इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

शनिवार, 30 जून 2012

यहां नलके भी प्यासे हैं ...........











देखिए मेरे शहर का हाल कैसा है


यूं तो मेरे शहर के मिज़ाज़ , अच्छे खासे हैं ,
तकलीफ़ है तो बस इतनी , यहां नलके भी प्यासे हैं ॥



:)


पडोसियों के घर से फ़ुल भोल्युम में , आ रही है टीवी चलने की आवाज़ ,
शायद सब देख रहे समाचारों के नाम पे क्या बकवास दिखा रहे हैं आज ..



:)


वो जो जिस टुन्नामेंट का पिछले दिनों रोज़ ही होता रहा चर्चा ,
नए कप्तान दादा ने सुना है अपने मैच का आज भरा है पर्चा ,
(कितना टाईम कर रहे खर्चा ...इसे जल्दी निपटाओ बच्चा । पका दिए हो कसम से , जेतना चर्चा पांच साल में नय होने वाला है पूरा कोटा अभिए निकाल दो .अबे चलो बे)


 :)

 ल्यो फ़िर पडा है पब्लिक के गाल पे सरकार का महंगाई का लाफ़ा ,
दिल्ली में , बिजली की कीमतों में 26 प्रतिशत का हो गया इज़ाफ़ा ,
(रेट देखिए घरेलू 24% , व्यावसायिक 19% आ औद्योगिक 20 % ....देख लिए न देश के इकोनोमिक्स वाले मनेजर रखने से इहे होता है ..घरेलू सबसे झमेलू आ झेलू है ..बकिया सब ठेलम ठेलू है)


 :)

ए हो भगबान जी , दिल्ली की गर्मी का हाल अब आपको और क्या बताएं ,
पवन देव तो राते से ड्यूटी पर आ गए ,आप वरूण देव की फ़ौरन पठाएं ,
(इंह्ह ई बरखा रानी न है ..इसलिए देर से ही आएंगी ...बरखा राजा होता त कब्बे ढुलकते हुए आ पहुंचता ..)

 :)


 ये कैसी रे चली हवा कि चहुं ओर मंत्रालय में आग रही है भभक ,
मंत्रालय के जलने का गम नहीं , एक भी मंतरी नहीं जल रहा है भक्क ,
(तभिए तो कहते हैं ..भक्क साला)


 :)

गर्मी और पानी की किल्लत से स्वास्थ्य सुविधाएं भी हो गईं बेहाल ,
ल्यो स्यापा , डाक्टरवा सब तो पहिले ही डिक्लीयर किहिस था हडताल ,
(कईसे बचबे रे मरीजवा रे ....मर गईल सबके ज़मीरवा रे )



:)


साला जो समोसा था चवन्नी का ,आज दस रुपए का मिल रहा सब ओर है,
ई इकोनोमिक्स वाला सब फ़िर काहे डिरिया रहा है , रुपैय्या हुआ कमज़ोर है
(अबे ई कमज़ोरी का लक्षण है बे ..बमपिलाट हो गया साला ..चवन्नी अठन्नी से एक रुपैय्या तक गायब है ...आ हजरवा का नोट खुदरा बन गया)


 :)

दिल्ल में बिजली दरों में 20 से 25 फ़ीसदी वृद्धि के दिख रहे हैं आसार ,
चलो बे चलें , लल्लन किराने वाले पे , खरीदें ललटेन मोमबत्ती यार ,
(ई ससुरी गोरमिंट तो कर दिहिस है बंटाधार , मन करता है डंटा लेके फ़ोड दें कपार )

:)

आखिरकार पत्नी समेत वीरभद्र पर भ्रष्टाचार का आरोप हो गया तय ,
जय हो , कांग्रेस की सरकार में करप्शन का खूब बना रहता है लय ,
(आउर जुलुम तो ई देखिए कि , भारत निरमान भी होता रहता है एकदम्मे से)



:)


