च रिजल्ट मिलने वाला फ़ैक्टर हो गया है ..जन्ने देखो ...खिलाडी पहुंचे न पहुंचे .....अधिकारी पहुंचे न पहुंचे ...एक तो ई कुकुर बंदर आउर दूसरका ऊ ..अरे जौन होता है ..तेज से भी सबसे जादे तेज चैनल वाला सब ..ऊ लोग मिल जईबे करता है ...बताओ यार ...केतना स्मार्ट है ..ई लोग ..काल से जब पहिलवानी आऊर ..तैराकी चल रहा था ..तो नहीं आया ...आता तो पिटाता न तो डूब जाता ...अब राईडिंग का मौका मिला तो आ गया ..ई बनरवा सब अभी कैसे फ़्री है हो ...आजकल तो राम लीला चल रहा है ..ई सबको भेजो ..राम जी के सेना में ...पुल बनाएगा ..आदमी लोग का बनाया पुल देख न रहे हो कैसे भुसभुसा के टूट जा रहा है ....
_______________________________________________________
खबर :स्वयंसेवी कर रहे थे राष्ट्रमंडल खेल टिकटों की कालाबाजारी

नज़र :- लो यार ई अच्छा मुसीबत है ...बेचारा लोग कुछ न करे तईयो गरियाता है सब ...पानी पी पी के आऊर ..अब जब बेचारा दु पैसा का मुनाफ़ा कमा रहा है ..तईयो लोग जान नहीं छोड रहा है ....अरे पॉजिटिव काहे नहीं सोचते हैं जी ..सोचिए कि केतना गजब का मल्टीप्लैक्श ईफ़ैक्कट ...अरे नहीं कुछ दूसरका इफ़्फ़ैक्ट होता है यार ...थ्री डी इफ़्फ़ेक्क्ट ..छोडो ......हां हां हंसिए हंसिए ..हमरी पुअर अंग्रेजी पर ..जो भी इफ़्फ़ैक्ट होता है न ..ऊ पडेगा ..पूरा दुनिया देखेगा तो कहेगा कि देखो ...कह रहा था कि टिकट नहीं बिक रहा है ...इहां तो ब्लैक मार्केटिंग हो रहा है .....मगर एक ठो बात समझ में नहीं आया रे ....जब एतना मारामारी है टिकट के लिए ...तो फ़िर ई लोग टिकट खरीद के स्टेडियम में तो पहुंचता नहीं है ..जाता कहां है फ़िर ..???
_______________________________________________________
खबर :अरबों खर्च के बाद भी नदियां प्रदूषित

नज़र :- धुर मर्दे .....ई का खबर हुआ जी ..पिछला जाने केतना साल से एके बात को लिखते रहते हो यार ....पहिले सौ , हज़ार, लाख लिखते थे ..अब उसको बदल के ..खाली करोड अरब कर दिए हो ..बकिया तो कॉपी पेस्टे है जी ..गंगा ,यमुना , और जो भी नदी है ..ऊ सब में प्रदूषण का पैसा नहीं खर्च होने के कारण बढा है ....अरे पैसा का बात नहीं है जी ...बात है पब्लिक का ..पब्लिक को समझाईये ..कि नदी , मिट्टी , पहाड , पत्थर , पेड ...सब है ..तो इंसान है ...न त बस आईये रहा है समय ...करते रहना महाप्रलय आ रहा है महाप्रलय आ रहा है ...और एके झटका में सब साफ़ हो जाएगा ..ई अरब भी आ सऊदी अरब भी ...मुदा पब्ल्कि को समझाने से पहिले खुद तो समझो न ई बात यार ..
_______________________________________________________

खबर :अब सरसों बिजाई के लिए एसपीएस राठौड ने मांगी पैरोल

नज़र :- का हो डीआईजी ..तबियत चंगा बा न ..मिजाज में कुछ राहत बुझाता .....न न ओईसे ही पूछे हैं महाराज ..कभी कौनो बहाने से तो कभी कौनो बहाने से ...ई पैरोल मांग रहे हो ..अबे ई पै रोल है ..कौनो साला फ़िल्मी रोल नहीं है कि तोहरा मुछिया देख के मिल जाएगा ..ने ही कौनो वेज या अंडा रोल है ..कि लप्प से लिए ...और गप्प से निगल लिए ..बेटा ई तो ऊ रोल है ..जो तुम लोग ..मुजरिम के पिछवाडे.......बंकिया तो आप खुदे केतना इंटेलिजेंट हैं ..एतना बडका अफ़सर हैं ...। आज खुश तो बहुत होगे तुम ....हायं ...
_______________________________________________________
खबर :मशक्कत के बाद अर्जुन मुंडा ने बांटे मंत्रियों के विभाग

नज़र :- अरे ए गुंडा ओह ! मुंडा जी ....का कर रहे हैं यार आप लोग ..ई एतना मशक्कत से तो पहिले ही आप लोग को कैसे कैसे करके तो ई झारखंड मिला है ...चुपचाप राज्य को झाड पोंछ के सजा संवार के तैयार करिएगा विकास करिएगा ..कि आप लोग जब देखो खुदे झाड पर चढे रहते हैं ...अरे एतना कहुं ..लडाई हुआ है ..ई गद्दी के लिए ..धू ..महाराज ....आप लोग के कारण ही वहां पर लोग इंसान से नक्सली नाम के जीव में बदलता जा रहा है ...अब बांट दिए न विभाग ....अब काम शुरू करिए ....अरे ऊ कहां हैं आजकल ..ऊ थे न एक ठो निर्दलीय ..हां कोडा जी ...उनको तो उलटा कर के अईसी जगह पर मधु डाल डाल के कोडा पर कोडा धरिए कि ...झारखंड का सारा माल अपने आप उगल कर रखे दें ..का ..समझे कि और समझाएं
_______________________________________________________
खबर :नेपाल को नहीं मिला नया प्रधानमंत्री

