इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

रविवार, 17 जून 2012

संडे सन्नाट , खबरें झन्नाट .........











हम बांचते हैं अखबार अब , और रखते हैं अपना व्यूज़ ,
अरे मारिए गोली टीभी को , सुनिए टटका न्यूज़
(ई पेपर टीभी बाला सब त असलका बात गोल न कर जाता है )


मुलायम-ममता का सियासी दांव , कई नामों को आगे बढाया ,
आयं , अबे राष्ट्रप्ति चुन रहे हो कि , पिज़्ज़ा बना रहे हो भाया ,
(एक से एक गुलाटी मार रहे रोजिन्ना)


ल्यो जी सुने हैं राज़धानी फ़िर से गर्मी के चपेटे में है ,
तुमको गर्मी का पडा है, अबे इहां देश , चोर डाकू के लपेटे में है
(धो डालो अबके करो ऐसी बरसात देवा )


नहीं मिलेगा कोटे में कोटा , सुप्रीम कोर्ट का आदेश पर रोक लगाने से इंकार
ले लोट्टा , ई तो जुलुम हो गिया बे , अब भोट बैंक कैसे बनाएगी सरकार
(ई त हो गया बंटाधार )


जल्दी ही मिल सकती है पेट्रोल में और दो रुपए की राहत ,
सुनो बे सौ रुपए का कर दो ,उसी पेट्रोल से तुम्हारी चिता फ़ूंकने की है चाहत
(कसम से बहुत मचाए हो आफ़त ,  साला इहे हो गया है आदत )


नोएडा प्राधिकरण में अब ,उजागर हुआ 945 करोड का एक नया घोटाला ,
किस किस को रोइए , किस किस को कोसिए , एक से एक चोर है स्साला
(इन लोग का एक ही ईलाज है , पाई पाई जब्त करके सडक पे छोड दिया जाए)


प्रणब: बीमा कंपनियां करें घाटा कम करने के उपाय ,
कईसे जी कईसे , हर कोई कह रहा हमही को राष्ट्रपति दो बनाय
(एक ठो तो कोनो मुखर्जी दादा भी हैं उडी बाबा )


खाद्य मंत्रालय कर रहा है , विदेशियों को सस्ता गेंहूं देने की  तैयारी ,
अबे भेजो हमको भी बिदेस जल्दी , इससे पहले कि पहली खेप हो जारी ,
(लेकिन एक ठो बात सुनो बे हमारी , दस किलो की बोरी फ़िर काहे हमको पडती है भारी ...माने ई कनसेसन रेट इंडिया में काहे नय चालू करते हो बे मंत्रालय )


राष्ट्रपति की दौड में आगे आया  पीएम का भी नाम ,
हां त एकदम सुटेबुल है , न यहां कोई न वहां पर कोई काम ,
(मुंह पे लगा के बैठे रहें लगाम , बकिया टोटल करिए लेंगे मदाम)


ममता कलाम और कांग्रेस प्रणब मुखर्जी के नाम पर अडी ,
नाच रही राजनीति सरेआम , पब्लिक देख रही खडी खडी ,
(हाय ये कैसी आ गई रे घडी , बौने पड गए सारे दस्तूर , कुर्सी हो गई बडी)


कांग्रेस : 2014 तक पीएम बने रहेंगे मनमोहन ,बदलने का सवाल ही नहीं ,
जनता : तुम आने तो दो 2014 भूस भर देंगे खींच कर , बचेगी खाल ही नहीं
(बात करते हैं ..........अबे न हो यकीन तो पूछ लो अवाम से एक बार )


कृष्णा : अब पाकिस्तान को भारत के साथ सहयोग करना  होगा ,
बाह बाह चाब्बास , आ कसबवा के बिरयानी का बिल कब तक भरना होगा
(ए सुनिए हो मंतरी जी , कोई आप लोक का मरता ई हमला में तब देखते कि केतना फ़ुराता है आप लोग को ई भाषणबाजी)


सरकार ने यूरिया के दामों को बढाने का फ़ैसला टाला ,
काहे बढाइए दो न ,राजकोष खाली हो रहा होगा , इत्ता कर रहे  घोटाला ,
(तुमको जिता डाला तो लाईफ़ झिंगालाला झिंगालाला ....धुर मार साला )


आम आदमी को नहीं मिलेगी राहत आसमान पर पहुंचे खाद्य पदार्थों के दाम
आसमान पर ?? उफ़्फ़ जुलुम हो गया , पायलट भी हडताल पर हैं हाय राम
(जब जमीन वाले दाम नहीं पकड में आते तो आसमान के क्या खाक पकड में आएंगे )


अटकले तेज़ हैं कि पीएम वित्त मंत्रालय को खुद ही सकते हैं संभाल ,
जय हो ,एकदम करेक्ट , वो भी अंदर कर लें , देश का जो बचा हुआ है माल
(जब हो जाएं कंगाल , फ़िर ठन ठन गोपाल)