आम आदमी को कोई राहत नहीं , आरबीआई ने किए रस्मी एलान ,
हमें इसकी को है भी चाहत नहीं , बैंक भी क्या कोई कम करती है परेशान ...
(लाखों का कर्ज़ हो जाता है माफ़ , आ थोडे से कर्ज़ के नीचे दबता है किसान)


 :)

 बसपा का आरोप : यूपी में कई समानान्तर सीएम चला रहे सरकार ,
अबे तो का हुआ , केंद्र में भी तो कै ठो पीम देश का कर रहे बंटाधार ,
(ल्यो मेडम्म , मेडम्म का बेटवा ,मेडम्म का पिरधान जी , मेडम्म का लुंगी मंतरी ..अबे छोडो ..सब टोटल पीएमवे न है आजकल , पीएम बोले तो पालतू मंतरी , और क्या )



:)

 जोगी : संगमा को आदिवासी के नाम पर वोट मांगने का नहीं है कोई हक ,
आदिवासी हो कि मंगलवासी , किसी नाम पर बस वोट मिल जाए बुडबक
(इंह्ह बूझते नहीं है क्या हो ..उनको महामहिम है बनना हो)


 :)

कहीं दूषित जलापूर्ति तो कहीं बिल्कुल ही सूखे पडे हैं नल ,
अबे आज का रोना मत रो बे , ये सोच कि तेरा क्या होगा बे कल ,
(बेटा चल चल चल और भी तेज़ चल , ये धरती रही रे जल )


 :)

 
बोले हैं दादा प्रणब : वित्तमंत्री के रूप में बडे फ़ैसले जनहित में लिए ,
अच्छा, हम तो गरियाते रहे पिरधान जी को कि , उहे थे बंटाधार किए ,
(चलिए अब लोडबो , कोरबो , जीतबो रे गाते हुए भवन में टहलान के लिए जाइए )


:)
 

 दिल्ली की CM शीला दीक्षित ने दिए बिजली के दाम बढाने के संकेत ,
हाय हाय पेट्रोल के बिजली , महंगाई का सांड , देखो चरता जाए खेत,
(पैसा हो गया रेत , फ़िसलता जाए रे , लुढकता जाए रे)


 :)

केंद्रीय मंत्री वीरभद्र पर चलेगा भ्रष्टाचार का केस ,
कौन कमाइस कितना , अब तो इहे चल रहा रेस ,
एक ही थैली के हो चट्टे बट्टे बे , बेशक अलग है फ़ेस,
तुम लोग का एक ईलाज पिछवाडे पेट्रोल छिडक के माचिसिया दो लेस

(आ गनवा लगा दो ....हो रहा भारत निरमान )



:)


 ल्यो भैय्ये सुने हैं एक ठो और आतंकी अबू हमज़ा गए हैं आज धरा ,
कहां गए रे भनसिया/खानसामा , बिरयानी की एक ठो और पतीली चढा ,
(जय हो बहुत बडी सफ़लता है ई ..उछलते रहिए , कूदते रहिए आ मरते कुढते रहिए)


:)
 

 बहुत बडी ,अरे बहुते बडी सफ़लता मिली , हुआ अबू हमज़ा गिरफ़्तार ,
कसाब को पकड के जो कर न सके कुछ , अब वो घंटा लेंगे उखाड ..
(का तो इससे बहुत बडा खुलासा होगा मुंबई हमले के केस में , अबे बचा का है खुलासा करने को बे)


 :)

अजब देख रहे हैं इस पगलाए से मीडिया का हाल ,
हर चैनल पर कल से देख रहे हैं सरबा आतंकी अबू जिंदाल ,
(कहा , कैसे ,कब , पादा हगा लघुशंका किया सब पर फ़ुटेज मौजूद है मीडिया के पास , साला पकडा इतना लेट काहे गया , पता नहीं )



:)


हुक्मरानों ,काश कि कभी तुम्हारे साथ भी यही सब जो हो गया होता ,
कुछ मीलों के फ़ासले पर कैद अपने के लिए , पूरा शहर रो गया होता ..
(नहीं तुम नहीं समझोगे इस दर्द को , किसी अपनों को नहीं खोकर भी खोने का दर्द क्या होता है)