नज़र :- लो दुनु पडोसी का एके हाल है रे बहादुर ......प्रधानमंत्री हमही लोग के कहां मिला था ...बहुते खोजे ...तो एक ठो बहू मिली ....सब कहा न जी इटैलियन सप्लाई है ..का पता भारतीय पॉलिटिकल सॉफ़्टवेयर के साथ कंपैटबल हो न हो ...बहुत खोज खाज के तब हम लोग ..एक ठो सज्जन पुरूष ...ऊ बडे बैंक के चौकीदार थे ..जाने केतना बरस ....उनको घेंट पकड के बैठा दिए ..और बोले कि ...जय माता दी जय माता दी कहता जा ....जो होता है सहता जा ...। मगर देखिए न ...कुछ जमा नहीं ठीक से ..काहे से कि जब उनके अंडर में हम लोग बडका बैंक दिए थे तो ..केतना कमाल का ..हिसाब किताब था ..ऊ मदर इंडिया के हलवाई से भी बढियां ....मगर प्रधानी मिलते ही एकदम से ..सारा मेरिटे गडबडा गया है बेचारे का .....ओईसे हमारे इहां कैंडिडेट का कमी नहीं है जी ...लालू जी को ले जाओ ..और भी हैं ..पूरा लिस्ट भेजते हैं ..

_______________________________________________________
खबर :खालिस्तान आतंकी सहारनपुर में गिरफ़्तार

नज़र :- अबे तो इसमें उनकी क्या गलती है बे ...अब अगर पुलिस जनता के सामने वेरायटी नहीं देगी तो कम से कम आतंकी तो दे ही सकते हैं ....फ़िर कहां लिखा है कि खालिस्तान के आतंकी सहारनपुर में नहीं पकडा सकते ..हमने तो सुना है कि सहारनपुर वाले तो ..खुस हैं कि ...चलो गन्ना किसानों की आत्महत्या के बाद कोई बडी खबर तो छपी ..सहारनपुर के लिए .....हां था कौन ये गिरफ़्तार होने वाला ..यार अभी ऊपर की खबर पर ही पता चला था कि बेचारे ..ऊ कसाब के ओकील साहब ..काजमी साहब ....हाले में ..बेरोजगार हुए हैं ....देखो उनका कुछ जुगाड बन जाए तो ...न न ..ऊ आतंकी स्पेशलिस्ट हैं ..मान जाएंगे फ़ट से ...
_______________________________________________________

खबर :मुशर्रफ़ की हत्या करने पर एक अरब रुपए का इनाम : बलूची नेता

नज़र :- देखा मैं नहीं कहता था कि जरूरी नहीं कि पाकिस्तान में सब कुछ खराब ही होता हो ......अबे सीखो ..सीखो ..सीखो कुछ इनसे इंडिया वालों ....अपने नेताओं से निपटना खाली ऐसे ही कोरी भाषणबाजी से , आंदोलन से , बंद से ,,..नहीं होता है ...कुछ खर्च वर्च भी करना होता है भाई ....देखो तो कितनी दरियादिली से ...इत्ता बडा अमाऊंट अनाऊंस किया है ...कि मारने और मरने वाले को कम से कम ये शिकायत न रहे कि ..यार ये अंडर एस्टेमेटेड ..पेमेंट थी .....। कमाल का इत्तेफ़ाक है साहेब .....आखिर यूं नही कहता कोई कि भारत पाकिस्तान में बहुत सी चीज़ें कौमन हैं ....देखो भारत में आज से शुरू हुआ है ...कौन बनेगा करोडपति ....पाकिस्तान में शुरू हुआ है ..कौन बनेगा अरबपति ......
_______________________________________________________
खबर :बेहतर है राज्य सरकारें रिश्वतखोरी को वैध कर दें : सुप्रीम कोर्ट

नज़र :- ....अरे सर बेहतर ....हम तो कहते हैं कि बेस्ट है सर ..एकदमे बेस्ट है ......लेकिन सर ई अधिकार सिर्फ़ राज्य सरकार सब को ही काहे .,...केंद्र सरकार कौन पाप किया है .....देखिए देखिए ...ई तो नजायज बात है सर जी..दीजीए तो दुनो को एक समान दीजीए ...आखिर दुनु कमाएगा खाएगा ...तभिए न देश ...का भला हो पाएगा ।. सुन रहे हैं सरकार अब तो लाईसेंस भी मिल गया है ..तो हो जाए एक ठो एमरजेंसी संसद सत्र ..और फ़ौरन लागू किया जाए नयका कानून ....दीवाली नजदीक है ..देखिए लेट मत करिएगा ..इहां लोग बाग पहिले से ही मंदी के कारण केतना दुबराया जा रहा है जान रहे हैं ...तो फ़िर कब ला रहे हैं "...द रिश्वतखोरी एक्सैप्टेंस एंड लीगलाईज़्ड बिल और रिपब्लिक इंडिया ".......???

4 टिप्‍पणियां:

  1. इ का कहत हौ झा जी. बड़ा मजा आईल अऊर त अऊर ग्यानओ बढ़ल पढ़ि के. बहुतै बढिया ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपने तो पूरा अखबार ही पढ़ा दिया इस बार. आज सुबह-सुबह से पूरा भोजन, चूरन-चटनी का ही हो गया.

    उत्तर देंहटाएं

हमने तो खबर ले ली ..अब आपने जो नज़र डाली है..उसकी भी तो खबर किजीये हमें...

Google+ Followers