राष्ट्रपति भवन में दादा के पहुंचने की सुनाई दे रही आहट ,
ल्यो जब लास्ट में इहे हुआ फ़ाइनल तो फ़िर काहे इत्ता नाटक ,
(ई दीदी आ दादा का ट्वेंटी ट्वेंटी भेरी भेरी कंफ़ूजिंग होलो रे बाबा)


कौन होगा नया वित्तमंत्री , आधा दर्जन नामों पर कयासबाजी का दौर ,
काहे नहीं ,राष्ट्रपति पर कम हुआ है छीछालेद्दर , थोडा गंद मचा लो और
(एकदम घिना के रख दो बे , इहे न असली लोकतंत्तर है जी )


दिल्ली में पार्किंग शुल्क सौ रुपए ,प्रति घंटे करने का प्रस्ताव ,
छोडो नैनो,सैंट्रो ,और महारुति , फ़ौरन जाकर खरीद लो बे नाव ,
(हा हा हा पेटरोल से बचे तो पार्किंग से गए , सरकार के हथकंडे नए नए)


मंत्रालय : दस गुना ज्यादा कीमत पर बिक रही हैं दवाएं ,
दो जून की रोटी जिन्हें मयस्सर नहीं वो दस गुना की दवा कहां से खाएं ,
(फ़िर डाक्टर कहते हैं आमिर अईसा कार्यक्रम काहे बनाए , इत्ता सचमुच सचमुच डायरेक्टली दिखाए)


पानी का छाया संकट , दिल्ली-हरियाणा में बढ गई है तकरार ,
आओ अब कुंआं खोदें ,पानी के लिए नहीं , सब उसीमें कूद मरें अब यार,
(भाड में जाए दिल्ली और चूल्हे में हरियाणा , रोज़ रात को दो बजे हाय  पानी का मोटर पडे चलाना )


बिजली की मांग ने रिकॉर्ड तोडा , कटौती पर लोगों ने किया हाईवे को जाम,
बुलाओ पंडित, करो दाह संस्कार, अब लेकर हर मंतरी जी का नाम
(राम नाम सत्त है , कंडीसन बहुत पस्त है)


फ़ेसबुक , गूगल पस्त हैं , ट्विट्टर बाबा हैं तंग ,
शब्दों के शहतीरों , दिन रात हम लडे जा रहे जंग
(पब्लिक नंग धडंग , सियासत मस्त मलंग


महंगी हुई शराब , 100 करोड से अधिक कमाई करेगी अब सरकार ,
आदत बहुत खराब , ज़हर को महंगा कर कर के कब तक बेचोगे तुम यार
(पिलाते रहो पिलाते रहो , साकी , खून में ज़हर मिलाते रहो साकी)


जो हो गया हो फ़ाइनल नाम राष्ट्रपति का तो अब आगे काम बढाओ बे ,
महामहिम का अर्जेंटी नहीं है कोई , पहले शहर में बिजली-पानी लाओ बे
(दादा हो कि बाबा हो , साधु हो कि नागा हो , सोया हो कि जागा हो , का फ़र्क पडता है पब्लिक को)


मजदूर मर गया नींव के नीचे , किसान कर्ज़ के मारे करते रहे सुसाईड ,
दीदी का बात रखें या दादा का मान , सियासत ससुरी  करती रही डिसाईड.
(बाबा रे बाबा कि गोंडोगोलो होलो रे दादा , ई देस केतना रे अभागा)


दिल्ली एनसीआर में बिजली कटौती से लोगों में मचा गया हाहाकार ,
इहां मस्त होके , पच्चीस दिन से पति का नाम ही तय कर रही सरकार
(साला इससे फ़ास्ट रिजल्ट तो लल्लन मेट्रेमोनियल ..रिश्ते ही रिश्ते वाले दे देता ....चाहिए एक अदद पति ....राष्ट्रपति)

6 टिप्‍पणियां:

  1. 2 रूपये की अफ़वाह उड़ा के 92 पैसे में नि‍पटा दि‍या पेट्रोल

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी हमने भी देखा काजल भाई ससुरी गोरमिंट सबको क्लोरमिंट खिला रही है :)

      हटाएं
  2. ई समाचार पत्र तो ग़ज़ब की ख़बरें छापें हैं भाई .

    उत्तर देंहटाएं
  3. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    बेहतरीन रचना

    केरा तबहिं न चेतिआ,
    जब ढिंग लागी बेर



    ♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥

    ♥ संडे सन्नाट, खबरें झन्नाट♥


    ♥ शुभकामनाएं ♥
    ब्लॉ.ललित शर्मा
    **************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    उत्तर देंहटाएं
  4. किसी को तो छोड़िए,रखिए गुडबुक में
    कैसे जिएंगे कहिए,वरना इस जुग में!

    उत्तर देंहटाएं

हमने तो खबर ले ली ..अब आपने जो नज़र डाली है..उसकी भी तो खबर किजीये हमें...

Google+ Followers