 :)


ल्यो और सुनो , भारत पाकिस्तान के बीच बढ गई है से अविश्वास की खाई,
काहे बे , इत्ती फ़ैसलिटि के साथ तो कसाब को , हमने बिरयानी है खिलाई ,
(ओईसे दुन्नों को एक दूसरे पर विश्वास ही कब था भाई ???? )



:)




सब कुछ ज़ायज़ बा हो , परेम आ जंग मा ,
जोर लगा के दौडत बा , जभिए पी ए संगमा
(जोर लगा के हईशा ..जोड लगा के हईशा ..पकडे रहना छोडना मत ..पकडे रहना छोडना मत)


:)




प्रणब के बाद , प्रधान मंत्री खुद ही संभालेंगे , वित्त मंत्रालय ,
अच्छा चलो ठीक है , लेकिन ये बताओ वे , कित्ते का बनवाएंगे शौचालय ..
(अमां बडे आदमी हैं तो बडी बात और बडा ही शौचालय चाहिए न होगा योजना निर्माण के लिए)


 :)

 गृह मंत्रालय के दफ़्तर में लगी आग ,लगने के कारणों का नहीं चला बता ,
हा हा हा जियोह्ह बेट्टा !अबे हमीं से पूछ लेते , इत्ता तो हमीं देते बता ..
(बताएं का हो ??)


 :)

 राष्ट्रपति पाटिल ने अपने कार्यकाल में 35 की फ़ांसी ,उम्रकैद में बदली ,
एक दुविधा है मन में , न्यायपालिका नासमझ थी , या समझदार है अगली
(दुनिया तो है पगली .....)


 :)

थोडे मजबूत बनो तुम अब तो ,ये सियासत की बदगुमानी का दौर है ,
ये जो हमारे ही बीच से सर पे जा बैठा है हमारे, हमसा ही है , नहीं और है
(इसलिए इसका घेंट पकड के नीचे खींचिए और फ़िर से अपने बीच ले आइए , अब राजनीति में नॉन पॉलिटिकल लोगों का दखल बढना चाहिए )


:)




वीरभद्र सिंह को छोडनी ही पडी मंत्री जी की कुर्सी ,
अरिस्स साला वीर भी आ भद्र भी ,इनका तो पहिले ही होना था मिज़ाज़पुर्शी
(चीन में होते त भद्र परलोकगामी हो लिए होते इत्ती ही वीरता आ भद्रता के लिए ..भारत में हैं त क्या गम है)


 :)

जो कहते रहे रात चीख चीख कर ,लो कर रहे हैं तुम्हारे एक कैदी की रिहाई,
लो देख लो , सालों ने, सुरजीत और सरबजीत के बीच ही मार दी चतुराई .,
(ई अपनी गोरमिंट को कुछ समझ काहे नहीं आता है भाई , साले कसाब , अफ़ज़ल आ अबुआ को बैठा के खिला रही मुगलाई ....सब मौगा सब है साला )



:)


किंगफ़िशर का साथ , अस्सी इंजीनियर चले गए हैं छोड ,
हाय हाय ,ऐसा क्यों ,क्या सच में कसम खाकर ,उन्होंने बोतल दी है फ़ोड ..
(ओह धत तेरे कि अबे किंगफ़िशर उडान कंपनी की बात कर रहे हो क्या :)

8 टिप्‍पणियां:

  1. खबर की खबर तो बस आपके ही बस की है

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह खबर कुछ यूं लगी जैसे समाचार आज तक,... :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. धांसू पोस्ट है अजय, एकदम्मै अनूठी !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया सतीश भाई । बहुत बहुत शुक्रिया और आभार

      हटाएं

हमने तो खबर ले ली ..अब आपने जो नज़र डाली है..उसकी भी तो खबर किजीये हमें...

Google+ Followers